27 December, 2019

आस्तीनों में छिपे खंज़र ... ग़ज़ल... डॉ शरद सिंह


आस्तीनों में छिपे खंज़र  नहीं देखा किसी ने
साथ देखा और समझा आशना मेरा सभी ने


- डॉ शरद सिंह

#SharadSingh #Shayari #Ghazal
#World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh

19 December, 2019

बहानों के बादल में ... ग़ज़ल... डॉ शरद सिंह


बहानों के बादल में छुपता रहा वो
है बारिश का सूरज, मुझे पता न था
- डॉ शरद सिंह

16 December, 2019

"शिखण्डी ... स्त्री देह से परे" - मेरा नया उपन्यास - डॉ शरद सिंह


Shikhandi ... Stri Deh Se Pare - Novel of Dr (Miss) Sharad Singh
विश्व पुस्तक मेला 2020 में मेरा नया उपन्यास "शिखण्डी ... स्त्री देह से परे" महाकाव्य चरित्र शिखंडी पर एक नए पहलू के साथ ... - डॉ शरद सिंह 
 
Novel - Shikhandi ... Stri Deh Se Pare
Novelist - Sharad Singh

Publisher - Samayik Prakashan, New Delhi
3320-21 Jatwara,Netaji Subhash marg
Near Sablok Clinic, Daryaganj New Delhi 110002
E-mail: samayikprakashan@gmail.com
Website: www.samayikprakashan.com
Telephone: 011-23282733, 23270715
Telefax: 011-23270715

04 December, 2019

औरत होना एक सज़ा है ... डॉ शरद सिंह

औरत  होना  एक सज़ा है ... (शायरी ) - डॉ शरद सिंह
ये  तो  न  महसूस  कराओ 
औरत  होना  एक सज़ा है
सुंदर दिखती इस दुनिया का 
हर इक कोना एक सज़ा है
- डॉ शरद सिंह

#PriyankaReddy
#RIPHumanity 

28 November, 2019

डॉ शरद सिंह @ कनॉट प्लेस, सरवन भवन, नई दिल्ली

 Dr Sharad Singh @ Connaught Place, Saravana Bhavan, New Delhi
कनॉट प्लेस (Connaught Place), नईदिल्ली में एक साउथ इंडियन रेस्टोरेंट है- सरवन भवन (Saravana Bhavan) जहां मुझे मसाला डोसा से अधिक पसंद आया वहां का पीतल के लोटों से बनी पार्टीशन वॉल... कस्टमर्स के लिए वह एक सेल्फी प्वाइंट है... वाकई देखने और याद रखने लायक....  
😊🍪🥘🍟🍱 ☕
(02.11.2019, evening)
 Dr Sharad Singh @ Connaught Place, Saravana Bhavan, New Delhi
 Dr Sharad Singh @ Connaught Place, Saravana Bhavan, New Delhi
 Dr Sharad Singh @ Connaught Place, Saravana Bhavan, New Delh
 Dr Sharad Singh @ Connaught Place, Saravana Bhavan, New Delh

27 November, 2019

यादें... ग़ज़ल... डॉ शरद सिंह

किसी किताब में इक फूल सी दबी यादें
दिखी हैं आज हथेली पे वो रखी यादें
       - डॉ. शरद सिंह

05 November, 2019

साहित्य की भी बेड़ियां हैं तो फिर कैसे एक रचनाकार दुनिया को आजादी सौंपता...



साहित्य की बेड़ियां

साहित्य आजतक के मंच पर बाएं से आजतक के एंकर नवीन कुमार , भगवानदास
मोरवाल , डॉ. शरद सिंह साहित्य की बेड़ियां पर चर्चा करते
हुए।

27 October, 2019

रूप चतुर्दशी एवं नरक चतुर्दशी की हार्दिक शुभकामनाएं - डॉ शरद सिंह

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

Dr (Miss) Sharad Singh in Roop Chaturdashi 2019

08 October, 2019

दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं - डॉ शरद सिंह

Happy Dusshera - Dr (Miss) Sharad Singh
जो हृदय में सत्य हो तो
नाश  होता है  असत  का
है वही श्रीराम-सा,  जो
ध्यान  रखता है जगत का
- डॉ शरद सिंह

28 September, 2019

वरना वो भी सुधर गया होता ( ग़ज़ल )... डॉ शरद सिंह

 
Varna Vo Bhi Sudhar Gaya Hota ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh
  
ग़ज़ल
 
 - डॉ शरद सिंह
 
अश्क़ आंखों से  बह गया होता
दिल का दरिया उतर गया होता

ग़म को  रक्खा है  बंद  मुट्ठी में
वरना सब पे  बिखर गया होता

गर   कोई  इंतज़ार  करता तो
शाम  होते  ही  घर  गया होता

उसकी मां ने  उसे नहीं डांटा
वरना वो भी  सुधर गया होता

वो 'शरद' को अगर समझ लेता
दुश्मनी को बिसर गया होता
---------------

हलफ़ उसने उठा रक्खा ( ग़ज़ल )... डॉ शरद सिंह

Halaf Usane Utha Rakha ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

 ग़ज़ल 

 - डॉ शरद सिंह

जला भी दो बही-खाता, भलाई का,  बुराई का
हलफ़ उसने उठा रक्खा है हमसे बेवफ़ाई का
---------------


#SharadSingh #Shayari #Ghazal
#World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh #बेवफ़ाई #भलाई #बुराई #हलफ़


18 September, 2019

My Life - Dr (Miss) Sharad Singh ... My Poetica - 8

My Life - Dr (Miss) Sharad Singh ... My Poetica 
My Poetica - 8
My Life
-----------
One drop tear
One drop dew
Few drop memories 
Equal to -
My life so far ...
- Dr Sharad Singh

27 August, 2019

दिल भर गया रोशनी से - डॉ शरद सिंह

Dil Bhar gaya roshani se..  ... poetry of Dr (Miss) Sharad Singh
 कविता
एक भोर
पंख लगा कर आई
नन्हीं चिड़िया-सी
बैठ गई मन की मुंडेर पर
और दिल भर गया रोशनी से।
- डॉ शरद सिंह


21 August, 2019

चाय का गिलास और ... - डाॅ शरद सिंह

Cheers by A Glass of Chai  - Dr (Miss) Sharad Singh
चाय का गिलास और मुट्ठी भर चिंतन
खुद ही आ जाती है लेखन में थिरकन
- डाॅ शरद सिंह

27 July, 2019

हाल लिखा पूरी तफ़सील से .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Haal likha Poori Tafsil se ... Ghazal By Dr (Miss) Sharad Singh


हाल   लिखा  ....
मेज   के    धरातल   पर  कील से
हाल   लिखा   पूरी    तफ़सील से
तुम शहरी, दोष भला तुमको क्या
हम   ही   हैं   छोटी   तहसील से
बच्चों   से   जिद्दी  हालात, 'शरद'

बहलेंगे   कौन - सी  दलील  से ?
- डॉ शरद सिंह

( मेरे ग़ज़ल संग्रह 'पतझर में भीग रही लड़की' से)

26 July, 2019

उसको जा के कह दे कोई .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Usko Ja Ke Kah De Koi ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

उसको जा के कह दे कोई
हमें बेवज़ह नहीं सताए
राज़ कई खुल जाएंगे फिर
हम भी जो कहने पे आए
 - डॉ शरद सिंह

02 July, 2019

कांटों से फूल चुनता है .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Kanto Se Phool Chunta Hai ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

 कांटों से फूल चुनता है
 -----------------------
वो जो कांटों से फूल चुनता है
दिल मेरा ख़्वाब उसका बुनता है
वो न बोले तो  कोई बात नहीं
लम्हा-लम्हा उसी को सुनता है
- डॉ शरद सिंह

22 June, 2019

सेल्फी .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Selfie ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

 सेल्फी
खुद से सबको जोड़े रखती कला सेल्फी की
निपट अनाड़ी पे भी सजती कला सेल्फी की
दर्पण के आगे हों, या फिर घाट, पहाड़ों पर
मन में खुद से ही है जगती कला सेल्फी की

- डॉ शरद सिंह

19 June, 2019

तौबा-तौबा .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Tauba Tauba ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh


तौबा-तौबा 
गुनाहे - इश्क़ से तौबा-तौबा
तुम्हारे रश्क़ से तौबा-तौबा
तुम्हारी याद में रो कर देखा
किया फिर अश्क़ से तौबा-तौबा
- डॉ शरद सिंह




life line - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Life Line - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

My_Poetica - 6
19 June 2019

life line
-----------
-
life line of love -
faith
trust
and believe.
if it is not
you can leave...!
- Dr (Miss) Sharad Singh

16 June, 2019

वे थे मेरे पिता... डॉ शरद सिंह ... फादर्स डे पर...

Ve the mere Pita... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh on Father's Day
    Father's Day  पर अपने पिताजी को याद करते हुए... जिन्हें अपने बचपन में ही मैंने खो दिया था....

बचपन में ही  छूट गई थी उंगली  जिनकी
वे  थे  मेरे  पिता,  याद  आती  है   उनकी
धुंधली-सी स्मृतियां  ही  हैं  थाती अब तो
मैंने अनुभव  की  है पीड़ा मां के मन की
- डॉ शरद सिंह

#FathersDay

15 June, 2019

जवाब भी पूछो .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Jawab Bhi Puchho ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

जवाब भी पूछो
क्यूं  न  आए थे  ख़्वाब  भी पूछो
करवटों   का   हिसाब  भी पूछो
इश्क़ मुश्क़िल सवाल है लेकिन
इक  दफ़ा  तो  जवाब  भी पूछो
- डॉ शरद सिंह


 #DrMissSharadSingh

In love - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

In love - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

My Poetica - 4
15 June 2019


In love
---------

Love teaches lots
In life
And
life teaches lots
In love.

- Dr (Miss) Sharad Singh

13 June, 2019

Fantasy - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh


Fantasy - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh
My Poetica - 2
13 June 2019


Fantasy
------------
Love is not fantasy
But Fantasy
can make
A lovely world of love.
- Dr Sharad Singh

12 June, 2019

Real Love - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Real Love - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh
 My Poetica - 1
12 June 2019


Real Love
-------------
Real love not a spark
But a spark can produce
Real Love...
- Dr (Miss) Sharad Singh


They can never kills... - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

They can never kills... - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

They can never kills...
-------------------------
She brutally killed...
Not only she
They killed our fearlessness
They killed our faith
They killed our peace.
But they can never kills
our emotions and soul.
So let us stand against them who killed
our innocent little girl.
So that they can't do it again.
- Dr (Miss) Sharad Singh


I love to love - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

I love to love - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

I love to love
--------------------
Love has no barrier...
I have had listened that.
So, what are differences between religions?
Why they build up walls
on the way of love.
whereas, I have had listen...
Religion is also a form of love!
So, I love to love
without any fear...
That means I'm religious..
Oh yes indeed, Dear !!!
- Dr (Miss) Sharad Singh


On World Environment Day... Toxic air - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

 
On World Environment Day...  Toxic air - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

On World Environment Day...
  Toxic air
-------------
Air is dying by suffocation
Dying the breath of mother earth,
By polluted toxic air.
And
We getting awards
for reduce air pollution.
How are we shameless, careless, futureless...
- Dr (Miss) Sharad Singh


Love's Truth - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Love's Truth - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Love's Truth
---------------
You know,
your love is precious
like my diamond earring
Which gave to me my mother on my eighteenth birthday. Now...
They both are completed me. After my breakup with you...
Truth is that...
They both are
not in my choice
but in my life...
- Dr (Miss) Sharad Singh


Sore Memory - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Sore Memory - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Sore Memory
---------------------
In my dream's cage
Lives a bird
of your sore memory
Now I am going to free him Before that I start hating
my own love story.
-Dr (Miss) Sharad Singh


Silence - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Silence - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Silence
-------------
Our silence
mess up our culture
sink our power
broken our character
sometimes -
Silence ruins our future...
So rise the voice, against Our own silence,
Sometimes.....
- Dr (Miss) Sharad Singh


Evening - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

 
Evening - Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

Evening
-------------
The evening comes
with a bale of memories
If away the person,

which should be near,
at front of eyes
as evening star.
- Dr (Miss) Sharad Singh

 

#PoetryOfMissSharadSingh
#evening #bale #memories #person
#evening_star

आपराधिक हो चला वातावरण ...(ग़ज़ल) - डॉ शरद सिंह

Aapradhik Ho Chala Vatavaran ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh
उन सभी बच्चियों को याद करते हुए जो आज जीवित होतीं अगर समाज में दरिंदे न होते...

आपराधिक हो चला वातावरण
हो चला संदिग्ध सबका आचरण
जब सुरक्षित ही नहीं हैं बच्चियां
उठ गया इंसानियत का आवरण

- डॉ शरद सिंह