27 August, 2019

दिल भर गया रोशनी से - डॉ शरद सिंह

Dil Bhar gaya roshani se..  ... poetry of Dr (Miss) Sharad Singh
 कविता
एक भोर
पंख लगा कर आई
नन्हीं चिड़िया-सी
बैठ गई मन की मुंडेर पर
और दिल भर गया रोशनी से।
- डॉ शरद सिंह


21 August, 2019

चाय का गिलास और ... - डाॅ शरद सिंह

Cheers by A Glass of Chai  - Dr (Miss) Sharad Singh
चाय का गिलास और मुट्ठी भर चिंतन
खुद ही आ जाती है लेखन में थिरकन
- डाॅ शरद सिंह

27 July, 2019

हाल लिखा पूरी तफ़सील से .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Haal likha Poori Tafsil se ... Ghazal By Dr (Miss) Sharad Singh


हाल   लिखा  ....
मेज   के    धरातल   पर  कील से
हाल   लिखा   पूरी    तफ़सील से
तुम शहरी, दोष भला तुमको क्या
हम   ही   हैं   छोटी   तहसील से
बच्चों   से   जिद्दी  हालात, 'शरद'

बहलेंगे   कौन - सी  दलील  से ?
- डॉ शरद सिंह

( मेरे ग़ज़ल संग्रह 'पतझर में भीग रही लड़की' से)

26 July, 2019

उसको जा के कह दे कोई .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Usko Ja Ke Kah De Koi ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

उसको जा के कह दे कोई
हमें बेवज़ह नहीं सताए
राज़ कई खुल जाएंगे फिर
हम भी जो कहने पे आए
 - डॉ शरद सिंह

02 July, 2019

कांटों से फूल चुनता है .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Kanto Se Phool Chunta Hai ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

 कांटों से फूल चुनता है
 -----------------------
वो जो कांटों से फूल चुनता है
दिल मेरा ख़्वाब उसका बुनता है
वो न बोले तो  कोई बात नहीं
लम्हा-लम्हा उसी को सुनता है
- डॉ शरद सिंह

22 June, 2019

सेल्फी .. ( ग़ज़ल ).. - डॉ शरद सिंह

Selfie ... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh

 सेल्फी
खुद से सबको जोड़े रखती कला सेल्फी की
निपट अनाड़ी पे भी सजती कला सेल्फी की
दर्पण के आगे हों, या फिर घाट, पहाड़ों पर
मन में खुद से ही है जगती कला सेल्फी की

- डॉ शरद सिंह