22 May, 2021

अंधेरा घिरने पर | कविता | डॉ शरद सिंह

अंधेरा घिरने पर
            - डॉ शरद सिंह

जब दुख बड़ा होता है
तो बौने हो जाते हैं शब्द
इतने बौने
कि नहीं पकड़ पाते हैं
दुख की उंगली
सीने पर हिमालय-सा बोझ
ओढ़ाने लगता है अवसाद की चादर 
आंसू धोने लगते हैं 
सुख के निशानों को
तब 
उठाने लगते हैं सिर अनेक प्रश्न -
जीना अब किसके लिए
जीना अब क्यों
क्यों भटकना एक अदद
फैमिली पेंशन के लिए
क्यों लगाना दफ़्तरों के चक्कर
क्यों विश्वास करना किसी घोषणा का
क्यों चुकाना टैक्स दुनियाभर के
क्यों उम्मीद करना कि कोई
पोंछेगा आंसू आकर
क्यों ख़्वाब देखना कि कोई
देगा साथ जीवन भर

जबकि
साया भी साथ छोड़ देता है 
अंधेरा घिरने पर।
       ----------------

#शरदसिंह #डॉशरदसिंह #डॉसुश्रीशरदसिंह
#SharadSingh #Poetry #poetrylovers
#World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh 

7 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 23 मई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी कविता को "पांच लिंकों का आनन्द" में शामिल करने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार यशोदा अग्रवाल जी 🙏

      Delete
  2. सवालों के समंदर में गलती से अगर डूब जाए इंसान तो निकल पाना अपने आप में एक जद्दोजहद है! यही उधेड़बुन कब अवसाद की शक्ल में बदल जाए पता ही नहीं चलता! इसलिए मानसिक स्वास्थ पर जागरूकता बेहद ज़रूरी है! अब तो फिर भी लोग समझने लगे हैं पर भ्रांतिया बहुत सी अब भी है इस मुद्दे पर! बात करने से और सुनने से ही आगे बढ़ेगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, भावना वरुण जी, हार्दिक धन्यवाद 🙏

      Delete
  3. जिन बातों को कभी सोचा भी नहीं होगा वही जीवन में उतर आई हैं ।
    शरद जी , अपना भी ख्याल रखिये ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, संगीता स्वरूप जी, बहुत-बहुत धन्यवाद 🙏

      Delete