शुक्रवार, मई 05, 2017

अंदर की आवाज़ .. .- डॉ शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

अंदर की आवाज़
             - डॉ शरद सिंह
एक दिन
जब मन की कोमल, महीन ध्वनियां
बदल जाती हैं अनहद नाद में
सोई हुई शिराओं में जाग उठती हैं #ऋचाएं
कंठ हो जाता है सामवेदी
गाने लगता है #प्रयाण-गीत
शब्द फूंकने लगते हैं दुंदुभी
और भुजाएं व्याकुल हो उठती हैं समुद्र-मंथन को
.... और सब कुछ बदल जाता है उसी पल
किसी सुप्त #ज्वालामुखी के फूट पड़ने जैसा
ठीक उसी समय पता चलता है अंदर की आवाज़ का
वह आवाज़ जो गढ़ती है एक नए #इंसान को पुराने इंसान के भीतर

--------------------------------

#InnerVoice #SharadSingh #Poetry #MyPoetry

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें