02 July, 2022

ग़ज़ल | प्यार की बातें करो | डाॅ (सुश्री) शरद सिंह

 


Ghazal - Nafraton Ke Daur Me .. Dr (Ms) Sharad Singh


ग़ज़ल

- डाॅ (सुश्री) शरद सिंह

नफ़रतों के  दौर में  मनुहार की बातें करो।

एकता की, मित्रता की, प्यार की बातें करो।

न मिले मौक़ा यहां  फ़िरक़ापरस्ती के लिए

आपसी सद्भाव की, सत्कार की बातें करो।

हम अमन औ शांति के पथ पर हमेशा ही चलें

विश्व में आतंकियों के हार की बातें करो।

-------------

2 comments: