02 January, 2022

नए साल में | ग़ज़ल | डॉ (सुश्री) शरद सिंह


"नवभारत" के रविवारीय परिशिष्ट में आज "नए साल में" शीर्षक ग़ज़ल प्रकाशित हुई है। आप भी पढ़िए...
नवभारत के लिए....

नए  साल  में
- डॉ (सुश्री) शरद सिंह

नए    साल   में    हर   नई   बात हो।
ख़ुशियों  की   हरदम ही  बरसात हो।

हो  इंसानियत    की    तरफ़दारियां
सभी  के  दिलों  में   ये  जज़्बात हो।

मुश्क़िल  जो   आई    गए  साल में
नए साल में   उसकी   भी  मात हो।

सभी  स्वस्थ  रह  कर जिएं ज़िन्दगी
दुखों का  न  कोई  भी अब घात हो।

‘शरद’ की  दुआ  है  अमन, चैन की
चमकता  हुआ दिन  भी हो, रात हो।
               ------------------

हार्दिक धन्यवाद #नवभारत 🙏
02.01.2022
#कविता #शरदसिंह #डॉसुश्रीशरदसिंह #DrMissSharadSingh #poetry #poetrylovers #poetrycommunity
#डॉशरदसिंह #SharadSingh #Poetry #poetrylovers #HindiPoetry #हिंदीकविता
#World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh

10 comments:

  1. आशा और विश्वास से भरी खूबसूरत ग़ज़ल .

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना सोमवार. 3 जनवरी 2022 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (03-01-2022 ) को 'नेह-नीर से सिंचित कर लो,आयेगी बहार गुलशन में' (चर्चा अंक 4298) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। रात्रि 12:01 AM के बाद प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
  4. नववर्ष की हार्दिक बधाई एवं ढेरों शुभकामनाएँ।
    सादर

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन अभिव्यक्ति।
    सस्नेह
    सादर।

    ReplyDelete
  6. सद्भावनाओं की ये कामना कुबूल हो शरद जी। नववर्ष मंगलमय हो।🙏🙏🌷🌷❤️❤️

    ReplyDelete
  7. वाह!!!
    बहुत ही लाजवाब गजल।

    ReplyDelete