मंगलवार, दिसंबर 03, 2013

वो ख़्वाबों में आए ....


20 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... बहुत ही लाजवाब ... कमाल का मुक्तक ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं

  3. अभिव्यक्ति का शिखर छू रही है ये रचना।, अभिनव और परम्परा गत प्रतीकों का सुन्दर निर्वाह हुआ है मय रूपक तत्व के। शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, बहुत ही उम्दा, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं