22 March, 2014

मैं खुश हूं ...

A poem of Dr Sharad Singh


I’m happy !
I am happy
You everybody around me
You did not send
An old age home, a pilgrimage
or in the shelter of a God
I have seen divinity in you
When you call me with love –
Mother, Grandmother, Granny!
This house is my temple
Leave me in my temple
To go to God...
- Dr Sharad Singh

6 comments:


  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन आठ साल का हुआ ट्विटर - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. घर और हृदय में इतना स्थान अवश्य हो।

    ReplyDelete
  3. माँ के मन के भावों को लिखा है ... सुन्दर शब्द ...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete