बुधवार, जून 14, 2017

प्रेम ... डॉ. शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh


प्रेम
-----
उसने
उसकी
कलाई को छुआ
और उसे पढ़ लिया
पूरा का पूरा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें