04 April, 2013

फ़सले कम हो चले हैं इन दिनों ....


8 comments:

  1. हमेशा की तरह बेहतरीन और खूबसूरत भी

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब ... कुछ अजब सिलसिले ही चलते हैं प्रेम की उमंग में ...

    ReplyDelete
  3. बहुत खुबसूरत पंक्तियाँ , फसले को फासले एडिट कर लीजिये .

    ReplyDelete
  4. बहुत खुबसूरत पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ...

    ReplyDelete