18 March, 2011

होली की हरारत...


137 comments:

  1. हरारत में शरारत ....:) :) होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढ़िया.

    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं!

    सादर

    सादर

    ReplyDelete
  3. हांथों में गुलाल और होली की हरारत ....के साथ होली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर होली गीत...आपको और आपके पूरे परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  6. वाह वाह सही कहा ……………होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. संगीता स्वरुप जी,

    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. यशवन्त माथुर जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  9. सदा जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद !
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  10. सत्यम शिवम जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  11. ओम कश्यप जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. वन्दना जी,
    आपका आना सुखद लगा ....हार्दिक धन्यवाद !
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  13. holi ki hararat men thodi see shararat mil jaaye to holi aur rangeen ho jayen.
    Holi ki hardik shubhkamanayen.

    ReplyDelete
  14. आदरणीय डॉ.शरद सिंह जी
    नमस्कार !
    सुंदर होली गीत...आपको और आपके पूरे परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  15. अतिसुंदर रंगमयी रसपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  16. अमित-निवेदिता जी,
    रंगपर्व होली पर आपको भी असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. रश्मि प्रभा जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  18. रेखा श्रीवास्तव जी,
    आपका आना सुखद लगा ....हार्दिक धन्यवाद !
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  19. संजय भास्कर जी,
    होली का पर्व आपके और आपके पूरे परिवार लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब! होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  21. संजय भास्कर जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया...
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    होली पर पुनः असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. कैलाश सी. शर्मा जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    आपका आना सुखद लगा ....
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...!

    ReplyDelete
  23. बहुत खूबसुरत.

    रंग-बिरंगी होली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  24. सुशील बाकलीवाल जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  25. इस हरारत में एक मुग्धता है।

    ReplyDelete
  26. होली की ढेरों शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  27. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  28. एक सहज भाव सम्प्रेषण है आपकी इस रचना में होली के रंगों की तरह ...आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें ...
    मेरे दुसरे ब्लॉग धर्म और दर्शन पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  29. आप सब को होली बहुत-बहुत मुबारक हो.

    ReplyDelete
  30. खामोशी भी और तकल्लुम भी ,
    हर अदा एक क़यामत है जी
    @ आप कितना अच्छा लिखती हैं ?
    मुबारक हो आपको रंग बिरंग की खुशियाँ .
    हा हा हा sss हा हा हा हा ssss

    http://shekhchillykabaap.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

    ReplyDelete
  31. हम आपके फोलोअर बनना चाहते हैं , लेकिन आप्शन बंद है शायद ?

    ReplyDelete
  32. बहुत बढ़िया ..... होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  33. प्रवीण पाण्डेय जी,
    आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  34. समीर लाल जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद....
    आपको भी रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  35. Er. सत्यम शिवम जी,
    हार्दिक धन्यवाद
    आपने मेरी काव्य-प्रस्तुति को कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत करने योग्य माना...आभारी हूं...
    उत्सुकता से प्रतीक्षा है....

    रंगपर्व होली आपको असीम खुशियां प्रदान करे..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  36. केवल राम जी,
    आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  37. विजय माथुर जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद....
    आपको भी रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  38. शेखचिल्ली का बाप....,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है
    आभारी हूं आपकी विचारों से अवगत कराने के लिए।

    आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  39. डॉ॰ मोनिका शर्मा,
    आपका आना सुखद लगा ... हार्दिक धन्यवाद !
    रंगपर्व होली आपको असीम खुशियां प्रदान करे..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  40. होली की हरारत,बहुत खूब.....
    होली के सुअवसर पर आप और आपके परिवार को होली की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  41. आपने मेरे आग्रह को स्वीकार करते हुए मेरे ब्लॉग "धर्म और दर्शन" पर अपनी अमूल्य टिप्पणी की , आपने इस ब्लॉग का अनुसरण कर मुझे उत्साहित किया आपका आभारी हूँ ...आशा है आपका मार्गदर्शन यूँ ही मिलता रहेगा ..आपका पुनः धन्यवाद

    ReplyDelete
  42. होली के शुभ अवसर पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं बहुत अच्छी रंग भरी कविता |
    आशा

    ReplyDelete
  43. बहुत खूब, आपको होली की हार्दिक शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  44. भई होली तो शानदार है,
    मतलब कलम की पिचकारी से निकली शब्दों के रंग के रूप में कविता।
    होली मुबारक़!!

    ReplyDelete
  45. sundar hridaya grahi rachana ke liye sadhuvad
    . holy mubarak .

    ReplyDelete
  46. आँखों में शरारत, होली की हरारत.............वाह,क्या बात है.

    हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.
    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete

  47. दो शब्दों में पूरा लेख लिख दिया ...आप अपनी बात कहने में कामयाब हैं डॉ शरद सिंह !
    शुभकामनायें होली पर !

    ReplyDelete
  48. सुंदर अंदाज।
    कम शब्दों में पूर्ण अभिव्यक्ति की कला मंत्र मुग्ध कर देती है ।
    ..होली की ढेर सारी शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  49. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति दी है आपने होली की. चंद लफ़्जों में पूरी होली की सुंदरता को अभिव्यक्त कर दिया. बेहद सुंदरतम.

    होली पर्व की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  50. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  51. सुनील कुमार जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    ReplyDelete
  52. केवल राम जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  53. आशा जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद ...
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  54. पी.सी.गोदियाल परचेत जी,
    आपका सदा स्वागत है...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    ReplyDelete
  55. मनोज कुमार जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  56. होली की हार्दिक शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  57. उदय वीर सिंह जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया...
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  58. कुंवर कुसुमेश जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    रंगपर्व होली आपको ...
    असीम खुशियां प्रदान करे..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  59. सतीश सक्सेना जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    रंगपर्व होली आपको - - -
    असीम खुशियां प्रदान करे..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  60. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  61. ताऊ रामपुरिया जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  62. रवीन्द्र प्रभात जी,
    आपका आना सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    ReplyDelete
  63. विजय जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है....
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  64. कमाल है ,बधाई

    सुरक्षित , शांतिपूर्ण और प्यार तथा उमंग में डूबी हुई होली की सतरंगी शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  65. बहुत सुन्दर ! उम्दा प्रस्तुती! ! बधाई!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  66. अजय कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  67. कम शब्दों में होली का गुलाल भर दिया ,चेहरा ही नहीं पूरा दिल रंग गया !

    ReplyDelete
  68. is sundar rachna ke saath rang parv ki badhai aapko .

    ReplyDelete
  69. ਥੋੜੇ ਸ਼ਬਦਾਂ 'ਚ ਬਹੁਤ ਕੁਝ ਕਹਿਣ ਦੀ ਮੁਹਾਰਤ ਰੱਖਦੇ ਹੋ ਸ਼ਾਰਦ ਜੀ ਆਪ..
    ਆਪ ਦੀ ਕਲਮ ਨੂੰ ਸਲਾਮ !
    ਹੋਲੀ ਦੀਆ ਬਹੁਤ-ਬਹੁਤ ਮੁਬਾਰਕਾਂ !
    ਹਰਦੀਪ

    ReplyDelete
  70. उर्मि चक्रवर्ती (बबली) जी,

    आपका आना सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  71. संतोष त्रिवेदी जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  72. ज्योति सिंह जी,
    आपका आना सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    ReplyDelete
  73. ਡਾ. ਹਰਦੀਪ ਕੌਰ ਸੰਧੂ ਜੀ ,

    ਹੌਸਲਾ ਅਫਜਾਈ ਲਈ ਬਹੁਤ-ਬਹੁਤ ਧੰਨਵਾਦ....
    ਆਪਕੋ ਭੀ ਹੋਲੀ ਦੀਆ ਦਿਲੀ ਮੁਬਾਰਕਾਂ !

    ReplyDelete
  74. होली पर कविता अच्छी लगी।
    होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  75. आपको होली की रंग भरी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  76. होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  77. वाह वाह ... होली का रंग बिखरा हुवा है आज ....
    आपको और समस्त परिवार को होली की हार्दिक बधाई और मंगल कामनाएँ ....

    ReplyDelete
  78. ye to holi khelne ke pahle ki hararat hai...khelne ke baad to bas khumari hi khumaari hai...lgata hai hararat jane ki taiyaari hai...phir intzaar agale saal ki hararat ka...HOLI HI...

    ReplyDelete
  79. आचार्य परशुराम राय जी,
    आपकी अमूल्य विचारों ने उत्साह बढ़ाया...
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    ReplyDelete
  80. राजेन्द्र राठौर जी,
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  81. मनोज कुमार जी,
    आपका आना सुखद लगा...
    फागुनी शुभकामनायें एवं आभार....

    ReplyDelete
  82. दिगम्बर नासवा जी,
    आपका आना सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  83. वानभट्ट जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  84. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  85. होली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  86. प्यारी रचना.....
    होली की हार्दिक मंगलकामनाएँ |

    ReplyDelete
  87. डोरोथी जी,
    आपका आना सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  88. सबा अकबर जी,
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  89. सुरेन्द्र सिंह 'झंझट',
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  90. आदरणीय शरद जी,

    यथायोग्य अभिवादन् ।

    जी... होली पर आपकी रचना पढऩे को मिली, आपने शब्दों के माध्यम से न सिर्फ गुलाल की भीनी खुशबू बिखेरी, इसके साथ ही खिलखिलाहट भी सुनाई दी।
    आपको पढऩे वाले सभी लोगों ने हरारत में भी आंखों की शरारत को देखा होगा। जी... रंग जिन्दगी की मानिंद होते हैं, बहुत कुछ कहते हैं और शायद इन्हें ही देख आंखे भी सब कुछ देखते हुये भी तमाम शरारतों के बीच राहत ही देती या पहुंचाती हैं?
    सो... रचना के साथ ही इस राहत के लिये भी धन्यवाद।

    रविकुमार सिंह

    ReplyDelete
  91. होली की शुभकामनाएं शरद जी

    आभार

    ReplyDelete
  92. नील प्रदीप जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है....
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  93. ललित शर्मा जी,
    स्वागत एवं पुनः हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  94. रविकुमार सिंह बाबुल जी,
    आपका आना सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  95. राजेन्द्र राठौर जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है....
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  96. शरद जी ! 'लाला फिर आइओ खेलन' होरी वाला आनंद आ गया ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  97. sharad ji ,

    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  98. ऊषा राय जी,
    अपनी कविता पर आपकी आत्मीय टिप्पणी सुखद लगी...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    रंगपर्व होली पर असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  99. शिखा कौशिक जी,
    स्वागतम्...
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  100. होली की शुभ कामना दूसरे ब्लॉग पर दीं हैं,यहाँ भी स्वीकार करें.मेरे ब्लॉग पर आपका इंतजार है.

    ReplyDelete
  101. राकेश कुमार जी,
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  102. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपको भी रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  103. चार पंक्तियों में ही साँसों तक को फागुन फागुन कर दिया !
    आपकी क्षमता को नमन !

    ReplyDelete
  104. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  105. रतन जैसवानी जी (व्यंग्य-बाण),
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    आपका स्वागत है!
    आपके विचारों की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  106. happy holi
    check out mine blog also
    and i hope you will like my blog
    http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

    ReplyDelete
  107. Chirag Joshi ji,
    Thank you for visiting my blog!
    It is pleasure to me .
    I am going to visit your Blog just now.

    Wish you Happy Rang Panchami!

    ReplyDelete
  108. kucch iss tarah chhua ki kuch bhi unchhua na raha,
    itne kam shabdon me aapne kya khoob ha kaha..
    ek ek shabd bheenge huye hon jyun holi ke rang,
    padhte padhte man hoye chanchal karne ko hurdang.

    Kshamaprarthi hun vilambit taal ke liye...

    bahut khoob...aabhaar.

    ReplyDelete
  109. विजय रंजन जी,
    देर से सही, आपका आना सुखद लगा ... हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    ReplyDelete
  110. क्षमा कीजिएगा, होली के जाने के बाद आया हूँ ब्लॉग पर होली का संदेश पढ़ने । पर मुझे ऐसा लगा कि होली तो अभी भी है । होली का बहुत सुंदर चित्रण किया है आपने। हार्दिक शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  111. रजनीश तिवारी जी,
    आपका आना सुखद है...अपने विचारों से अवगत कराने के लिए
    हार्दिक आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  112. आनन्द द्विवेदी जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है....

    ReplyDelete
  113. बहुत सुंदर लिखा है आपने... आपको होली की बिलेटेड शुभकामना ..........

    ReplyDelete
  114. महफूज़ अली जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    प्रति दिन आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  115. सारा सच,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    ReplyDelete
  116. सुंदर पोस्ट देर से ही सही हम भी रंगमय /गुलालमय हो लें |बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  117. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    देर से सही, आपका आना सुखद लगा ... हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    ReplyDelete
  118. चन्द्र प्रकाश दुबे जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है....

    ReplyDelete
  119. चैतन्य शर्मा जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका हार्दिक आभार..
    आपका सदा स्वागत है....

    ReplyDelete
  120. bahut sunder -
    pahle hararat...phir shararat ....phir bukhar chadhata hai holi ka ....!!rang aise ki kabhi utarate hi nahin ....

    ReplyDelete
  121. अनुपमा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    असीम शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  122. होली की शुभकामनाएं...क्यूँ के होली तो कभी मनाई जा सकती है जैसे:-
    करें जब पाँव खुद नर्तन, समझ लेना की होली है
    हिलोरें ले रहा हो मन, समझ लेना की होली है

    अगर महसूस हो तुमको, कभी जब सांस लो 'नीरज'
    हवाओं में घुला चन्दन, समझ लेना की होली है



    नीरज

    ReplyDelete
  123. नीरज गोस्वामी जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... हार्दिक धन्यवाद !

    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...आपका स्वागत है....

    ‘अगर महसूस हो तुमको, कभी जब सांस लो 'नीरज'
    हवाओं में घुला चन्दन, समझ लेना की होली है’- बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ लिखी हैं आपने।

    ReplyDelete
  124. सारा सच,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    ReplyDelete
  125. बहुत ही खूबसूरत कविता!

    ReplyDelete
  126. 'साहिल' जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है....

    ReplyDelete
  127. "aankhon me sharaarat ho "baaki sab kuchh peechhe peechhe chlaa aataa hai .
    behatreen andaaz baat kahne kaa,bimb ko samvaarne kaa , .
    veerubhai .

    ReplyDelete
  128. बहुत ही सुन्दर रचना. शरदजी आपने कम शब्दो मे बहुत कुछ कह दिया. धन्यवाद!
    http://ravindrakoshti.blogspot.com

    ReplyDelete
  129. वीरेन्द्र शर्मा जी (veerubhai) जी,
    अपनी कविता पर आपकी आत्मीय टिप्पणी सुखद लगी...
    आभारी हूं...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  130. रवीन्द्र रवि जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने लिए आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  131. अनामिका जी,
    देर से सही, आपका आना सुखद लगा ... हार्दिक धन्यवाद !
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।
    आपका सदा स्वागत है...

    ReplyDelete