मंगलवार, जुलाई 25, 2017

इनसे नहीं .... डॉ. शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

इनसे नहीं ...
--------

टूटते तारे
कहते हैं मुझसे
कुछ मांगू
क्या मांगू इनसे?
मुट्ठी भर प्यार
और विश्वास
ये मुझे तुमसे चाहिए
इनसे नहीं...

2 टिप्‍पणियां: