शनिवार, जनवरी 05, 2013

मैं करूं क्या ....


14 टिप्‍पणियां:

  1. लोग मर्यादा की बात तो कर रहे हैं...पर मर्यादा पुरुषोत्तम की नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. लक्ष्मण रेखा खींच के, जाय बहाना पाय ।

    खून बहाना लूटना, दे मरजाद मिटाय ।
    दे मरजाद मिटाय, सदी इक्कीस आ गई ।

    किन्तु सोच उन्नीस, बढ़ी है नीच अधमई ।

    पुरुषों के कुविचार, जले पर केवल रावण।

    रेखा चलूं नकार, पुरुष ही खींचा, लक्ष्मण ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ak talkh sacchayee,behatareen rachna.....new posts:khichadi,ji to lijiye

    उत्तर देंहटाएं
  4. डॉ साहिबा आपके इन चार लाइन का जवाब चार जन्मों और तीन लोकों में नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत गहन अभिव्यक्ति, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. केवल चार पंक्तियों में ... जबर्दस्त उलाहना राजसत्ता भोगने वाले उन नेताओं (पुरुषवादी सोच के व्यक्तियों) पर जो सभी पाबंदियां केवल स्त्रियों पर लादने के हिमायती हैं।
    इस बार आपकी व्यंजना शैली का कायल हो गया हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सोचने को मजबूर करती पंक्तियाँ ...
    सही कहा है आपने ..

    उत्तर देंहटाएं