शुक्रवार, सितंबर 09, 2011

तुम्हीं कहो .....


138 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम और भक्ति की अनुपम प्रस्तुति.

    'लाली मेरे लाल की,जित देखूं तित लाल'

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    बधाई |

    और बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यार में चेहरा-ए-महबूब ही अच्छा लगता.
    और दुनिया के नज़ारों से भला क्या लेना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब परमात्मा में लौ लग गई तो अब देखने को उसके सिवा क्या बचा? बहुत ही श्रेष्ठ रचना.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  5. कैलाश सी. शर्मा जी,
    यह मेरे लिए सुखद है कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.आभार.
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. राकेश कुमार जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सदा जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Er. सत्यम शिवम जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. संगीता स्वरुप जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह स्नेह बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यशवन्त माथुर जी,
    मेरी कविता पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह स्नेह बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. भूषण जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. केवल राम जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऋता शेखर 'मधु'जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. रविकर जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।
    बहुत बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  15. रश्मि प्रभा जी,
    यह मेरे लिए सुखद है कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.आभार.
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. कुंवर कुसुमेश जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत एवं आभार।
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुषमा 'आहुति' जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  18. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आपको बहुत बहुत धन्यवाद एवं हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्रवीण पाण्डेय जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है... हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  20. ताऊ रामपुरिया जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रेम पगे मन की खूबसूरत अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  22. आशीष जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  23. कविता सीधे ह्रदय में दस्तक देती है जरूर अंतर्मन की दस्तक है , बेहतरीन काव्य ,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  24. ऋषि कपूर का गाया गाना याद आ गया ... तेरे चेहरे से नज़र नहीं हटती नज़ारे हम क्या देखें!

    उत्तर देंहटाएं
  25. देखता हूँ तो सोचता हूँ क्या पा सकूँगा में तुझे
    में अक्सर चाँद के बहाने रोज तुझे देखा करता हूँ
    तेरी हल्की सी एक मुस्कुराहट ही तो है चाँद....
    क्या आजतक ये मालूम हुआ तुझे ...,,.....बहुत .सुंदर...शरद जी .....

    उत्तर देंहटाएं
  26. समर्पण भाव से ओत-प्रोत गहन प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  27. हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ....खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  28. जब तुम ही तुम हो हर सू तो किसी और नज़ारे को देखा भी कैसे जा सकता है ... बहुत खूब ... चंद लेने और अनंत सागर ....

    उत्तर देंहटाएं
  29. कुश्वंश जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचार सुखद लगे....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  30. मनोज कुमार जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  31. बी एस गुर्जर जी,
    बहुत-बहुत आभार...अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  32. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  33. महेश्वरी कनेरी जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई... विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  34. संजय भास्कर जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  35. uljheshabd ,
    विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  36. दिगम्बर नासवा जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  37. लाली मेरे लाल की ,जीत देखूं तित लाल ...
    देखूं तेरा ज़माल ....बहुत सुन्दर मुग्धा भाव की रचना .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  38. ये रचना पढ़कर, 'जिगर' साहब का ये शेर याद आ गया!

    हर सू दिखाई देते हैं वो जलवागर मुझे
    क्या क्या फरेब देती है मेरी नज़र मुझे

    उत्तर देंहटाएं
  39. कुमार जी,
    बहुत-बहुत आभार...अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  40. वीरूभाई जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  41. 'साहिल' जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचार सुखद लगे....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  42. निवेदिता जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  43. प्रेमातिरेक को अभिव्यक्त करती संक्षिप्त रचना.अति सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  44. वाह!!! प्रेम की पराकाष्ठा...बहुत उम्दा!!

    उत्तर देंहटाएं
  45. हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ....खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  46. सूफियाना संगीत गूंज गया....शम्मी कपूर का गाने कि एक लाइन है ..मन में तस्वीर बसी यार की...बस यही तो है ..तू है तू है तू है बस और नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत ही सादे शब्दों में बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति..........

    उत्तर देंहटाएं
  48. सपना निगम जी,
    बहुत-बहुत आभार...अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  49. समीर लाल जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  50. अमृता तन्मय जी,
    आभारी हूं...विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  51. सुरेश कुमार जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  52. अरुण कुमार निगम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  53. boletobindas जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई... विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  54. मालिनी गौतम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  55. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  56. Miss Sharad jee आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए..
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये

    उत्तर देंहटाएं
  57. लगता तो नहीं कि नज़र कहीं और जा सकती है.

    बेहतरीन प्रस्तुति सुंदर कविता के माध्यम से.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  58. नीलकमल जी,
    हिंदी दिवस की आपको भी हार्दिक अग्रिम शुभकामनाएं.
    विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  59. रचना दीक्षित जी,
    बहुत-बहुत आभार...अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  60. रचना जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  61. शरद जी आप बहुत अच्छा लिखती हैं, प्रस्तुति बहुत है और टिप्पणियाँ भरपूर मिल रही हैं आपकी रचनाओं को, दरअसल रचना की सफलता का यही सही परिचायिक है। बहुत बहुत वधाई आपको।
    कभी नवगीत से भी जुड़ें और यहाँ कुछ समय दें।

    www.navgeet.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  62. हर सिम्त मुहब्बत के मौसम नज़र आते हैं.
    या तुम नज़र आते हो या हम नज़र आते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  63. जिसके तस्वुर से ही जो विराना खिल जाये, उस बहार को और क्या चाहिए ,
    सदा खिलते रहना मेरे दिल के गुलशन में तुम बहार बन कर .

    उत्तर देंहटाएं
  64. वाह! दो पंक्तियां याद आ गयीं:

    जिधर देखूं फिजां में रंग मुझको दिखता तेरा है
    अंधेरी रात में किस चांदनी ने मुझको घेरा है।

    उत्तर देंहटाएं
  65. डा० व्योम जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  66. डॉ.सुभाष भदौरिया जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  67. रजनी मल्होत्रा नैय्यर जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  68. अनुराग शर्मा जी,
    बहुत-बहुत आभार...अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  69. शरद जी मैंने पिछली बार भी अनुरोध किया था अपनी १०,१५ बेहतरीन क्षणिकाएं भेजिए 'सरस्वती-सुमन' पत्रिका के लिए
    अपने संक्षिप्त परिचय और तस्वीर के साथ ....
    ये अंक क्षणिका विशेषांक है जो काफी महत्वपूर्ण और संग्रहीन होगा ....
    आप अपनी रचनायें मुझे मेल द्वारा या डाक से भी भेज सकती हैं ....

    harkirathaqeer@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  70. हरकीरत ' हीर' जी,
    कतिपय व्यस्तता के कारण विलम्ब हुआ है...शीघ्र ही मेल कर रही हूं.
    पुनः आग्रह हेतु ससंकोच आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  71. तुम्ही कहो.........
    खूबसूरत!
    आशीष
    --
    मैंगो शेक!!!

    उत्तर देंहटाएं
  72. हर पोस्ट को एक पृष्ठ में परिवर्तित कर दीजिए और सुंदर रंगीन पुस्तक प्रकाशित करवा लीजिए। मुझे लगता है, खूब बिकेगी...।

    उत्तर देंहटाएं
  73. वाह! यह तो ‘जित देखूं तित लाल’ की बात हो गई ॥

    उत्तर देंहटाएं
  74. मन को छू लेने वाली पंक्तियाँ पसंद आई ! बधाई स्वीकारें!

    उत्तर देंहटाएं
  75. लाली मेरे लाल की जित देखूं तित लाल
    लाली देखन मैं गयी मैं भी हो गयी लाल
    भीनी भीनी अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  76. आशीष जी,
    मेरी कविता को पसन्द करने के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  77. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    प्रोत्साहन के लिए आभारी हूं....

    उत्तर देंहटाएं
  78. चंद्रमौलेश्वर प्रसाद जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  79. विरेन्द्र जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  80. संगीता स्वरुप जी,
    आपकी यह सजगता एवं आत्मीयता मुझे आपके स्नेह के सम्मुख नतमस्तक कर देती है.
    आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  81. अरविन्द मिश्रा जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  82. jidhar dekhoon teri taswir najar aati hai..prem ki yah sarvoccha awastha hai..kavita wo hai jo kam muh khole jyada bole..aapki rachnayein is tathya ko hamesh satyapit karti hain..aapki dristavya kavita ka chota ans main pad leta hoon aaur brihat ans mahshoos karta hoon..badhayee aaur sadar pranam ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  83. डॉ आशुतोष मिश्र ‘आशु’ जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  84. bahut hi sundar ......wow
    tum hi tum dikhai dete ho ......... abhar sundar prastuti ke liye ..

    ye jankar khushi hui ki app M.P. se hai .aapka blog bahut achha laga

    sapne-shashi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  85. http://premchand-sahitya.blogspot.com/

    यदि आप को प्रेमचन्द की कहानियाँ पसन्द हैं तो यह ब्लॉग आप के ही लिये है |

    यदि यह प्रयास अच्छा लगे तो कृपया फालोअर बनकर उत्साहवर्धन करें तथा अपनी बहुमूल्य राय से अवगत करायें |

    उत्तर देंहटाएं
  86. दूसरे नजारे भी ‘तुम ही तुम‘ युक्त हो जाते हैं।
    दो पंक्तियों की ख़ूबसूरत ‘कहानी‘।

    उत्तर देंहटाएं
  87. शशि पुरवार जी,
    आपका आना सुखद लगा.
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  88. अवनीश सिंह जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  89. महेन्द्र वर्मा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  90. इन्द्रनील भट्टाचार्य जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  91. चंद शब्दों में सुन्दर और प्रभावशाली अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  92. अभिषेक मिश्र जी,
    आपका आना सुखद लगा.
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  93. प्रेम में सौन्दर्य आ ही जाता है फिर और क्या देखना ! वाह ! क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं
  94. ऊषा राय जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  95. डॉ. मिस शरद सिंह जी आपकी मेहनत और उपलब्धियों के मद्देनज़र, अयोध्या के निकट स्थित हमारी संस्था, आचार्य नरेन्द्र देव किसान पी. जी. कॉलेज, बभनान, गोण्डा, उ. प्र., के प्राचीन इतिहास और पुरातत्व विभाग की ओर से आयोजित तथा यू.जी.सी. द्वारा संचालित ‘युग-युगीन नारी विमर्श’ विषय को केन्द्र में रखकर होने वाली राष्ट्रीय संगोष्ठी में विभागाध्यक्ष, प्रा. इति. एवं पुरातत्व, अॅसोशिएट प्रो. डॉ. सुशील कुमार शुक्ल तथा आयोजन समिति ने निर्णय लिया है कि आप को इस संगोष्ठी में आपको विशिष्ट अभ्यागत (रिसोर्स पर्शन) के रूप में आमन्त्रित किया जाय। अतः आप इस आमन्त्रण को स्वीकार कर अपनी सहमति ईमेल- cm07589@gmail.com पर अविलम्ब देने की कृपा करें जिससे आपके आने से सम्बन्धित औपचारिकताओं को पूरा किया जा सके। अपना फोन नं. भी मेल में लिख देंगी। जिससे बात हो सके। अथवा 09532871044 पर बात भी करके सूचित कर दें तो अति कृपा होगी। विश्वास है कि आप इस आमन्त्रण को अस्वीकार नहीं करेंगी। आपके आने-जाने तथा रहने का पूरा व्यय महाविद्यालय करेगा। सादर-
    चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
    आ. न. दे. किसान पी. जी. कॉलेज,
    बभनान, गोण्डा, उ. प्र.
    फोन नं.- 09532871044
    email- cm07589@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  96. यह संगोष्ठी इसी 15-16 अक्टूबर को होनी है। अतः आप तुरन्त सूचित करने की कृपा करें

    उत्तर देंहटाएं
  97. शरद्न जी नमस्कार्।सामर्पण के सुन्दर भाव्।

    उत्तर देंहटाएं
  98. तो कोई मर्ज़ी है ना.....खुद के साथ....हज़ारों औरतों के असम्मान करते हुए लोगों से हार जाने की.....!!
    सारी कवितायें पढ़ ली आज आपकी....
    सोच रहा था कि क्या बोलूं....
    अब चुप रहूँ तो तो समझो नहीं आप
    और बोलूं तो मैं क्या बोलूं....
    चंद पंक्तियों में सार है सारा
    कुछ शब्दों में अर्थ है न्यारा
    प्रेम को ध्वनि में व्यक्त करती
    आँखों से ह्रदय में उतरती....
    ये जो कवितायें हैं आपकी...
    मन को कोमलता को सहलाती
    स्पंदन-सा कुछ है जगाती....
    इत्ती प्यारी सी हैं ये कवितायें....
    कि बोलूं तो क्या मैं बोलूं....!!

    उत्तर देंहटाएं
  99. जिधर देखूँ उधर तेरी तस्वीर नज़र आती है ...
    बहुत सुंदर पंक्ति ...एक ही लाइन में पूरी कहानी

    उत्तर देंहटाएं
  100. सुरेन्द्र "मुल्हिद" जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  101. राजीव थेपड़ा जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  102. निशा महाराणा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये हार्दिक धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  103. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    आचार्य नरेन्द्र देव किसान पी. जी. कॉलेज, बभनान, गोण्डा, उ. प्र., के प्राचीन इतिहास और पुरातत्व विभाग की ओर से आपके द्वारा आमंत्रण हेतु अनुगृहीत हूं.

    दुख है कि उक्त तिथियों में दिल्ली में एक कॉन्फ्रेंस में शामिल होना है, जिसकी स्वीकृति मैं आयोजनकर्ताओं को पूर्व में ही दे चुकी हूं. अतः विवशता है. आशा हैकि आप मेरी इस विवशता को अन्यथा नहीं लेंगे.

    आपकी सदाशयता के प्रति पुनः आभार प्रकट करती हूं तथा प्राचीन इतिहास और पुरातत्व विभाग के इस महत्वपूर्ण आयोजन में उपस्थित हो पाने में असमर्थता के लिए क्षमाप्रार्थिनी हूं.

    आशा हैकि इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  104. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    पुनः आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  105. सुमन दुबे जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत एवं आभार।
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  106. राजीव थेपड़ा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  107. रजनीश तिवारी जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  108. डॉ शरद सिंह जी ...खुबसूरत क्षणिका ...लाजबाब ..यही होता है जित देखूं तित तूं ...सुन्दर भाव प्यारी रचना गजब का रंग दिया मन को छू गयी ...ये ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं .....जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    थोडा व्यस्तता वश कम मिल पा रहे है सबसे क्षमा करना
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  109. BEAUTIFUL BUT SEECHLESS LINES.ONCE AGAIN IT MAY BE FAST TO SAY ON THESE LINES.

    उत्तर देंहटाएं