25 September, 2011

कभी-कभी....


151 comments:

  1. बहुत ख़ामोशी से आपने मन की बात कविता में कह दिया |आभार सुन्दर कविता के लिए

    ReplyDelete
  2. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    मेरी कविता के मर्म पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत आभार...

    ReplyDelete
  3. जी,मौन भी सम्प्रेषण का एक माध्यम है.
    सुन्दर लिखा आपने.

    ReplyDelete
  4. vidushee sharad ji
    satya rachaa aapne

    jab maun boltaa hai.
    fir kaun boltaa hai ,

    ReplyDelete
  5. भाव संप्रेषण का मौन से सशक्त अन्य कोई माध्यम नही है, परमात्मा भी मौन में उतरने पर ही अपनी जह्लकियां दिखलाता है. बहुत खूबसूरत.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. भूल सुधार :-

    जह्लकियां = झलकियां पढा जाये.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया ||
    बधाई ||.

    ReplyDelete
  8. जिस तरह ये चंद शब्द सब कुछ कह रहे है.... बहुत ही खुबसूरत.....

    ReplyDelete
  9. ध्वनन,
    ध्वन और
    ध्वन्य से
    प्रभावी अव्यक्ति |

    ध्वंसक के लिए
    असहनीय
    मौनित्व की शक्ति ||

    ध्वनन=अव्यक्त शब्द
    ध्वन= शब्द
    ध्वन्य=व्यंगार्थ

    ReplyDelete
  10. मौन को प्रभावी करने के लिये भावों की सांध्रता चाहिये।

    ReplyDelete
  11. सच लिखा आपने.
    मौन बहुत कुछ कह जाता है

    ReplyDelete
  12. मौन भाषा की लिपि शायद आँखों में बसी है . सुँदर पंक्तियाँ .

    ReplyDelete
  13. कुंवर कुसुमेश जी,
    आभारी हूं मेरी कविता पर आपके विचारों के लिए...इसी तरह प्रोत्साहन देते रहें.

    ReplyDelete
  14. वीरेन्द्र जी,
    आपको मेरी कविता रुचिकर लगी, यह जानकर मन प्रसन्न हो गया. आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए.

    ReplyDelete
  15. ताऊ रामपुरिया जी,
    बहुत सुन्दर व्यख्या की है आपने मेरी कविता के मर्म की. अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  16. यशवन्त माथुर जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार. इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  17. रविकर जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार....
    मन उत्साहित हुआ...

    ReplyDelete
  18. सुषमा आहुति जी,
    आपका स्नेह मेरी कविता को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार.

    ReplyDelete
  19. रविकर जी,
    मेरी कविता के तारतम्य में आपकी ध्वनि को व्याख्यायित करती रचना अत्यंत सारगर्भित है. आभारी हूं.

    ReplyDelete
  20. डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  21. प्रवीण पाण्डेय जी,
    आपकी सटीक टिप्पणी से मेरी कविता की सार्थकता रेखांकित हुई. आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    ReplyDelete
  22. विशाल जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार. कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें...

    ReplyDelete
  23. आशीष जी,
    मेरी कविता पर गहराई से विचार करने तथा अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत आभार..हार्दिक धन्यवाद...

    ReplyDelete
  24. मौन की भाषा सबसे मुखर होती है. सुंदर रचना बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  25. भूषण जी,
    मेरी कविता के मर्म को रेखांकित करती आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार एवं धन्यवाद...

    ReplyDelete
  26. मौन ...मेरा प्रिय विषय ... बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  27. कम शब्‍दों में गहरी बात की आपने।
    आभार...........

    ReplyDelete
  28. संगीता स्वरुप जी,
    आपका स्नेह मेरी कविता को मिला..यह मेरा सौभाग्य है. आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं.... कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  29. अतुल श्रीवास्तव जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...

    ReplyDelete
  30. फालोवर्स का आप्‍शन ही नदारद है इस ब्‍लाग से......

    ReplyDelete
  31. अतुल श्रीवास्तव जी,
    फालोवर्स का आप्‍शन खुला है. संभवतः किसी तकनीकी कारण से नहीं दिखा होगा. कृपया री-लोड कर लें.

    मेरे सभी ब्लॉग्स पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  32. जब आँखें बोल रहीं हों तो शब्दों की क्या ज़रूरत...कविता के साथ जो फोटो है उससे तो ये ही लगता है...

    ReplyDelete
  33. मौन क्या कुछ नहीं कह सकता.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  34. ये वो भाषा है जो कहाना तो सबको आता है, पढना सबको नहीं आता।

    ReplyDelete
  35. मौन का सम्प्रेषण अधिक प्रभावशाली रहता है शरद जी !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  36. बहुत खूब ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  37. मौन एक प्रभावशाली हथियार है और नरसिंघा राव जी ने पी एम रहते इसका बखूबी इस्तेमाल किया है।

    ReplyDelete
  38. एक अनकहा लफ्ज़ मैं एक तुम .... चलो शब्द बनकर कुछ कह लें

    ReplyDelete
  39. बहुत ख़ूबसूरत लिखा है आपने! मौन बहुत कुछ कह जाता है और ये बात बिल्कुल सही है!

    ReplyDelete
  40. वाणभट्ट जी,
    मेरी कविता के प्रति अपने विचारों को व्यक्त करने के लिए अत्यंत आभारी हूं. आपको बहुत-बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  41. राकेश कुमार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई. हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  42. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता के मर्म को जिस सुन्दरता से रेखांकित किया है आपने, सुखद लगा. आभारी हूं.

    ReplyDelete
  43. सतीश सक्सेना जी,
    मेरी कविता पर गहराई से विचार करने तथा अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत आभार..हार्दिक धन्यवाद...

    ReplyDelete
  44. सदा जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...

    ReplyDelete
  45. विजय माथुर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  46. रश्मि प्रभा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये बहुत-बहुत आभार.....

    ReplyDelete
  47. उर्मि जी,
    आपको मेरी कविता रुचिकर लगी, यह जानकर मन प्रसन्न हो गया. आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए.

    ReplyDelete
  48. ्तभी तो कहा गया है मौन भी मुखर होता है बशर्ते पढने वाली आंखे हों

    ReplyDelete
  49. मौन की आवाज़ सबसे तेज होती है ... सीधे आँखों से दिल में उतर्जाती है ...

    ReplyDelete
  50. मौन तो होता ही खूबसूरत है.....प्रकृति की तरह...मौन....

    ReplyDelete
  51. बेहतरीन अभिवयक्ति.....हम भी मौन हो गये........

    ReplyDelete
  52. मौन बहुत मुखर होता है शरद जी ...

    ReplyDelete
  53. शरद जी! जरा इस मौन-महिमा को देखिए तो बस हँसिएगा नहीं प्लीज...

    ReplyDelete
  54. वन्दना जी,
    आप जैसी विदुषी के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  55. दिगम्बर नासवा जी,
    मेरी कविता को पसंद करने तथा अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें.

    ReplyDelete
  56. कुमार जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...

    ReplyDelete
  57. अली शोएब सैय्यद जी,
    आपका स्नेह मेरी कविता को मिला..यह मेरा सौभाग्य है. हार्दिक धन्यवाद ...

    ReplyDelete
  58. सुनील कुमार जी,
    आपकी सटीक टिप्पणी से मेरी कविता की सार्थकता रेखांकित हुई. आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    ReplyDelete
  59. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  60. चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी,
    मौन-महिमा को देख कर नहीं हंसूंगी, ये वादा है.

    ReplyDelete
  61. सुरेन्द्र "मुल्हिद" जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें....

    ReplyDelete
  62. सुन्दर प्रस्तुति, बधाई,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  63. bahut khoob dr.Sharad ji...........me to fan ho gaya apka

    ReplyDelete
  64. विवेक जैन जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    ReplyDelete
  65. Rahul ji,
    Hearty Thanks for your valuable comment.

    ReplyDelete
  66. नीरज गोस्वामी जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...

    ReplyDelete
  67. संजय कुमार चौरसिया जी,
    आपको मेरी कविता रुचिकर लगी, यह जानकर मन प्रसन्न हो गया. आभारी हूं ...

    ReplyDelete
  68. संजय भास्कर जी,
    मेरी कविता को पसंद करने तथा अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें.

    ReplyDelete




  69. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  70. ... नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं....
    आपका जीवन मंगलमयी रहे ..यही माता से प्रार्थना हैं ..
    जय माता दी !!!!!!!

    ReplyDelete
  71. सुनी कभी क्या मौन कि भाषा ....
    स्वत: स्फुरित मधुर - मधुर ,
    बिन बोले ही सब कुछ बोले ,
    भेद जिया के खोल दे !
    समझ सको तो समझ लो इसको ,
    ये तो दिल कि भाषा है ,
    कुछ - कुछ में ही है सब कुछ ,
    प्रेममयी जीवन रस धरा है !
    सुनी कभी क्या मौन कि भाषा ...
    स्वत: स्फुरित ये मौन की भाषा ...
    शब्द रहित ये मौन की भाषा .....!!

    bahut khoob...aabhar

    ReplyDelete
  72. बेहद खूबसूरत...चित्र भी और अभिव्यक्ति भी...

    ReplyDelete
  73. पाठक-गण ही पञ्च हैं, शोभित चर्चा मंच |

    आँख-मूँद के क्यूँ गए, कर भंगुर मन-कंच |


    कर भंगुर मन-कंच, टिप्पणी करते जाओ |

    प्रस्तोता का करम, नरम नुस्खा अपनाओ |


    रविकर न्योता देत, द्वार पर सुनिए ठक-ठक |

    चलिए रचनाकार, लेखकालोचक-पाठक ||

    शुक्रवार

    चर्चा - मंच : 653

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  74. आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  75. कितना खूबसूरत है इस मौन का मुखर होना ।

    ReplyDelete
  76. कितना खूबसूरत है इस मौन का मुखर होना ।

    ReplyDelete
  77. कितना खूबसूरत है इस मौन का मुखर होना ।

    ReplyDelete
  78. कितना खूबसूरत है इस मौन का मुखर होना ।

    ReplyDelete
  79. कम शब्‍दों में गहरी बात .........

    ReplyDelete
  80. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति डॉ. शरद जी
    आप भी मेरे फेसबुक ब्लाग के मेंबर जरुर बने
    mitramadhur@groups.facebook.com

    MADHUR VAANI
    BINDAAS_BAATEN
    MITRA-MADHUR

    ReplyDelete
  81. मौन के नखरों को समझना बड़ा ही दुष्कर होता है शरद जी.....सुन्दर पंक्तिया....बधाई....

    ReplyDelete
  82. आग कहते हैं, औरत को,
    भट्टी में बच्चा पका लो,
    चाहे तो रोटियाँ पकवा लो,
    चाहे तो अपने को जला लो,

    ReplyDelete
  83. राजेन्द्र स्वर्णकार जी,
    आपको भी सपरिवार नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  84. संजय भास्कर जी,
    आपको भी सपरिवार नवरात्रि पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं.!

    ReplyDelete
  85. प्रियंका राठौर जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  86. ऋता शेखर 'मधु' जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    ReplyDelete
  87. रविकर जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपने मेरी कविता का चयन चर्चा मंच हेतु किया . आपको बहुत-बहुत धन्यवाद ! एवं पुनः हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  88. बबली जी,
    आपको भी सपरिवार नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  89. आशा जोगळेकर जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    ReplyDelete
  90. निवेदिता जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  91. नीलकमल जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आयी....बहुत-बहुत धन्यवाद !
    आपके इस आमन्त्रण के लिए आभार...

    ReplyDelete
  92. मालिनी गौतम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    ReplyDelete
  93. सियाना मस्कीनी जी,
    मेरी कविता पर काव्यात्मक टिप्पणी देने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  94. मेरी ग़ज़ल से एक शेर-
    खामोशी भी कह देती है सारी बातें,
    दिल की बातें कब कोई मुंह से कहता है।

    ReplyDelete
  95. दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  96. मौन कहीं ज्यादा प्रभावी होता है मुखर से !
    सुन्दर चित्र संयोजन

    ReplyDelete
  97. महेन्द्र वर्मा जी,
    मेरी कविता पर काव्यात्मक टिप्पणी देने के लिये आभार...

    ReplyDelete
  98. बबली जी,
    दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    आपके अनुग्रहपूर्ण निमन्त्रण के लिए हृदय से आभारी हूं...

    ReplyDelete
  99. सुरेन्द्र सिंह " झंझट "जी,
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    ReplyDelete
  100. अति सुन्दर भाव पूर्ण रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  101. waah...
    aur aap to kam shabdon mei dher gadhne ki kala mei maahir...
    waah...
    jab bhi yaha aati hu, aur aisa kuch padhti hu, to lagta hai jaise mere vichaar yaha likh diye gae ho...

    ReplyDelete
  102. बहुत सुंदर ...मौन की भाषा भी होती है मुखर....

    ReplyDelete
  103. मौन कभी कभी बहुत मुखर होता है, शायद शब्दों से भी ज्यादा.

    सुंदर प्रस्तुति. विजयादशमी की शुभकामनायें आपको और आपके परिवार को.

    ReplyDelete
  104. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  105. aaderniya sharad ji...main bhi maun hoon aapki yah kavita padhkar..isliye sirf likh raha hoon..aapke kavitayein abhi tak kam bolti thin ab maun rakh liya..aap ke is hunar ka main kayal hoon ..sadar pranam ke sath

    ReplyDelete
  106. आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  107. har cheez ko nahi hoti zaroorat zuba(n) ki
    khamoshi bhi hai naam ek zuba(n) ka....

    pehli baar apke blog per aana hua...bahut sunder blog hai or rachna bhi...aapki likhne kee vidha dekh ker bihari ki yaad aa gayi...thode mei sab kuch..."gaagar mei sagar"...
    mei to aapsae jud rahi hoon...or aap?

    ReplyDelete
  108. मौन रहकर भी सब आँखों से कहा जा सकता है.चित्र और पन्तियाँ अच्छी लगी..

    ReplyDelete
  109. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  110. शरद जी नमस्कार, सुन्दर रचना मौन की भाषा शब्दों की भाषा से ज्यादा मुखर होती है।

    ReplyDelete
  111. कभी-कभी मौन आँखों से कहता है ....बहुत सुंदर पंक्ति

    ReplyDelete
  112. मौन का अपना एक संगीत है .सम्प्रेषण है .चितवन मुखर होती है .देह की भी तो एक भाषा है मुख मुद्राओं की भी .

    ReplyDelete
  113. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  114. सुन्दर सृजन , प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  115. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  116. सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए आभार.

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,डॉ शरद जी.

    ReplyDelete
  117. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  118. होटों का तबस्सुम समझे हैं आँखों की ज़बा भी जाने हैं.
    लाखों में तुम्हें अय जाने-ग़ज़ल हम दूर से पहिचाने हैं.

    तस्वीर की आँखें, होट,बिदिया कहाँ खामोश हैं ? सब बोलते हैं.

    ReplyDelete
  119. दुनिया बहुत स्वार्थी है ................लेकिन आज कल मौन की भाषा समझता कौन है ??
    सार्थक कविता .......धन्यवाद

    ReplyDelete
  120. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद। ।

    ReplyDelete
  121. बहुत खूब आप मेरी रचना भी देखे ...........

    ReplyDelete
  122. मेरे नये पोस्ट में स्वागत है......

    ReplyDelete
  123. आपके पोस्ट पर आना सार्थक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । सादर।

    ReplyDelete
  124. क्या बात है । आपेक पोस्ट ने बहुत ही भाव विभोर कर दिया । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  125. aaderneeya sharadji...main aapki is khoobsurat bhavon se saji is rachna ke nishay me bahut kuch kah deta hai .par kahoonga nahin..kyonki sach hai kabhi kabhi ek maun hee sab kuch kah deta hai dhwani aaur shabdon ke badle..aap ki nayi kriti ka intezaar hai ..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    ReplyDelete





  126. # मुझे अच्छी तरह स्मरण है कि मैं एक और कमेंट लिख कर गया था … पता नहीं क्या हुआ मेरे उस कमेंट का ?!


    आदरणीया डॉ.शरद सिंह जी
    सादर प्रणाम !

    आशा है , ईश्वर-कृपा से आप सपरिवार स्वस्थ-सानंद हैं
    बहुत समय हो गया है इस बार पोस्ट बदले हुए …
    आपको बहुत याद कर रहे हैं :)
    आपकी नई रचनाओं का बहुत इंतज़ार है …

    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  127. आपको तीन महीने से अधिक हो गए है नयी पोस्ट लिखने में.
    आपके कुशल मंगल की आशा करता हूँ.

    शीघ्र दर्शन दीजियेगा शरद जी.

    मेरे ब्लॉग पर भी आये आपको अरसा हो गया है.
    आपका इन्तजार करता रहता हूँ.

    ReplyDelete
  128. आपने अपनी प्रस्तुति को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है । सदा सृजनरत रहें ।मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  129. its really nice post Thanks for sharing this information which is useful for all.

    php web development

    ReplyDelete
  130. aap kaesi hain?asha hai aap achchhi hongi .aap ki kavitayen sada hi bahut mohak hoti hain .
    aap sada hi aese likhti rahiye rahi ishvar se prarthna hai
    rachana

    ReplyDelete
  131. hmmm maun ki shakti asi hi hoti hai

    ReplyDelete
  132. SILENCE SPEAKS.IT WILL BE SO FAST
    TO COMMENT ON YOUR BEAUTIFUL LINES.

    ReplyDelete
  133. रंगोत्सव पर आपको शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  134. aaderneeya sharad jee,,,,bahut dino se lagataar aapke lekhon kee prateeksha kar rahe hain sabhi,,,aapki choti choti behtarin kavitaon ka bhee intezaar hai,,,aakhir kya karan hai aapke is maun ka,,sadar pranaam ke sath
    रंग बिरंगी है रंगोली
    मस्तानो की निकली टोली
    कहीं अबीर गुलाल कहीं पर
    चली धडल्ले भंग की गोली
    पिचकारी से छूटे गोली
    रहे सलामत कैसे चोली
    ईना, मीना, डीका, रीना
    नहीं बचेगी कोई भोली
    आज अधर खामोश रहेंगे
    आज रंग हैं सबकी बोली
    आज नहीं छोड़ेंगे भौजी
    बुरा न मानो है ये होली



    होली पर आप को मेरे और मेरे परिवार की और से हार्दिक शुभकानाएं ...होली के बिबिध रंगों की तरह आपका जीवन रंगबिरंगा बना रहे ....खुशियाँ आपके कदम चूमे ..आपके अंतर का कलुष हटे.......प्रेम का साम्राज्य चहु ओर स्थापित हो ..पुनः इन्ही शुभकामनाओं के साथ

    ReplyDelete
  135. सुन्दर ..बहुत बहुत बधाई...होली की शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  136. BAS AAPAKI LINES DEKHATA HUN AUR USAKE BHAW SANYOJAN HETU LAGE PHOTO KO DEKHAKAR BHAWWIWHAL HO JATA HUN.
    EK HI SOCH .SARI BICHH NARI ............
    NARI BICH SARI.............
    CHITRA KE LIYE LINES.............
    LINES KE LIYE CHITRA.............
    BAHUT HI SUNDAR SAHSAMBANDH.

    ReplyDelete