शनिवार, अगस्त 20, 2011

उसकी यादें ....


132 टिप्‍पणियां:

  1. अति सुंदर है आपकी ये एक पंक्ति के प्रस्तुति,
    आभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. विवेक जैन जी,
    आभार...मेरी कविता को सराहने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रवीण पाण्डेय जी,
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादों से बढ़ कर झीना और भीना और क्या हो सकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भूषण जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  6. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सच कहा है. बहुत कोमल भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  8. सूक्ष्म पर गहन भावों वाली कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ यादें होती ही अनमोल हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच है, अतीत की यादें अगर अपने प्रिय की हों तो उससे बढकर मधुर कुछ नही हो सकता, बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच में उसकी यादों में बढ़कर कुछ भी नहीं ......बहुत खुबसूरत अहसास है उनकी यादों का ...जिसे सदा संजोये रखना है अपने अंतर्मन में .....!

    उत्तर देंहटाएं
  12. Er. सत्यम शिवम जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सदा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. कैलाश सी. शर्मा जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  15. विजय माथुर जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुनील कुमार जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  18. ताऊ रामपुरिया जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  19. केवल राम जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुषमा 'आहुति'जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत कोमल भाव........शुभकामनायें !!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. यादों से बढकर मधुर और कुछ भी तो नही ..
    निस्संदेह ....सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  23. यादें तल्ख़ भी तो होती हैं मधुरता का नसीब सब का कहां होता है?
    तुम्हारे ब्लाग पर लगी तस्वीरों की भाव भंगिमा का जबाब नहीं.

    सागर आज़मी साहब की वर्षों पहले अहमदाबाद में उनके द्वारा कही ग़ज़ल के कुछ शेर याद आ गये-

    काँटों से गुज़र जाना, शोलों से निकलजाना.
    फूलों की बस्ती में जाना तो सँभल जाना.

    मौसम ने परिन्दों को ये बात बतादी है,
    उस झील पे ख़तरा है उस झील पे मत जाना.

    आज ख़तरे को भांपते हुए भी हम चले आये.

    उत्तर देंहटाएं
  24. अपनी ही एक कविता की कुछ पंक्तियां इस याद पर समर्पित करता हूं ..

    मौसम में फिर रूप तुम्हारा
    सिमट-सिमट कर आया।
    बूंद-बूंद भारी होता मन
    दर्द बहुत गहराया।
    सुरभि तुम्हारी तिरे चतुर्दिक्
    परसे पुरवाई।
    सावन के इस मौसम में
    फिर तेरी याद आई।

    उत्तर देंहटाएं
  25. यह छायाचित्र तो बहुत ही वाचाल है शरदजी! आपके सौन्दर्यबोध के विषय में क्या कहूँ ? किसी शायर की दो पंक्तियाँ याद आती हैं-
    काँटों से गुजरना तो बड़ी बात है लेकिन
    फूलों पे भी चलना कोई आसान नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. ...बहुत सुंदर पंक्ति ! मीठी-मीठी यादों की मिठास कभी कम नहीं होती ..

    उत्तर देंहटाएं
  27. तेरी आँखों के सिवाय दुनिया में रख्खा क्या है,तुम मेरे पास होते हो गोया ,जब कोई दूसरा नहीं होता ,याद न जाए बीते दिनों की ,......वो भूली दास्ताँ लो फिर याद आगई ....यादों से बावस्ता तमाम स्मृतियाँ कुरेद उकेर दीं इन पंक्तियों ने - "उसकी यादों से बढ़कर मधुर ,और कुछ भी तो नहीं .."..जलते हैं जिसके लिए तेरी आँखों के दिए ,ढूंढ लाया हूँ वही गीत मैं तेरे लिए ....,भूली हुई यादों मुझे इतना न सताओ ,अब चैन से रहने दो मेरे पास न आवो .....दामन में लिए बैठा हूँ टूटे हुए तारे ,का तक मैं जियूँगा यूँ ही खाबों के सहारे ,दीवाना हूँ अब और न दीवाना बनाओ .....शरद जी इतना सान्द्र केलोरी डेंस भाव जगत की ये पंक्तियाँ संभाले नहीं संभल रहीं ...... ram ram bhai

    शनिवार, २० अगस्त २०११
    कुर्सी के लिए किसी की भी बली ले सकती है सरकार ....
    स्टेंडिंग कमेटी में चारा खोर लालू और संसद में पैसा बंटवाने के आरोपी गुब्बारे नुमा चेहरे वाले अमर सिंह को लाकर सरकार ने अपनी मनसा साफ़ कर दी है ,सरकार जन लोकपाल बिल नहीं लायेगी .छल बल से बन्दूक इन दो मूढ़ -धन्य लोगों के कंधे पर रखकर गोली चलायेगी .सेंकडों हज़ारों लोगों की बलि ले सकती है यह सरकार मन मोहनिया ,सोनियावी ,अपनी कुर्सी बचाने की खातिर ,अन्ना मारे जायेंगे सब ।
    क्योंकि इन दिनों -
    "राष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,महाराष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,
    मनमोहन दिल हाथ पे रख्खो ,आपकी साँसे अन्नाजी .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  28. मन में चित्र उकेरती हुई कविता और साथ का चित्र ऐसा कि मन में कविता का प्रस्फुटन होने लगे।

    उत्तर देंहटाएं
  29. डॉ. शरद!

    यादें हँसाती हैं, यादें रुलाती हैं, यादें प्रेरित करती हैं, यादें दुःख भी देती हैं फिर भी यादें ही ज़िंदगी हैं, इनके बिना ज़िंदगी बेमज़ा है। इसलिए इनकी सँभाल ज़रूरी है। भावनात्मक एहसास हैं यादें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. aadrniya sharad singh ji bhut sundr bhav hai satya hai yadon ki gati hi intni aadhik hoti hai ki insan isse itr kuch soch nahi pata. sachmuch bhavnao ka shabdo ma yatharth niropan hai apko bhadhaye...

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  32. कोमल भाव लिए अति सुंदर प्रस्तुति,
    आभार,....

    उत्तर देंहटाएं
  33. "उसकी यादों से बढ़कर मधुर और कुछ भी तो नहीं "
    memoirs are sip of sweat coffee ,a nebula of unlimited wait....../ your few words open a book of ,thousands of dialogues. Miraculous ,thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुंदर रचना

    मेरा शौक
    http://www.vpsrajput.in

    उत्तर देंहटाएं
  35. शरद जी, उसके साथ पर क्या आलम होगा...जब याद में ये मंजर है...

    उत्तर देंहटाएं
  36. उनकी यादों की बारात , माधुर्य लिए रिमझिम बरसात . भावप्रवण .

    उत्तर देंहटाएं
  37. सतीश सक्सेना जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  38. निवेदिता जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  39. अंजू जी,
    मेरी कविता को पसन्द करने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  40. डॉ.सुभाष भदौरिया जी,
    मेरी कविता के भाव को आत्मसात करने के लिए आभारी हूं आपकी...

    उत्तर देंहटाएं
  41. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... आपकी कविता बहुत सुन्दर है...हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  42. हरि शंकर जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  43. रजनीश तिवारी जी,
    आप जैसे चिन्तनशील साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  44. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  45. वीरूभाई जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  46. महेन्द्र वर्मा जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  47. डॉ. दलसिंगार यादव जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  48. अमरजीत जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  49. कनक ग्वालियरी जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  50. विद्या जी,
    मेरी कविता को पसंद करने तथा चर्चा मंच में शामिल कर उसे सुधी पाठकों तक पहुंचने का मंच प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार एवं धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  51. एस एम हबीब जी,
    मेरी कविता पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  52. ईं.प्रदीप कुमार साहनी जी,
    आभारी हूं....
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  53. महेश्वरी कनेरी जी,
    मुझे प्रसन्नता है कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...
    हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  54. उदयवीर सिंह जी,
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  55. विजय प्रताप सिंह राजपूत जी,
    आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  56. कुंवर कुसुमेश जी,
    आभारी हूं...
    आप जैसे वरिष्ठ कवि के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  57. काजल कुमार जी,
    मेरी कविता के भाव को आत्मसात करने के लिए आभारी हूं आपकी...

    उत्तर देंहटाएं
  58. वाणभट्ट जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  59. आशीष जी,
    आभारी हूं....
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  60. सचिन को भारत रत्न क्यों?
    http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  61. एक स्वतन्त्र नागरिक जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  62. वाकई,भावपूर्ण कविता के साथ भावपूर्ण चित्र...
    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति है|
    शरद जी,आप मेरे ब्लॉग पर आए इसके लिए
    आभारी हूँ|आशा है आत्मीयता बनाए रखेंगी...
    सादर
    ऋता

    उत्तर देंहटाएं
  63. ise rooh se mehshoos karo...kuch aisa hi lagta hai..kuch panktiyan aaur bhavon ko sarthak karti hui chuninda taswir..har dil mein ek nayi kavita bankar utar jaati hai jise badi siddat ke sath mahshoos kiya ja sakta hai...wakai gagar mein sagar.sadar pranam ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  64. जब प्यार होता है दिल में ... तो दिलवर की याद ही जीने के लिए काफी होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  65. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    उत्तर देंहटाएं
  66. ऋता शेखर 'मधु'जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  67. डॉ आशुतोष मिश्रा आशु जी,
    मेरी कविता के भावों को आत्मसात करने के लिए आभारी हूं आपकी...

    उत्तर देंहटाएं
  68. इन्द्रनील भट्टाचार्य जी,
    मेरी कविता पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद.
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें...

    उत्तर देंहटाएं
  69. Ojaswi Kaushal ji,
    I am very glad to see your comment on my poem.
    Hearty Thanks for offer.
    You are always welcome in my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  70. बहुत सुंदर चित्र के साथ पूरे भाव को बताती अनोखी रचना /बहुत कुछ सोचने को मजबूर करती हुई शानदार प्रस्तुति /बधाई आपको /मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद /मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है /आभार /

    please visit my blog.thanks.
    http://prernaargal.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  71. प्रेरणा अर्गल जी,
    आभारी हूं....
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  72. बहुत सुन्दर रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  73. मेरे ब्लॉग पर आप जैसी व्यस्त, प्रतिभाशाली व संवेदनशील रचनाकार का आगमन सुखद है और टिप्पणी करना प्रेरणादायक व उत्साहवर्धक है. अत्यंत आभार.
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक विचार हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    उत्तर देंहटाएं
  74. एक पंक्ति में जीवन का सार उंडेल देती हैं आप ।

    उत्तर देंहटाएं
  75. यादें यादें यादें ... यादें जीवन बन जाती हैं ... सार जीवन का ...

    उत्तर देंहटाएं
  76. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता! दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ!शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  77. सिर्फ एक पंक्ति लिख देने से खूबसूरती कितनी कातिल हो जाती है! इसका एहसास यहीं आ कर होता है।
    काव्य और तूलिका के सम्मिश्रण से एक अनूठी धारा आपके ब्लॉग पर निरंतर बहती रहती है। जिसके सभी कायल हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  78. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना ! बेहतरीन प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  79. कविता और चित्र दोनों की खूबसूरती मंत्रमुग्ध क्र देने वाली है |
    ये गमले ,बोनसाई छोड़कर आओ तो दिखलायें
    कमल के फूल कितने रंग के झीलों में होते है

    उत्तर देंहटाएं
  80. जन लोकपाल के पहले चरण की सफलता पर बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  81. एस एन शुक्ला जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  82. एक स्वतन्त्र नागरिक जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  83. आशा जोगळेकर जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  84. दिगम्बर नासवा जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  85. सुशील बाकलीवाल जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  86. अंकित पाण्डेय जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  87. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  88. अंकित पाण्डेय जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद... आपका सदैव स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  89. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार.
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  90. वीरेन्द्र जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है... हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  91. ज्योति सिंह जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  92. भूषण जी,
    आपको भी बहुत-बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  93. कोमल भाव से सजी छोटी सी सुन्दर रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  94. उर्मि जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है... हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  95. नूतन जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  96. आचार्य परशुराम राय जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  97. अंकुर जैन जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद... आपका सदैव स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  98. राकेश कौशिक जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  99. aapki rachnayen bahut achhi lagi ..........
    bahut bahut abhar mere blog tak aane ka...........mere us lekh par aapne apna samay diya aur use sarthak btate hue meri asmanjsta ko दूर kiya kyonki मेरे इसी lekh को loksangharsh ne असहमति jatayi hai..

    उत्तर देंहटाएं
  100. रजनी मल्होत्रा नैय्यर जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार .... कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  101. You are welcome at my new posts-
    http://urmi-z-unique.blogspot.com
    http://amazing-shot.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  102. yaadon ke dard kee dawaa ahsaas bahut khoob
    tasveer men bhee pyaas ka itihaas bahut khoob
    padhte huye tasveer teer aa gayeen yaaden
    yaadon ke sivaa dard vo bisraa gayeen yaaden
    yaadon kee madhurimaa men bheeg , bheeg gayaa man
    itnaa karen ki aayen ,srijan ,mere vridaavan .
    audaarya ke liye dhanyawaad .

    उत्तर देंहटाएं
  103. डॉ. हरदीप कौर सन्धु जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  104. वीरेन्द्र जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  105. पूजा जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है... हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  106. तुम्हारी याद और नींद में इतनी दुश्मनी है..की ईधर तुम्हारी याद आती है
    ईधर नींद आ जाती है.......
    बहरहाल बेहतरीन रचना....साधुवाद आपको......

    उत्तर देंहटाएं
  107. This was very much much difficult to say at first time and still it is very critical to decide to me to comment on your any post or line.
    I FEEL THAT THE LINES ARE COME FROM PHOTOS OR THE PHOTOS ARE
    SELECTED FOR THESE LINES. THE CORORDINATION BETWEEN PHOTOS AND LINES ARE INCREDIBLE.
    NO THANKS NO REGARD JUST PRANAM........

    उत्तर देंहटाएं