22 July, 2011

अभिव्यक्ति प्रेम की ...


209 comments:

  1. सुंदर है यह मौन अभिव्यक्ति प्रेम की ...!!

    ReplyDelete
  2. वाह्….……कितनी खूबसूरती से प्रेम को परिभाषित कर दिया।

    ReplyDelete
  3. beautiful post. THis poem touched my heart,
    excellent write!

    ReplyDelete
  4. अपलक ... ! भाषा कैसी फिर !

    ReplyDelete
  5. अनुपमा त्रिपाठी जी,
    आपका स्नेह मेरी कविता को मिला...यह मेरा सौभाग्य है...

    ReplyDelete
  6. वन्दना जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  7. संजय भास्कर जी,
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    ReplyDelete
  8. रश्मि प्रभा जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....आभारी हूं...

    ReplyDelete
  9. मौन अपलक निहारना.
    क्या बात है.
    सुन्दर चित्र के साथ आपकी प्रस्तुति क्या प्रेम का ही इजहार है?

    'गिरा अलिनि मुख पंकज रोकी,प्रगट न लाज निसा अवलोकी'

    मेरी टिपण्णी पर आपकी प्रति टिपण्णी कुछ और भी प्रगट करे तो
    ज्यादा आनंद आयेगा.

    ReplyDelete
  10. sambad jab tak hain...purnatav ho hi nahi sakta..
    mera uttar hai...kadapi nahin

    ReplyDelete
  11. मौन अपलक निहारना.
    ..बहुत ही खूबसूरती से प्रेम को परिभाषित कर.प्रेम को एक नया और मासूम रुप देदिया है..बहुत सुन्दर..शरद जी..

    ReplyDelete
  12. राकेश कुमार जी,
    मेरी कविता के प्रति आपकी टिप्पणी रूपी काव्यपंक्ति के लिए आभारी हूं.

    ReplyDelete
  13. डॉ.आशुतोष मिश्रा आशु जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    ReplyDelete
  14. खूब लिखा.
    अपलक निहारना भी एक ज़बरदस्त अभिव्यक्ति है body language के अंतर्गत.

    ReplyDelete
  15. माहेश्वरी कनेरी जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं.

    ReplyDelete
  16. कुंवर कुसुमेश जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार.

    ReplyDelete
  17. जड़ता में भी ऎसी स्थिति बन जाती है .... मूक होकर अपलक शून्य दृष्टि से निहारते रहना.
    विषाद जब गहरा जाता है तब दृष्टि को किसी वस्तु पर टिका जाता है.
    हाँ ये सही है कि जब आकर्षण से प्रेम पनपता है तब समस्त ज्ञानेन्द्रियों को मुग्धता की स्थिति में ले आता है. और इसी मुग्धावस्था में जब वियोग या संयोग की स्मृति मानस में तैरती है तब भी दृष्टि को शून्य कर देती है.
    'मूकभावेन अपलक शून्य दृष्टि' एक मानसिक अवस्था है जो अतिशयता से उपजती है :
    — अति आकर्षण
    — अति विषाद
    — अति सुखद स्मृति
    — अति दुखद स्मृति

    ReplyDelete
  18. आदरणीय डॉ. (सुश्री) शरद सिंह जी,
    यथायोग्य अभिवादन् ।

    जी... बहुत कम शब्दों में आपने गीता और कुरआन के सार को रच दिया। बगैर कुछ कहे, जब जिन्दगी में बहुत कुछ कहना हो चले, तब वाकई में वह प्रेम ही होगा? हर धर्म, हर जाति और हर समाज में स्वीकार्य यह प्रेम, आज तलक खारिज क्यूं होता रहा है, समझ से परे है?
    जी... मंदिर की घण्टी और मस्जिद के अजान की जरूरत ही कहां रही, तब, जब ऐसा मौन सुनकर प्रेम की इस तरह अभिव्यक्ति हो सकती है?
    बेहतरीन रचना....। मंदिर-मस्जिद ही नहीं हर देहरी पर ऐसा मौन आवाज लगाये..... कामना है।

    रविकुमार बाबुल
    ग्वालियर

    ReplyDelete
  19. हमेशा की तरह अव्वल प्रस्तुति.....बहुत खूब ....

    ReplyDelete
  20. प्रतुल वशिष्ठ जी,
    मेरी कविता के प्रति अपलक शून्य दृष्टि से निहारने की बहुत सुन्दर व्याख्या की है आपने....हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...

    ReplyDelete
  21. रविकुमार बाबुल जी,
    मेरी कविता पर आपकी विस्तृत प्रतिक्रिया से अभीभूत हूं...
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  22. सारदा जी,
    आपको अपने इस ब्लॉग पर देख कर अत्यंत प्रसन्नता हुई...
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  23. 'मौन'तो सबसे बड़ा हथियार है ही । 'प्रेम'तथा 'युद्ध'के मैदान मे भी मौन रहने वालों की जीत सुनिश्चित है।

    ReplyDelete
  24. विजय माथुर जी,
    अपनी कविता पर आपकी विचारपूर्ण टिप्पणी पढ़ कर अत्यंत प्रसन्नता हुई. हार्दिक धन्यवाद...

    ReplyDelete
  25. मौन प्रेम की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..कुछ शब्दों में बहुत कुछ कह दिया..

    ReplyDelete
  26. kyaa baat hai..kitni badi baat kehi hai aapne....sundar:)

    ReplyDelete
  27. इससे बड़ी अभिव्यक्ति और क्या होगी....

    ReplyDelete
  28. उसकी इक आवाज सुनने को, ताउम्र मै तरसती रही..
    मौन रह वो सबकुछ कह गया, ये आंखें बरसती रही....

    मौन रहकर भी सब बोल देना निपुण प्रेम की सबसे बड़ी कला है..
    अति सुन्दर रचना...आभार...

    Suresh Kumar
    http://sureshilpi-ranjan.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. वाह! समंदर से भी गहरी अभिव्यक्ति छुपी है इन दो पंक्तियों में !
    आभार !

    ReplyDelete
  30. कैलाश सी.शर्मा जी,
    आभारी हूं आपकी सहृदय टिप्पणी के लिए....

    ReplyDelete
  31. Er. सत्यम शिवम जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....हार्दिक धन्यवाद .

    ReplyDelete
  32. यशवन्त माथुर जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  33. वीना जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    ReplyDelete
  34. सुरेश कुमार जी,
    मेरी कविता के प्रति आपकी टिप्पणी रूपी काव्यपंक्ति के लिए आभारी हूं.

    ReplyDelete
  35. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    ReplyDelete
  36. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  37. सदा जी,
    आपकी स्नेहिल टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    ReplyDelete
  38. मौन अपलक !!!...निहारना
    वाह क्या बात है !
    रचना और चित्र .......मौन ही मुखर हो उठता है

    ReplyDelete
  39. sabse pahle to aap ko namaskaar,
    aapka blog padkar bahut achha lagta hai....
    aap kam shabdon men sbkuchh kah dalhi hai....
    nayaab post hai...
    naya naya hun abhi blog jagat men...
    mere blog par aapka swagat hai....

    ReplyDelete
  40. ...बिलकुल नहीं हो सकती ! ....बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  41. हमेशा की तरह आप कम शब्दों में बहुत खुबसूरत अभिवयक्ति की है आपने.....

    ReplyDelete
  42. Lagta hai esa apki rachna padhkar,
    jeae ek bund me ho hjaron sagar,,
    achi lagi apki ye rachna......
    Jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  43. मौन अपलक निहारना ... बहुत खूबसूरती से प्रेम को अभिव्यक्त किया है ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  44. आदरणीय डॉ (मिस) शरद सिंह जी -बिलकुल नहीं हो सकती -ये आँखें बोलती है मौन कैसे आड़े आएगा पिय मिलन में ..सुन्दर गागर में सागर
    आभार आप का -बधाई भी
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  45. बिल्कुल नही। सत्य वचन।

    ReplyDelete
  46. सुरेन्द्र सिंह " झंझट "जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    ReplyDelete
  47. कुमार जी,
    मेरे ब्लॉग पर फिर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।

    ReplyDelete
  48. रजनीश तिवारी जी,
    मेरी कविता के मर्म को रेखांकित करती आपकी टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  49. रवि राजभार जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  50. सुषमा आहुति जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आभारी हूं।

    ReplyDelete
  51. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  52. साजन आवारा जी,
    मेरी कविता के प्रति आपकी टिप्पणी रूपी काव्यपंक्ति के लिए आभारी हूं.
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  53. संगीता स्वरुप जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    ReplyDelete
  54. सुरेन्द्र शुक्ला भ्रमर जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  55. अमित चन्द्रा जी,
    आपकी स्नेहिल टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    ReplyDelete
  56. यही सबसे सशक्त अभिव्यक्ति है, इसमें संदेह नहीं. सुंदर सृजन.

    ReplyDelete
  57. भूषण जी,
    मेरी कविता के मर्म को रेखांकित करती आपकी टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  58. वाकई नहीं .....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  59. आपने सवाल भी ऐसा पूछा है जो पढने में तो चंद शब्दों का है पर पूरी कायनात के जवाबों के सामने भी उतरित होकर भी, अंतत: अनुतरित ही रहेगा. बहुत लाजवाब अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    ReplyDelete
  60. इस छोटी सी रचना में कुछ बात बहुत बड़ी है जो बहुत देर तक मन के अंदर बैठी रही और यह शेर याद आ गया ...
    नज़र में ढ़ल के उभरते हैं दिल के अफ़साने,
    यह और बात है, दुनियां नज़र न पहचाने।

    ReplyDelete
  61. आपने तो गागर में सागर भर दिया है

    ReplyDelete
  62. एक सीधी लगनेवाली बात बेहद प्रभावशाली और कम शब्दों में, मगर दूर तक छूती बधाई

    ReplyDelete
  63. डा० शरद जी ,
    कृपया नीचे दिए लिंक पर एक बार दस्तक दें


    फुर्सत में ...

    ReplyDelete
  64. सतीश सक्सेना जी ,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  65. ताऊ रामपुरिया जी,
    बहुत सुन्दर ढंग से व्याख्यायित किया है आपने मेरी कविता के मर्म को....अनुगृहीत हूं.

    ReplyDelete
  66. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता के प्रति आपकी टिप्पणी रूपी काव्यपंक्ति के लिए आभारी हूं.
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  67. रोशी जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    ReplyDelete
  68. उपेन्द्र शुक्ल जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  69. sm ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.
    Always welcome your comments on my blogs.

    ReplyDelete
  70. कुश्वंश जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    विचारों से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  71. संगीता स्वरुप जी,
    आदरणीय मनोज जी के लिंक की सूचना देने के लिए हार्दिक आभार...संभवतः मुझे वहां तक पहुंचने में कुछ विलम्ब हो जाता किन्तु आप की सूचना पढ़ते ही मैं सीधे वहां पहुंची...
    आपका यह स्नेह एवं आपकी यह सदाशयता हमेशा मेरे मन को गहरे तक छू जाती है.
    पुनः हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  72. मौन की भाषा गहन होती है, शब्दों के परे होती है।

    ReplyDelete
  73. प्रवीण पाण्डेय जी,
    बहुत सुन्दर ढंग से व्याख्यायित किया है आपने मेरी कविता के मर्म को....अनुगृहीत हूं.

    ReplyDelete
  74. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  75. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  76. डोरोथी जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  77. अंकित पाण्डेय जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  78. prem ki abhivyakti hoti hee kuch aaisi hai, jo juban ko maloom naheen. sunder.

    ReplyDelete
  79. नीलम चंद जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  80. ये मौन मन्त्र मुग्धता प्रेम की शाश्वत अभिव्यक्ति है .संवाद यहाँ सतही नहीं डेफ्थ लिए होता है त्रि -आयामीय .सुन्दर अभिव्यक्ति चित्र मय .

    ReplyDelete
  81. प्रेम की अभिव्यक्ति का सुन्दर चित्रण। साधुवाद।

    ReplyDelete
  82. वीरूभाई जी,
    बहुत सुन्दर ढंग से व्याख्यायित किया है आपने मेरी कविता के मर्म को....अनुगृहीत हूं.

    ReplyDelete
  83. आचार्य परशुराम राय जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    ReplyDelete
  84. नैनों को सवाक संवाद की ज़रुरत ही कहाँ होती है .गलत कहा है किसी ने -न जुबान को दिखाई देता है ,न निगाहों से बात होती है .चितवन ही तो जादुई होती है जहां विहंगावलोकन भी त्रि -आयामीय होता है .

    ReplyDelete
  85. प्रेम की पराकाष्ठा को शब्दों में बांध लिया आपने .आभार

    ReplyDelete
  86. इतना ही काफी है प्यार जताने के लिए....सुन्दर रचना,आभार

    ReplyDelete
  87. वाह...क्या खूब कहा !

    ReplyDelete
  88. kum shavdo me vazanee abhivykti........
    wah kya baat hai?

    ReplyDelete
  89. वीरूभाई जी,
    बहुत सुन्दर ढंग से व्याख्यायित किया है आपने मेरी कविता के मर्म को....अनुगृहीत हूं.

    ReplyDelete
  90. आशीष जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  91. वीरेन्द्र जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....आभार।

    ReplyDelete
  92. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  93. अपनत्व...,
    विचारों से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  94. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  95. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    आपके ब्लॉग पर जाते ही एक्सप्लोरर क्रश हो जाता है. कृपया, उसे चैक कर लें.

    ReplyDelete
  96. काजल कुमार जी,
    मेरी कविता के मर्म पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  97. Suman ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.
    Always welcome your comments on my blogs.

    ReplyDelete
  98. वाह! प्रेम की उत्कृष्ट और सारगर्भित परिभाषा

    ReplyDelete
  99. kitna sunder likha hai gagar me sagar .in panktiyon ki vyakhya ki jaye to kavyadhara bah niklegi
    rachana

    ReplyDelete
  100. 'साहिल' जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  101. रचना जी,
    अनुगृहीत हूं कि बहुत सुन्दर ढंग से व्याख्यायित किया है आपने मेरी कविता के मर्म को....

    ReplyDelete
  102. समीर लाल जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  103. बहुत ही सुन्दर,शानदार और उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  104. 9 दिन तक ब्लोगिंग से दूर रहा इस लिए आपके ब्लॉग पर नहीं आया उसके लिए क्षमा चाहता हूँ ...आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

    ReplyDelete
  105. वाह! बहुत खूब! चंद पंक्तियों में आपने बड़े खूबसूरती से प्यार की परिभाषा को व्यक्त किया है! ज़बरदस्त प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  106. बहुत सुंदर....गागर में सागर ...
    यह मौन अभिव्यक्ति प्रेम की .

    ReplyDelete
  107. nahi..........................................

    kya kahun,shabd asmarth hai sach ki abhivyakti ke liye,
    aisa kya kaha tumne'tb bhi......
    aur kuch nahi kehna tb bhi......
    ahsaaso ka byaan .....khoobsoorat

    ReplyDelete
  108. ज़ालिम ज़माना...इतना वक्त ही कहाँ देता...

    ReplyDelete
  109. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  110. सवाई सिंह राजपुरोहित जी,
    मेरी कविता की सराहना के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  111. सवाई सिंह राजपुरोहित जी,
    देर से सही, आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद !

    ReplyDelete
  112. उर्मि जी,
    आमंत्रण के लिए आभार...

    ReplyDelete
  113. मुकेश कुमार सिन्हा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  114. डॉ. हरदीप संधु जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    बहुत-बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  115. अंजू जी,
    मेरी कविता के मर्म पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  116. वाणभट्ट जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  117. शिखा कौशिक जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  118. उर्मि जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  119. कविता बहुत अच्छी है ..अपलक निहारना! बहुत सुन्दर !
    ..टिप्पणियों में व्याख्या पढ़ी..बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  120. bahut sunder...yahi hai prem ki abhivyakti...

    ReplyDelete
  121. baar baar aa raha hooon...aplak niharti taswir pa raha hoon...kavita pahle padhi thi ab yaad ho gayi hai...use aplak maun niharna se badi koi abhivyakti nahi prem ki ..mudde pe dil ki dimag se ladai ho gayi hai....waiting for your another wonderful creation...sadar pranam ke sath

    ReplyDelete
  122. अल्पना वर्मा जी,
    आपकी स्नेहिल टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  123. कविता वर्मा जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  124. डा.आशुतोष मिश्र आशु जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं. आपका सदैव स्वागत है.

    ReplyDelete
  125. are behtareen hai...sahi soch..

    ummeed hai aap is blog pe likhi kuch rachnayein padhengi:
    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    aise hi kuch ehsaason ka samaavesh hai wahaan

    ReplyDelete
  126. aaderniya sharad ji behtreen kavita.. mei to bakeye maun ho gaye..

    ReplyDelete
  127. एहसास जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  128. कनक ग्वालियरी जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार....

    ReplyDelete
  129. as usual excellent photo with beautiful lines..

    ReplyDelete
  130. मौन था मन ,ह्रदय निस्पंद झुके हैं चक्षु ,मंजुकपोल और वो न जाने क्यूँ छुपाते रहे सूखे पड़े उन अधरों की सुर्ख़ियों में वो ढाई आखर प्रेम के.....अक्षय-मन

    मैं समझता हूँ प्यार शब्दों में या किसी अभिव्यक्ति मैं नहीं बंध सकता हाँ हम इस माध्यम से उसे परिभाषित करने की कोशिश कर सकते हैं...

    आपने बहुत ही अच्छा लिखा है..

    ReplyDelete
  131. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  132. मोहिन्दर कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  133. अमित श्रीवास्तव जी,
    Hearty Thanks for your comment...
    You are always welcome in my blog.

    ReplyDelete
  134. अक्षय मन जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  135. एस एन शुक्ला जी,
    मित्रता दिवस पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं...
    आभारी हूं स्मरण के लिए.

    ReplyDelete
  136. बहुत सुंदर रचना ! लाजवाब प्रस्तुती!

    आपके पास दोस्तो का ख़ज़ाना है,
    पर ये दोस्त आपका पुराना है,
    इस दोस्त को भुला ना देना कभी,
    क्यू की ये दोस्त आपकी दोस्ती का दीवाना है

    ⁀‵⁀) ✫ ✫ ✫.
    `⋎´✫¸.•°*”˜˜”*°•✫
    ..✫¸.•°*”˜˜”*°•.✫
    ☻/ღ˚ •。* ˚ ˚✰˚ ˛★* 。 ღ˛° 。* °♥ ˚ • ★ *˚ .ღ 。.................
    /▌*˛˚ღ •˚HAPPY FRIENDSHIP DAY MY FRENDS ˚ ✰* ★
    / .. ˚. ★ ˛ ˚ ✰。˚ ˚ღ。* ˛˚ 。✰˚* ˚ ★ღ

    !!मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये!!

    फ्रेंडशिप डे स्पेशल पोस्ट पर आपका स्वागत है!
    मित्रता एक वरदान

    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  137. सोनू जी,
    आपको भी मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  138. ज्योति सिंह जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  139. सवाई सिंह राजपुरोहित जी,
    आमंत्रण हेतु हार्दिक आभार एवं शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  140. सवाई सिंह राजपुरोहित जी,
    100वीं पोस्ट की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें!
    इसी तरह गतिवान रहें और लिखते रहें.

    ReplyDelete
  141. Mam u r awesome... n these few lines r just tremendous...
    shabd nahi mil rahe...
    padhne ke baad laga jaise kisi ne dil tatol kar uske raaz duniya ke saamne rakh diye...
    simply great...

    ReplyDelete
  142. क्या बात है शरद जी .....
    बहुत खूब .....
    अपनी सारी क्षणिकाएं तुरंत भेज दीजिये
    अपने संक्षिप्त परिचय और तस्वीर के साथ ......

    harkirathaqeer@gmail.com

    ReplyDelete
  143. नन्ही सी परिभाषा ,गागर में सागर.

    ReplyDelete
  144. बहुत अच्छी रचना है!
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  145. I like above the pictures. It's great stuff.

    ReplyDelete
  146. खूबसूर है प्रेम की यह परिभाषा।

    ReplyDelete
  147. रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  148. पूजा जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आपका सदैव स्वागत है.

    ReplyDelete
  149. हरकीरत ' हीर' जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं.

    ReplyDelete
  150. सपना निगम जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  151. अमरेन्द्र अमर जी,
    मेरी कविता को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  152. web hosting india ,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.
    Always welcome your comments on my blogs.

    ReplyDelete
  153. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  154. एस एन शुक्ला जी,
    आपको भी रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  155. Manish Kr. Khedawat ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.
    Always welcome your comments on my blogs.

    ReplyDelete
  156. आप कम से कम शब्दों में गहरी गहरी बातें समझा देती हैं वह भी प्रेम से प्रेम की ।

    ReplyDelete
  157. आशा जी.
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए आभारी हूं.

    ReplyDelete
  158. शून्य से सौन्दर्य की अनुभूति एक अदभुत कल्पना है शरद जी..
    साधु साधु
    मुझे आपका ई मेल आई डी दीजिये.. वेबकास्टिंग के लिये

    ReplyDelete
  159. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  160. bahut sahi hai ,sundar ,swatantrata divas ki dhero badhai .

    ReplyDelete
  161. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयां.

    ReplyDelete
  162. bahut sunder abhivekti.....kam shbdon ki...

    ReplyDelete
  163. गिरीश"मुकुल" जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद .

    ReplyDelete
  164. यशवन्त माथुर जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार।
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  165. ज्योति सिंह जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार।
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  166. कुंवर कुसुमेश जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें...

    ReplyDelete
  167. सुमन जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है... हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  168. अद्भुत रचना...बधाई स्वीकारें...यहाँ देर से आने पर क्षमा भी करें.

    नीरज

    ReplyDelete
  169. It looks like I am very late to comment on it.. but anyways
    brilliantly written as always and with simplicity a great message :)

    ReplyDelete
  170. नीरज गोस्वामी जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  171. Jyoti Mishra ji,
    I feel honored by your comment.
    Hearty thanks!!!
    You're always welcome.

    ReplyDelete
  172. boletobindas,
    Hearty thanks for your valuable comment !
    You're always welcome.

    ReplyDelete
  173. बहुत अच्छी रचना है यह मौन अभिव्यक्ति प्रेम की

    कृपया नीचे दिए लिंक पर एक बार दस्तक दें

    MITRA-MADHUR: व्यंगात्मक क्षणिकाएं......

    ReplyDelete
  174. कृपया नीचे दिए लिंक पर एक बार दस्तक दें

    MITRA-MADHUR: व्यंगात्मक क्षणिकाएं......

    ReplyDelete
  175. अरुण कुमार निगम जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार।
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  176. नीलकमल वैष्णव जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद .

    ReplyDelete
  177. नीलकमल वैष्णव जी,
    आमंत्रण के लिए हार्दिक धन्यवाद .

    ReplyDelete
  178. डॉ भावना जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.
    मेरे ब्लॉग पर फिर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  179. दिल को छुं गई आपकी रचना !

    ReplyDelete
  180. इन्द्रनील जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete
  181. दिल ही दिल की समझे परिभाषा.
    मौन ही बेहतर प्यार की भाषा.

    ReplyDelete
  182. राहुल पालीवाल जी,
    मेरी कविता को सराहने के लिए हार्दिक आभार।
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    ReplyDelete