14 March, 2013

मैं कहीं रहूं ....


27 comments:

  1. सुन्दर चित्र-लेख
    बढ़िया पंक्तियाँ आदरेया-

    चाहे मथुरा जा बसे, जाय द्वारिका द्वीप |
    होली के हुडदंग में, आये कृष्ण समीप |
    आये कृष्ण समीप, मार पिचकारी गीला |
    छुप छुप मारे टीप, रास आती है लीला |
    किन्तु कालिया-नाग, आज मिलता चौराहे |
    करता अनुचित मांग, खेलना होली चाहे ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए..

      Delete
  2. बहुत उम्दा सुंदर प्रस्तुति,,,शरद जी ,,,

    बीबी बैठी मायके , होरी नही सुहाय
    साजन मोरे है नही,रंग न मोको भाय..
    .
    उपरोक्त शीर्षक पर आप सभी लोगो की रचनाए आमंत्रित है,,,,,
    जानकारी हेतु ये लिंक देखे : होरी नही सुहाय,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने मेरी पंक्तियों को पसन्द किया आभारी हूं....

      Delete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए हार्दिक आभार, रविकर जी!

      Delete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. लिंक-लिक्खाड़ में शामिल करते के लिए हार्दिक धन्यवाद...आभार!

      Delete
  5. बेहतरीन रचना,आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद....

      Delete
  6. Replies
    1. आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

      Delete
  7. Replies
    1. बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

      Delete
  8. जी बहुत खूब ...... हर सवाल का इक जवाब

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने मेरी पंक्तियों को पसन्द किया आभारी हूं....

      Delete
  9. Replies
    1. इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं....

      Delete
  10. वाह....मेरी हर वजह का जवाब तू ..........

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी पंक्तियों को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

      Delete
  11. दिल से रची रचना ,सुन्दर ही होती है .

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर उम्दा प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  13. प्रेम की सर्वोच्च अवस्था ...आनंदित करती, गुदगुदाती रचना ..सादर प्रणाम के साथ

    ReplyDelete
  14. बहुत ही खुबसूरत सदा की भांति

    ReplyDelete
  15. आस्था के स्वर -आश्वस्त करती पंक्तियाँ!

    ReplyDelete