बुधवार, अक्तूबर 24, 2012

तुझे देखना मेरी चाह है .....


9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बेहतरीन प्रस्तुति,,,,

    उनका जिक्र उनकी तमन्ना,उनकी याद
    वक्त कितना कीमती है इन दिनों,,,,,,,,

    विजयादशमी की हादिक शुभकामनाये,,,
    RECENT POST...: विजयादशमी,,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब ...
    यह आपकी चाहत की,
    गहराई की,इन्तहा है ...

    स्वस्थ रहें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुबसूरत से खुबसूरत दिल से कही आँखों की महसुसियत

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तेरी याद बिन जो जियूं कभी
    मेरी सांस मुझपे गुनाह है....साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं