मंगलवार, जून 19, 2012

तुमने पत्र रखा ....


20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ... आज के जमाने में पत्र ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर से चर्चा मंच पर, रविकर का उत्साह |

    साजे सुन्दर लिंक सब, बैठ ताकता राह ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो गर्माहट पत्र में है वो मेल-चैट में कहाँ....
    बहुत सुन्दर....


    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह रचना वास्तव में कमाल की है....

    चित्र भी आप रचना के अनुसार ढूँढ ही लेते हैं.

    या फिर चित्र पहले मिलता है और रचना बाद में रची जाती है.

    यदि यह बात है तो भी कमाल है आपका सृजन.

    साधु!

    उत्तर देंहटाएं
  5. नेट चैट के युग में कागज़ थाम लिया

    वाह! बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के जमाने में पत्र ...

    दुर्लभ......!

    उत्तर देंहटाएं
  7. चित्र ज्यादा खूबसूरत है या कविता...तय नहीं कर पा रही|
    पत्र का सुखद एहसास...

    उत्तर देंहटाएं
  8. चित्र के हिसाब से पत्र अच्छा लगा,,,,,,सुखद प्रस्तुति,,,

    RECENT POST ,,,,फुहार....: न जाने क्यों,

    उत्तर देंहटाएं
  9. वो फूल को किताबों के पास रखता है,
    मुहब्बतों का मौसम कुछ खास रखता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. दाँतों में उँगलियों का दबाना कमाल है.
    तस्वीर-ए-ब्लॉग देख के जीना मुहाल है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जमाना कहीं भी पहुँच जाए, कागजों में जो लिखा जाता है वह बहुत मायने रखता है और कभी न ख़त्म होने के लिए होता है.

    उत्तर देंहटाएं