सोमवार, मई 21, 2012

नए ऋग्वेद लिखते हैं .....


21 टिप्‍पणियां:

  1. वाह...अद्भुत पंक्तियाँ हैं...बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. पसीने को संस्कृत में
    पंडितजी स्वेद लिखते हैं.
    मगर मन की 'निराशा' को
    मौलवी खेद लिखते हैं.

    @ मुझे मालूम है कि मैंने 'अभिधा शब्दशक्ति' का प्रयोग किया है, लेकिन आपने शायद 'तात्पर्य शब्दशक्ति' का सुन्दर प्रयोग किया है?

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये जो ऋग्वेद दिखता है
    अलसाई-सी आंखों में
    फलें-फूलें सभी सपने
    ऋचा बन-बन के जीवन में!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये हाइकू तो नहीं...पर जो भी विधा है...लाजवाब है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. 'ॠक' का अर्थ होता है छन्दोबद्ध रचना या श्लोक।
    इस लघु/आशु कविता में इस एक बिम्ब से महाकाव्य समाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह !!!!! लाजबाब प्रस्तुति,....

    उत्तर देंहटाएं
  7. असाधारण....चार पंक्तियों मे पूरा सागर भर दिया है
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इन चंद पक्तियों पर ऋग्वेद क्या सहस्त्रों महाकाव्य की रचना हो सकती है । इस भाव- प्रवण प्रस्तुति के लिए आपको तहे - दिल से शुक्रिया अदा करता हूं । मेरे पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया देकर मेरा मनोबल बढ़ाने के लिए आपका विशेष आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कैसे बतलाएं कहो नींद और ख्वाब की बातों का सिलसिला खुलकर होगी रुसवाई यहाँ ..........
    नींद आती नहीं, सपने दिखते नहीं ..
    ख्वाब आते हैं फिर, अपने होते क्यूँ नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  10. शरद सिंह जी , इस पोस्ट पर मैं अपनी प्रतिक्रिया दे चुका हूं । आपका मेरे पोस्ट पर आगमन मेरे मनोबल को बढ़ाता है । इसलिए अनुरोध है कि मेरे नए पोस्ट "कबीर" पर आकर मुझे प्रोत्साहित करें । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. डॉ शरद सिंह जी नयी विधा ...बहुत सुन्दर गहन भाव
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  12. जितना संक्षिप्त उतना ही अधिक प्रभावी लेखन

    उत्तर देंहटाएं