शुक्रवार, जून 08, 2018

दिल की पाठशाला में ... डॉ शरद सिंह

Dr (Miss) Sharad Singh, Author, Sociel Activist
मैं लैला या कि  शीरीं या  कि तेरी  हीर हो जाऊं
मगर तू भी तो मजनूं, राझणां,  फरहाद हो जाए
जो मैंने पढ़ लिया है पाठ, दिल की  पाठशाला में
वो पूरा पाठ तुझको भी तो इक दिन याद हो जाए
- डॉ शरद सिंह



#SharadSingh #Shayari #Ghazal
#World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh #Evening #दिल #याद #डॉशरदसिंह #ग़ज़ल

2 टिप्‍पणियां: