सोमवार, फ़रवरी 13, 2017

मेरे ख़्वाब में वो रहा मगर ... डॉ शरद सिंह

Shayari of Dr (Miss) Sharad Singh

मेरे ख़्वाब में वो रहा मगर कभी सामने नहीं आ सका
ये तो इंतेज़ार की हद रही, मेरा दिल कभी नहीं थका 

...डॉ शरद सिंह
#Shayari #SharadSingh

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें