मंगलवार, मई 13, 2014

मोतियाबिन्द ....

A Poem of Dr Sharad Singh
Cataract …

Came off in my eyes
Cataract of the neglect of loved ones
Relationships are dim
Even dim future
Does not appear on
Currently there are no loved ones
Is any doctor who could remove

The cataract in my eyes…
- Dr Sharad Singh

7 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन एक्सिडेंट हो गया ... रब्बा ... रब्बा - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र सिंह भदौरिया जी ....

      हटाएं
  3. रिश्ते धुधलाते हैं जब हम किसी काम के नही रहते। स्वार्थों की इस दुनिया में कोई नाता क्या और रिश्ता क्या।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मोतीयाबिंदु उनके आँखों में है जो माँ की आँखों में खुद को देख नहीं पाते...

    उत्तर देंहटाएं