सोमवार, सितंबर 17, 2012

तेरा नाम ले के .....


17 टिप्‍पणियां:

  1. टूटे हुए पत्ते का रंग अक्सर बदल ही जाता है ... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस बात को मैंने भी दो दशकों पहले कभी एक गीत में कुछ यूँ कहा था :

    "आपके घर की हवा चली.
    मिली राहत, हेमंत टली.
    'पिकानद' हल्दी अंगों पर
    लगाकर लगती है मनचली."

    *पिकानद = वसंत ऋतु

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुबसूरत प्यारी सी प्रस्तुति.
    क्या खूब कहा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर |सागर की लहरों से निकल कर कभी -कभी इलाहाबाद के संगम की भी सैर कर लिया करिये |

    उत्तर देंहटाएं
  5. हवा का रुख बदलता है, बदल पाई ऋतुएँ भी?
    बदल पायें तेरी यादें, ऐसी वो रुत कहाँ आई?

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इश्क में बूदी पंक्तियाँ ...
    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं