शुक्रवार, मई 20, 2011

तुमने मुझे पढ़ लिया....


205 टिप्‍पणियां:

  1. क्या है मेरे प्रेम का आरम्भ और उपसंहार ......
    बहुत सुंदर पंक्तियाँ

    हृदयस्पर्शी प्रश्न...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!
    शरद जी,इतनी सुन्दर पंक्तियाँ हैं कि सिर्फ 'बहुत खूब' कह के निकला नहीं जा सकता है.

    पढ़ तो डाली है प्रिये,मुहब्बत की किताब ,
    पर क्या कहूं,कुछ समझ नहीं आता है,
    कभी बन जाता है आगाज़ ही अंजाम,
    कभी अंजाम फिर आगाज़ बन जाता है.

    आपकी कलम को ढेरों सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम का आरम्भ और और प्रेम का उपसंहार बस प्रेम ही तो है.
    'पूर्ण इद पूर्ण इदं पूर्णात पूर्णम उद्च्येत'

    पृष्ठ दर पृष्ठ पढ़ लेने पर प्रेम में अपना होश ही कहाँ रह जाता है जी.

    आपने मेरे ब्लॉग पर अपने प्रेम की आनंद वृष्टि से आरम्भ किया था,जिससे मेरी पोस्ट हरी भरी हो जाती थी.बिना इस वृष्टि के अब सूखा पड़ने लगा है जी .ऐसे घोर 'सूखे' से उपसंहार न कीजियेगा,प्लीज.

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही तो सस्पेंस है...कहानी में रोचकता बनाये रखने के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेम की न जाने कितनी परिभाषाये है , आपने बगले झाकने का प्रश्न पूंछ लिया , हृदयस्पर्शी भी , बेहतरीन शब्दांकन के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या है मेरे प्रेम का आरम्भ और उपसंहार ......
    बहुत सुंदर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  8. विशाल जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    मेरी कविता आपको पसन्द आई....बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनुपमा जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई..
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. राकेश कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत कठिन है यह प्रश्न . उतना ही कठिन जितना प्रेम को प्रष्ट दर प्रष्ट पढ़ पाना. इस सुन्दर रचना के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. वानभट्ट जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचार सुखद लगे....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रश्मि प्रभा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुश्वंश जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  15. संजय कुमार चौरसिया जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपके आत्मीय विचारों के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  16. यशवन्त माथुर जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    मेरी कविता आपको पसन्द आई....बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  17. अवनीश सिंह चौहान जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  18. अभी उपसंहार बाकी है ...
    आपको पढ़ना जारी है ...
    जितने पृष्ठ लिखे
    वो शायद पढ़ लिए हों
    पर अभी और
    पृष्ठ लिखना बाकी है ...

    :):) बहुत दिनों बाद आप दिखाई दीं ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. संगीता स्वरुप जी,
    यात्राओं के कारण कई दिन बाद ब्लॉग पर लौटी हूं...
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार प्रस्तुती! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बबन पांडेय जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  22. उर्मि चक्रवर्ती जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुंदर पंक्तियाँ

    सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार प्रस्तुती! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर भाव भरी पंक्तियां अनेकों प्रशनों को उठाती हुई

    प्रेम का आरम्भ = एक कसक, एक दर्द
    प्रेम का उपसंहार = यादें, यादें और सिर्फ़ यादें
    और मध्य = एक लम्बा इन्तजार

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्या कह दिया आपने...सब कुछ प्रेम के कुछ शब्दों को मौन का गीत ही बना दिया ...बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  26. न कोई उद्गम, कोई अन्त,
    समय के ऊपर बहे अनन्त।

    उत्तर देंहटाएं
  27. इसका कोई आदि और अंत नहीं होता , जहाँ से शुरू होता है वही ठहरा रहता है क्योंकि इसके अंत के बाद तो फिर सृष्टि भी ख़त्म हो जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  28. अमरेन्द्र जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपके आत्मीय विचारों के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  29. मोहिन्दर कुमार जी,
    अपनी कविता पर आपके व्याख्यात्मक विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. Er. सत्यम शिवम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  31. प्रवीण पाण्डेय जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई... विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  32. रेखा श्रीवास्तव जी,
    आपके आत्मीय विचारों के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  33. ..क्या बात है शारदा जी आपकी सोंच को नमन ,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुन्दर कविता ...
    मै तो बस इतना जानू ....कि तुम में रब दिखता है यारा मै क्या करूँ ?
    ਕੁਝ ਪੰਜਾਬੀ ਵਿੱਚ ਵੀ ਕਹਿਣਾ ਚਾਹੁੰਦੀ ਹਾਂ...
    ....ਕਿ ਹਰ ਗੱਲ ਮੁਕਣੀ ਆ ਕੇ ਤੇਰੇ ਤੇ....!!!
    ਕਦੇ ਵਕਤ ਮਿਲ਼ੇ ਤਾਂ ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਹੜੇ ਫੇਰੀ ਪਾ ਜਾਣਾ !

    हरदीप

    उत्तर देंहटाएं
  35. जो शाश्वत हो उसका आरंभ क्या, अंत क्या!
    किताब खुली हओ, आंखें बंद, कोई पढ़े भी तो कैसे?

    उत्तर देंहटाएं
  36. शब्द कम है मगर हैं भाव गहरे है.

    उत्तर देंहटाएं
  37. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (21.05.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  38. ये तो शायद ही कोई बता पाये। कम शब्दों में बेहतरीन भावों को समायोजन किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  39. क्या है मेरे प्रेम का आरम्भ और उपसंहार
    bahut khoob man ko chhoo gayi baat

    उत्तर देंहटाएं
  40. आरम्भ में ’नेह’ था और उपसंहार में ’समर्पण’


    बहुत अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  41. कम शब्दों में ज्यादा कह जाने की महारत हासिल है आपको . प्यार की किताब प्रस्तावना और उपसंहार कौन बता पाया है .

    उत्तर देंहटाएं
  42. सुनील कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  43. डॉ. हरदीप संधु जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  44. आदरणीय शरद जी,
    यथायोग्य अभिवादन् ।

    आरम्भ
    और
    उपसंहार

    के जिस सिरे को जब वक्त की डोर बांध या जोड़ चलती है, तब शायद वहां से ही आरम्भ और उपसंहार सिर्फ बन कर रह जाता है प्रेम।

    बेहतरीन सवाल, सारे अनुयायी खुद से भी यह सवाल पूछने से नहीं चूकेंगे?
    शुक्रिया।
    रविकुमार सिंह
    http://babulgwalior.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  45. मनोज कुमार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई... विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  46. कुवंर कुसुमेश जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  47. Er. सत्यम शिवम जी,
    आभारी हूं मेरी कविता को शनिवार (21.05.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत करने के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  48. अमित चन्द्रा जी (ehsas),
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद.
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  49. रविकुमार सिंह जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  50. kya baat hai sharad ji ! :-)
    chhota sa prashn poora aakaash samete huye hai.

    उत्तर देंहटाएं
  51. प्रेम का आरम्भ और और प्रेम का उपसंहार बस प्रेम ही है.सुन्दर मनभावन प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  52. बाबुषा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  53. वन्दना जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई... विचारों से अवगत कराने हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  54. जी बहुत सुंदर रचना है। सच कहें तो प्रेम का आरंभ और उपसंहार तक पहुंचना आसान नहीं है। या हम ये कहें कि उसे महसूस तो कर सकते हैं लेकिन शब्दों में व्यक्त करना वाकई मुश्किल है। क्योंकि ईमानदारी भी तो होनी चाहिए।
    पोथो पढ पढ जग मुआ, पंडित भया ना कोय,
    ढाई आखर प्रेम का, पढे सो पंडित होय।।

    उत्तर देंहटाएं
  55. बहुत सुंदर रचना |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  56. वाह ... बहुत ही खूबसूरत पंक्तियां ।

    उत्तर देंहटाएं
  57. बहुत ही खूबसूरत रचना, आपकी लेखनी बहुत कम लफ्जों में बहुत बड़ी बात कह जाती है|

    उत्तर देंहटाएं
  58. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  59. गागर में सागर....बहुत खूब!
    देवेंद्र गौतम

    उत्तर देंहटाएं
  60. क्या है प्रेम का आरम्भ और उपसंहार !
    इतना कठिन प्रश्न ?
    उत्तर सम्भव नहीं … :)

    बहुत सुंदर रचना !
    पिछली दो तीन रचनाएं भी अभी देखी हैं … सब एक से एक ख़ूबसूरत हैं … बधाई !

    नाराज़ न हों तो पूछूं ? … आप जो चित्र लगाती हैं इतनी ख़ूबसुरत लड़कियां !
    … आपकी ही कुछ वर्ष पहले की तस्वीरें हैं क्या ?

    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  61. दो लाइन की एक मुकम्मल कविता.बहुत सुंदर शरद जी.
    आपकी दोनों झलकियाँ(ब्यूटी क्वीन और घर/ बाहरवाली ) निर्मित हो चुकी हैं.५ और १२ जून को आकाशवाणी लखनऊ से प्रसारण है.

    उत्तर देंहटाएं
  62. क्या है मेरे प्रेम का आरम्भ और उपसंहार .....

    प्रेम का आरम्भ तो होता है पर उपसंहार कहाँ...यह तो वह पुस्तक है जिसका पढना कभी समाप्त नहीं होता...कुछ शब्दों में बहुत कुछ कह दिया..बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  63. mere prem ka aarambh aur upsanghar
    kya achchha puchha hai .pakde gaye bechare .
    sunder abhivyakti
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  64. सराहनीय!
    आपकी की साहित्यिक-क्षणिकाओं की प्रदर्शनी में बिना टिकट लिए मैं प्रवेश कर गया और खो गया। निकलने के लिए अर्थ-दंड की अदायगी मुक्तक के रूप में कर रहा हूँ।
    ================================
    प्रेम के संवेग में कुछ, पांव रखते बह गए।
    और कुछ ’प्रस्तावना’ में, ही भटक कर रह गए॥
    किन्तु जो आगे गए, वे लोग फिर लौटे नहीं-
    वे तो ’उपसंहार’ में ही, घर बसा कर रह गए॥
    =============================
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  65. प्रकृति के किसी नियम का प्रारंभ और उपसंहार ढूँढना कठिन है. उसके मध्य में कई प्रश्न हैं और रहेंगे.
    सुंदर और जीवन से भरी हुई रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  66. वाह... बहुत खूब... बहुत ही गहरी बात लिख दी है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  67. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    मेरी कविता पर विचारों से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  68. आशा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया...हार्दिक धन्यवाद।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  69. सदा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  70. संजय भास्कर जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  71. उर्मी जी,
    आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  72. देवेन्द्र गौतम जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  73. सुषमा आहुति जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...आभारी हूं।
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  74. राजेन्द्र स्वर्णकार जी,
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    चित्रों की प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  75. मीनू खरे जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....
    मुझे पूरा विश्वास है कि मेरी झलकियां आपके द्वारा निर्मित हो कर लाजवाब रूप में सामने आएंगी...हृदय से आभारी हूं आपकी...

    उत्तर देंहटाएं
  76. कैलाश सी शर्मा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  77. डॉ० डंडा लखनवी जी,
    मेरी कविता के तारतम्य में आपकी काव्य पंक्तियां मेरे लिए पारितोषक के समान हैं...
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  78. भूषण जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  79. शाह नवाज़ जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  80. रचना जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  81. बात चाहे चित्र की करें या इस लघु प्रश्नकर्ता कविता की । दोनों ही बहुत खुबसूरती से उकेरी हुई सी लग रही हैं । धन्यवाद सहित...

    उत्तर देंहटाएं
  82. आरम्भ का तो पता भी चल जाए लेकिन उपसंहार कभी नहीं होता ....गहरी भावनाओं को अभिव्यक्त किया है आपने ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  83. रतन सिंह शेखावत जी,
    हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  84. सुशील बाकलीवाल जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  85. केवल राम जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  86. अति सुन्दर ....

    कम शब्दों में बहुत बड़ा प्रश्न .....

    चित्र संयोजन क्या कहना !

    उत्तर देंहटाएं
  87. गूंगे का गुड़ है जी, कैसे बताएं?

    दो पंक्तियों में ही आपने बहुत कुछ कह दिया.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  88. सुरेन्द्र सिंह झंझट जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  89. ललित शर्मा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  90. Dil khush ho gaya aapko padh kar.. Aage bhi padhna chahunga , aapka samarthak bankar... Kabhi humare blog me bhi aaye.. Mujhe khusi hogi

    उत्तर देंहटाएं
  91. अविनाश मिश्र जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  92. विवेक जैन जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  93. होता कहाँ है प्रेम का प्रारब्ध ,प्रति -दान ,और अव -दान ,
    प्रेम तो बस होता है ,फूलों की तरह ,
    गूंगे के गुड सा ,
    निर्गुनिया के ब्रह्म सा ,
    एक समर्पण और एक मुग्धा भाव .
    और आरम्भ और उप-संहार ही क्यों -
    मध्यांतर भी तो होता होगा प्रेम का ।
    होता होगा एक वर्तमान भी ,
    या कि प्रेम सिर्फ एक प्रवाह है ,
    सर्क्युलेशन हैं ,सांस की आवा -जाही
    है ,
    जिसकी हर उच्छ्वास मेरी भी है तेरी भी ।
    दूसरा है कहाँ ,
    प्रश्न -करता कौन ?
    उत्तरदाता कौन ?
    भावों को खंगाल देतीं हैं शरद की रचनाएं .सुन्दर !मनोहर !

    उत्तर देंहटाएं
  94. बहुत खूब डा० शरद। मेरे हिसाब से-

    मिलन में नैन सजल होते हैं, विरह में जलती आग
    प्रियतम, प्रेम है दीपक राग

    पूरी रचना यहाँ पर -http://manoramsuman.blogspot.com/2009/06/blog-post_09.html

    सादर
    श्यामल सुमन
    +919955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  95. वीरू भाई जी,
    एक सुन्दर कविता के रूप में की गई टिप्पणी के लिए आभारी हूं.
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  96. श्यामल सुमन जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  97. सुन्दर और बेहतरीन कविता...
    बहुत ही अच्छा लिखा है..... उम्दा प्रस्तुती
    आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  98. हम भी उस आसमान में उड़ने का खाव अपनी आँखों में रखते है ,अपनी कल्पनाओं के पंख तो हमने लगा लिया पर थोड़े से हमारे कदम डगमगाए से लगते है ,....बस आपकी कलम की सुन्दरता यूही बनी रहे ,चांदनी आये रात में आपसे बाते करने और सर्दियों की वो धुप आपका सुबह इंतजार करे .....

    उत्तर देंहटाएं
  99. सवाई सिंह राजपूत जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  100. पवन गुर्जर जी,
    आपकी शुभेच्छाओं के लिए आभारी हूं...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  101. समीर लाल जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  102. ज्योति मिश्रा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  103. बहुत खूब .. प्रेम का आरंभ और उपसंहार होता ही कहाँ ही ... ये तो सतत प्रवाह होता है ... लाजवाब पंक्तियाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  104. दो लाइनों में सब कुछ कह दिया ...जवाब शायद ही मिला होगा ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  105. Dr.Singh, it is difficult to read different dimensions of life of an individual. Nice photograph and poetry. Thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  106. कम शब्दों में बहुत बहुत कुछ कह दिया
    लाजवाब पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  107. "कुछ लोग असाध्य समझी जाने वाली बीमारी से भी बच जाते हैं और इसके बाद वे लम्बा और सुखी जीवन जीते हैं, जबकि अन्य अनेक लोग साधारण सी समझी जाने वाली बीमारियों से भी नहीं लड़ पाते और असमय प्राण त्यागकर अपने परिवार को मझधार में छोड़ जाते हैं! आखिर ऐसा क्यों?"

    यदि आप इस प्रकार के सवालों के उत्तर जानने में रूचि रखते हैं तो कृपया "वैज्ञानिक प्रार्थना" ब्लॉग पर आपका स्वागत है?
    http://4timeprayer4u.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  108. बहुत सुन्दर और गहरी सोच! साधुवाद!

    "कुछ लोग असाध्य समझी जाने वाली बीमारी से भी बच जाते हैं और इसके बाद वे लम्बा और सुखी जीवन जीते हैं, जबकि अन्य अनेक लोग साधारण सी समझी जाने वाली बीमारियों से भी नहीं लड़ पाते और असमय प्राण त्यागकर अपने परिवार को मझधार में छोड़ जाते हैं! आखिर ऐसा क्यों?"

    यदि आप इस प्रकार के सवालों के उत्तर जानने में रूचि रखते हैं तो कृपया "वैज्ञानिक प्रार्थना" ब्लॉग पर आपका स्वागत है?

    उत्तर देंहटाएं
  109. दिगम्बर नासवा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  110. सतीश सक्सेना जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  111. आचार्य परशुराम राय जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई. आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  112. रचना दीक्षित जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  113. वैज्ञानिक प्रार्थना,
    आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  114. sharad ji
    kamaal hai .aapne to gagar me sagar wali kavita ko charitarth kar diya hai .bahut bahut sundar.prem ka kabhi ant nahi hota vah to insaan ki vafa aur jafa dono se hi jivan paryant bana rahta hai .ya yun kahiye ki prem ki abhivykti kabhi bhi na mitne wali muk bhashha hai jo dil me hamesha ke liye jajb ho jaati hai .
    bahut hi behatreen prastuti
    hardik badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  115. आरंभ और उपसंहार ! प्रेम की किताब पूरी पढ़ने पर ये पन्ने कहीं किताब में ही गुम हो जाते हैं !
    बहुत ही सुंदर ! हार्दिक शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  116. पूनम जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  117. minoo bhagia ji,
    I feel honored by your comment.
    Hearty thanks!!!
    You're always welcome.

    उत्तर देंहटाएं
  118. रजनीश तिवारी जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  119. हेम पाण्डेय जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  120. डॉ. दिव्या जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  121. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई. आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  122. बहुत ही उम्दा शब्द है जी !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आप दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  123. बहुत सुंदर ,गहनता से परिपूर्ण प्रश्न .....
    हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  124. shabdo ka prayog behd khubsurti ke sath kiya gya hai hai... behtreen rachna ke liye apko dero bdhaye.

    उत्तर देंहटाएं
  125. मनप्रीत कौर जी,
    आपके विचार जान कर प्रसन्नता हुई...आभारी हूं.
    संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  126. अंजू जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  127. कनक जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  128. प्रसन्न वदन चतुर्वेदी जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई. आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  129. संकेत के शब्द , स्पंदन की भाषा
    जलाते पतंगे ने लिखी परिभाषा
    गंगा - यमुना के संगम सी पावन
    कलि -मधुकर की अनकही अभिलाषा .

    उत्तर देंहटाएं
  130. अरुण कुमार निगम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  131. वाह वाह! गागर में सागर! अतिउत्तम पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  132. 'साहिल'जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई. आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  133. आप तो बहुत सुन्दर लिखती हैं. चित्र भी कित्ता प्यारा है...बधाइयाँ.
    ___________________

    'पाखी की दुनिया ' में आपका स्वागत है !!

    उत्तर देंहटाएं
  134. kuchh kah bhi bahut kuchh kah diya aur vo sawaal puchh liya jiska jawaab koi kash hi de sake......heart touching poetry
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  135. आपके ब्लॉग में आकर ऐसा लगा जैसे किसी institute में आ गयी हूँ.सभी ब्लोग्स को इत्मीनान से पढ़ रही हूँ. वक़्त लगेगा. आपके ब्लॉग ज्ञान-वर्धन के लिए हैं , टिपण्णी के लिए नहीं. यह मेरी टिपण्णी नहीं ,केवल भावना है.

    उत्तर देंहटाएं
  136. आदरणीया, Dr (Miss) Sharad सिंह जी सप्रेम अभिवादन

    आपके ब्लॉग में पहुच कर बहुत अच्छा लगा
    आपकी लेखनी धार दार और संग्रहणीय है
    आपको हार्दिक बधाई ......... लक्ष्मी नारायण लहरे

    उत्तर देंहटाएं
  137. बहुत ही सुंदर| हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  138. प्रिय पाखी,
    टिप्पणी के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  139. अभिन्न जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  140. संतोष पाण्डेय जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  141. सपना निगम जी,
    अपनी कविता और अपने ब्लॉग्स के बारे में आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई.
    आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  142. लक्ष्मी नारायण लहरे जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  143. Patali-The-Village,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  144. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच- ५० ..चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  145. मेरे ब्‍लाग पर आपके आगमन का धन्‍यवाद ।
    आपको नाचीज का कहा कुछ अच्‍छा लगा, उसके लिए हार्दिक आभार

    आपका ब्‍लाग अच्‍छा लगा । बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  146. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  147. संगीता स्वरुप जी,
    मेरी रचना का आपने चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011 हेतु चयन किया है, यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है. आपके इस स्नेह की अत्यंत आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  148. मनोज अबोध जी,
    हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  149. कई बार पढ़ा पृष्ठ-दर-पृष्ठ........हर बार सिर्फ और सिर्फ आरम्भ ही आरम्भ नजर आता है.......

    उत्तर देंहटाएं
  150. वाह शरद जी, पर इमानदारी से कोई बता सका है क्या...?

    आपका ब्लाग भी बहुत खूबसूरत है...

    साधुवाद .......

    उत्तर देंहटाएं
  151. सुमित जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  152. योगेन्द्र मौदगिल जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  153. आपने हमारे ब्लाग पर अपने कदमों के निशान क्या छोड़े कि उनकी शिनाख़्त में आपके ब्लाग तक आ पहुँचा.
    आपका अंदाजे बयां पसन्द आया.ख़जुराहो की मूर्तियों पर आपका गंभीर अध्ययन भी देखा.

    छन्द बद्ध कविता का आग्रही होने के बावज़ूद आपकी सहज सरल मार्मित उक्तियां बेहद असर कारक हैं.

    तुमने मुझे पढ़ लिया

    फिर बताओ क्या है मेरे प्रेम का आरंभ उपसंहार.

    तस्वीर में दिलकश आँखों के सिवा होठो पर व्यंग्य भरी मुस्कान जैसे कह रही है क्यों बना रहे हो जनाब.
    अपनी ग़ज़ल में कहूँ-

    वो हवाओं में वार करता है.
    बहुत ऊंचे शिकार करता है.

    उसकी हसरत है क्या मैं जाने हूँ,
    मुझसे कहता है प्यार करता है.

    सच तो ये जो खुद को ही उम्र भर न पढ़ पाया वो किसी को क्या पढ़ सकेगा आपकी कविता सारे भरम तोड़ कर आइना दिखा रही है.

    शब्बा ख़ैर,

    अब तो जाते हैं बुतकदे से मीर,
    फिर मिलेंगे अगर ख़ुदा लाया.

    आमीन.

    उत्तर देंहटाएं
  154. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति..
    यह कविता भी अच्छी बन पड़ी है.

    उत्तर देंहटाएं
  155. डॉ.सुभाष भदौरिया जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  156. महफूज़ अली जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  157. singhSDM ji,
    Hearty Thanks for your comment...
    You are always welcome in my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  158. Prem main padhna... Yeh to swam mai hi ek prashn ki utpatii hai!

    Prem mai bas prem hota hai, anubhuti hoti hai, samarpan hota hai, tyag hota hai... Prashna ya pratyuttar nahi!!!

    उत्तर देंहटाएं
  159. शिल्पी जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई. आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  160. मोहक भावपूर्ण प्रश्न बहुत बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  161. शरद जी,

    बहुत ही सुन्दर शब्दों का चयन व् अति सुन्दर भावनायों की अविव्यक्ति
    - आशु

    उत्तर देंहटाएं
  162. अमृता तन्मय जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  163. आशु जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  164. शनिवार (१८-०६-११)आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ...नयी -पुरानी हलचल पर ..कृपया आईये और हमारी इस हलचल में शामिल हो जाइए ...

    उत्तर देंहटाएं
  165. अनुपमा त्रिपाठी जी,
    आपका आना सुखद लगा....उतना ही प्रसन्नतादायक संदेश...
    आभारी हूं.
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  166. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति.. बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  167. बहुत बहुत सुन्दर ! upsnhar koi nhi sochta ! milna hi badi baat hai !

    उत्तर देंहटाएं
  168. सुधीर जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई. आभारी हूं.
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  169. कनेरी जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  170. ऊषा राय जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर सुखद लगा...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  171. खूबसूरत चित्र, और उतनी ही सुंदरता से व्यक्त किये गए भाव. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  172. अभिषेक मिश्र जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....
    मेरे ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  173. prathi ji,
    Hearty Thanks for your comment...
    You are always welcome in my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  174. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  175. bibhinna blogs pe aapke comment dekh raha tha..to laga shayad ye naam to main barshon se jaanta hoon..sagar se koi rista to nahi hai..hindu urdu majlis mein kisi kitab ki charch bahut barso pahle ho rahi thi.. aap bahi sharad sing to nahin hai..aadi aadi...bas aaj main aapke blog tak pahuch gaya..aapki uplabdhiyan padhi..aap sagar se judi hai ye bhi jaana..jab pharmacy mein research kar raha tah tab bhi aapka naam sagar mein bahut charchit tha. in varshon mein aapki uplabdhiyan padhi..ataynt prashannata hui..mujhe thik se yaad nahi barsh 2000 ke karib aapki kisi nayi kitab par kaphi charcha hui thi..sagar ke karykraomon ke baad aapse is tarah milna behad accha laga..aap mere blog pe sadar amantrit hain..aapke comment mera path pradarshak honge

    उत्तर देंहटाएं
  176. प्रेम का आदि और उपसंहार जिसने जान लिया वो पार हो गया. बहुत ही नायाब और श्रेष्ठतम रचना.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  177. प्रेम का आदि और उपसंहार जिसने जान लिया वो पार हो गया. बहुत ही नायाब और श्रेष्ठतम रचना.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं