शुक्रवार, अप्रैल 22, 2011

प्रेम को यदि समझ सको तो........


187 टिप्‍पणियां:

  1. samajhdaar logon ko ye naseeb nahin hota...pyaar koi bol nahin...pyaar awaaz nahin...ek khamoshi hai hai...kahti hai suna karti hai...

    उत्तर देंहटाएं
  2. .प्रेम का एक और सही अर्थ सुन्दर भावाव्यक्ति, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय...!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खुबसुरती से प्रेम को परिभाषित किया है...सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वानभट्ट जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुनील कुमार जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    कृपया इसी तरह अपने विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Er. सत्यम शिवम जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  9. bas samajh sako to..... apn ye rachna vatvriksh ke liye bhejen rasprabha@gmail.com per parichay tasweer blog link ke saath

    उत्तर देंहटाएं
  10. कवियों की रचनाओं का अनमोल संग्रह का संपादन मैं पुनः कर रही हूँ , सबकी तरफ से एक निश्चित धनराशि का योगदान
    है ... क्या शामिल होना चाहेंगे ?
    इस पुस्तक में 25-30 कवियों/कवयित्रियों की प्रतिनिधि कविताओं को संकलित की जायेंगी।
    इस पुस्तक का संपादन रश्मि प्रभा करेंगी।
    एक कवि को लगभग 6 पृष्ठ दिया जायेगा
    सहयोग राशि के बदले में पुस्तक की 25 प्रतियाँ दी जायेंगी।

    यदि कोई कवि 25 से अधिक प्रतियाँ चाहता है तो उसे अभी ही कुल प्रतियों की संख्या बतानी होगी। अतिरिक्त प्रतियाँ उसे
    अधिकतम मूल्य (जो कि रु 300 होगा) पर 50 प्रतिशत छूट (यानी रु 150 प्रति पुस्तक) पर दी जायेंगी।
    यदि किसी कवि ने अतिरिक्त कॉपियों का ऑर्डर पहले से बुक नहीं किया है तो बाद में अतिरिक्त कॉपियों की आपूर्ति की गारंटी हिन्द-युग्म
    या रश्मि प्रभा की नहीं होगी। यदि प्रतियाँ उपलब्ध होंगी तो 33 प्रतिशत छूट के बाद यानी रु 200 में दी जायेंगी।
    कविता-संग्रह की कविताओं पर संबंधित कवियों का कॉपीराइट होगा।
    सभी कवियों और संपादक को 20 प्रतिशत की रॉयल्टी दी जायेगी (बराबर-बराबर)

    उत्तर देंहटाएं
  11. शरद सिंह जी आपने तो चन्द शब्दों में बहुत कुछ कह दिया है । सन 2000 से पहले मनेन्द्रगढ़[ आज का छत्तीसगढ़ में] के डिग्री कॉलिज में एक बार आपकी प्रभावशाली कविताएँ सुनी थी । आज तक अपनी अभिव्यक्ति में वही ताज़गी बनाए हुए हैं आप ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. समझ सको तो इश्वर के-
    पास ले जाता है प्रेम ....
    समझ को समझाना भी एक समझ है .....!!
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. चंद लफ़्ज़ो मे सारा फ़लसफ़ा समझा दिया………बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीया शरदजी, नमस्कार
    जिस तरह " हरी अनंत - हरी कथा अनंत " ठीक उसी प्रकार "प्रेम अनंत - प्रेम कथा अनंत "
    ढाई अक्षर में आज पूरा विश्व बंधा हुआ है , अगर ये ढाई अक्षर नहीं होते तो इंसान का अस्तित्व कब का खत्म हो गया होता !

    बहुत सुन्दर लिखा !

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रेम को शब्दों की जरुरत ही कहाँ होती है.

    दिल ने दिल की बात समझ ली अब मुंह से क्या कहना है...

    उत्तर देंहटाएं
  16. सही अर्थों में प्रेम निश्छल होता है .

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (23.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रेम एक बड़ी शक्ति है परन्‍तु पवित्र प्रेम करने के लिए बहुत शक्ति चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  19. रश्मि प्रभा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह स्नेह बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  20. रश्मि प्रभा जी,
    आप कवियों की रचनाओं का अनमोल संग्रह का संपादन करने जा रही हैं...इस हेतु आपको हार्दिक बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  21. यशवन्त माथुर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  22. रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'जी, (सहज साहित्य)
    मेरे काव्यपाठ के स्मरण हेतु आभारी हूं...सुखद लगा...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  23. अनुपमा जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह स्नेह बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  24. वंदना जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि मेरी गज़ल आपको पसन्द आई....
    बहुत-बहुत आभार......
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. संजय कुमार चौरसिया जी,
    आपने सही लिखा है कि-‘ढाई अक्षर में आज पूरा विश्व बंधा हुआ है , अगर ये ढाई अक्षर नहीं होते तो इंसान का अस्तित्व कब का खत्म हो गया होता !’
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  26. विजय रंजन जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  27. गौरव शर्मा "भारतीय" जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत एवं आभार।
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुशील बाकलीवाल जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. विजय माथुर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. प्रवीण पाण्डेय जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    हार्दिक धन्यवाद ....
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  31. Er. सत्यम शिवम जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपने मेरी कविता का चयन शनिवासरीय चर्चा मंच हेतु किया है...
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आपको बहुत बहुत धन्यवाद एवं हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  32. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे चिन्तनशील साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  33. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  34. आदरणीय डॉ.शरद सिंह जी
    नमस्कार !
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  35. संजय भास्कर जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत एवं आभार।
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  36. पुनः आभार संजय भास्कर जी !
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  37. डॉ.शरद सिंह जी
    ...... बहुत सुंदर काबिलेतारीफ बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  38. प्यार तो प्यार होता है। ये तो दिल की आवाज है। जुबॉ की जरूरत ही नही पड़ती।

    उत्तर देंहटाएं
  39. आदरणीया शरद जी , गिरीश बिल्लोरे जी के ब्लॉग से आपके ब्लॉग पर पहुंचे हैं ..और फिलहाल इतना ही कि अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं ।प्रिंट मीडिया के बाद यहाँ आपको देखना अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  40. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति प्रेम की ... बधाई... और फोटो भी बहुत सौम्य.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत सुंदर कविता है और प्रस्तुतिकरण भी बहुत शानदार है!

    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  42. ek darshnik ,dubara darshnik nahin ho sakata .
    kabir ne kaha hai---" dhayi aakhar prem ka padhe so pandit hoy" mithe jal -srot ke pravah jaisi rachana .badhayi ji.

    उत्तर देंहटाएं
  43. प्रेम की बहुत सुन्दर परिभाषा दी है आपने इस छोटी सी रचना में!

    उत्तर देंहटाएं
  44. प्रेम पर संक्षिप्त मगर सारगर्भित अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  45. संजय भास्कर जी,
    पुनः ...पुनः ...पुनः आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  46. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह स्नेह बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  47. अमित चंन्द्र जी, (ehsas)
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद...
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आभार... आपका स्वागत है।
    संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  48. शरद कोकास जी,
    अपने ब्लॉग पर आपको देख कर सुखद लगा...
    आपका स्वागत है।
    इसी तरह स्नेह बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  49. नीरज गोस्वामी जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  50. डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  51. विवेक जैन जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  52. क्या बात है .....निर्मल आनन्द मिला .....आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  53. आदरणीय शरद जी,
    यथायोग्य अभिवादन् ।

    ढ़ाई आखर को जिस सहज और सरल शब्दों में समझाया आपने, यकीनन वह बहुत आसान नहीं रहा होगा?
    कोई हाथों कि लकीरों के बहाने तो कोई जानते-बूझते प्रेम के दरीया में उतर कर डूबता - उतराता ही है। गवाही बस एक समन्दर की जरुरी है, कि कोई क्यूं डूब कर बच जाता है तो कोई डूब ही नहीं पाता है....?
    बेहतरीन रचना ..... , शुक्रिया।

    रविकुमार सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  54. एक गहन एवं गंभीर दर्शन को आपने थोड़े से शब्दों में सशक्त रूप से अभिव्यक्त किया है ! मेरी बधाई स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  55. उदय वीर जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  56. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी, (उच्चारण)
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  57. कुंवर कुसुमेश जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई ...
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  58. निवेदिता जी,
    मेरी कविता पर अपने विचार व्यक्त के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  59. रविकुमार सिंह जी,(babul)
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    स्नेह बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  60. साधना वैद्य जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह स्नेह एवं आत्मीयता बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  61. bahut khubsurat kabita....sharad ji namste....chhoti chhoti baaton me kabhi kabhi gehre bhaaw chhipe hote hai....bhut lajabab...

    उत्तर देंहटाएं
  62. आरती झा जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  63. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  64. आशा जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसी चिन्तनशील कवयित्री के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  65. काश कि कोई कमझ पाता....मैं भी समझ पाती कि किन शब्दों में तारीफ करूं...
    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  66. यदि समझ सको तो... कितनी गहरी बात, कितना कठिन कार्य, कितने कौशल की आवश्यकता और आप उसे चंद शब्दों में कह गईं।

    उत्तर देंहटाएं
  67. वीना जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  68. धीरेन्द्र सिंह जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  69. चंद पंक्तियों में ही प्रेम की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति... लाजवाब रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  70. दिगम्बर नासवा जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  71. संध्या शर्मा जी,
    अपनी कविता पर आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई ...
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  72. इसमें कोई दो राय नहीं है दोस्त |
    हकीक़त को परिभाषित करती खुबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  73. निस्संदेह प्रेम ऐसा ही होता है .बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  74. har baar ki tarah prashansaa hi karni pad rahi hai. ab jo achchha hi likhe, to kahnaa hi padega-vaah-vaah....

    उत्तर देंहटाएं
  75. apki is prastuti me prem ke liye aisi hi chhavi banayi jaye to sach me ek shabd se bhi adhik mukhar ho jata hai prem. sunder prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  76. तमाम बुद्धिजीवियों की तरह एक अप्रतिम लघु रचना के लिए मेरी तरफ से भी आपको बधाई.. अतुल

    उत्तर देंहटाएं
  77. मानाक्षी पंत जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.... मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  78. अमृता तन्मय जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  79. गिरीश पंकज जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आप जैसे साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  80. अनामिका जी,
    मेरी कविता को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  81. अतुल कुश्वाहा जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  82. अनेक लोगों ने अनेकों अवसरों पर यही बात कही है..मगर आपके कहने पर लगा जैसे एक नयापन है प्रेमकी इस परिभाषा में.. बहुत ही कोमल!!

    उत्तर देंहटाएं
  83. सलिल वर्मा जी,(चला बिहारी ब्लॉगर बनने)
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  84. प्रेम तो मुखर होकर नहीं बल्कि अनुभूति से प्रगाढ़ होता है ..बहुत सुंदर भाव ..आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  85. शब्‍दों को सार्थक करता, भावों के समर्थन में चित्र.

    उत्तर देंहटाएं
  86. उठा बगुला प्रेम का ,तिनका उडा आकाश
    तिनका तिनके से मिला,तिनका तिनके पास

    प्रेम का बगुला तो शब्द से,मौन से ,चितवन से या मुस्कुराहट से
    कैसे भी उठ खड़ा हो सकता है.जिनमें प्रेम हैं ,उन्हें तो बस बहाना चाहिये.लेकिन यह तय बात है कि प्रेम अहं को गला के आकाश जैसा विस्तृत कर देता है और प्रेम में प्रेमी को एकाकार कर देता हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  87. राम-राम जी,
    एक शब्द
    आपकी तो ज्यादा मेहनत टिप्पणी का जवाब देने में ओ गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  88. लाजवाब /बेमिसाल कम शब्दों में सहज और बेहतरीन अभिव्यक्ति |नमस्ते |

    उत्तर देंहटाएं
  89. प्रेम ...
    चितवन
    मुस्कराहट
    और मौन से 'ही' मुखर होता है शरद जी...
    कितनी सीधी बात है मगर समझ कहाँ आती है
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  90. हकीक़त को परिभाषित करती खुबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  91. केवल राम जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे दार्शनिक साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  92. राहुल सिंह जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  93. राकेश कुमार जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    कृपया इसी तरह अपने विचारों से अवगत कराते रहें।

    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए हार्दिक धन्यवाद! आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  94. संदीप पंवार जी,(जाट देवता)
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  95. अमि'अज़ीम' जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  96. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे साहित्य मनीषी के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  97. आनन्द द्विवेदी जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  98. Patali-The-Village,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  99. बहुत खुबसुरती से प्रेम को परिभाषित किया है...सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  100. अत्यंत अर्थपूर्ण रचना के लिए बधाई.
    'यदि समझ सको तो'........यही तो विवशता है.
    जो सहज है ,वही इतना दुरूह क्यों हो जाता है?!

    उत्तर देंहटाएं
  101. वाह!! बेहतरीन भावों की प्रवाहमयी बानगी... उम्दा रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  102. मिथिलेश दुबे जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  103. ऋषभ जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  104. समीर लाल जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  105. व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.

    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् और आशा करता हु आप मुझे इसी तरह प्रोत्सन करते रहेगे
    दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  106. gagar me sagar bhara hai aapne kam shbdon me bahut kuchh kahna aapki visheshta hai
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  107. कम शब्दों में प्रेम रस का अद्भुत वर्णन . आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  108. sharad ji , bahut hi kam shabdo me aapne jaadu sa bhar diya ... waah

    badhayi .

    मेरी नयी कविता " परायो के घर " पर आप का स्वागत है .
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/04/blog-post_24.html

    उत्तर देंहटाएं
  109. इतने कम शब्दों में 'प्रेम' की इससे अच्छी परिभाषा और क्या हो सकती है !

    वाह शरद जी ....चित्र का संयोजन आपकी कविता को स्वरुप प्रदान कर रहा है |



    "ढाई आखर प्रेम का , पढ़े सो पंडित होय "

    उत्तर देंहटाएं
  110. दिनेश पारीक जी,
    आभारी हूं कि आपने अपने विचारों से अवगत कराया...
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  111. रचना जी,
    आपके आत्मीय विचार मेरे लिए अमूल्य हैं...
    इसी तरह स्नेह बनाए रखें....
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  112. ओम कश्यप जी,
    देर से ही सही...आपका आना सुखद लगा...
    मेरी कविता को पसन्द करने के लिए आभार..
    संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  113. आशीष जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  114. विजय कुमार सप्पत्ती जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  115. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  116. आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अपने अपना कीमती वक़्त मेरे लिए निकला इस के लिए आपको बहुत बहुत धन्वाद देना चाहुगा में आपको
    बस शिकायत है तो १ की आप अभी तक मेरे ब्लॉग में सम्लित नहीं हुए और नहीं आपका मुझे सहयोग प्राप्त हुआ है जिसका मैं हक दर था
    अब मैं आशा करता हु की आगे मुझे आप शिकायत का मोका नहीं देगे
    आपका मित्र दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  117. दिनेश पारीक जी,
    आभारी हूं कि आपने अपने विचारों से अवगत कराया...
    किन्तु आपका उलाहना कि ‘और नहीं आपका मुझे सहयोग प्राप्त हुआ है जिसका मैं हक दर था ’...आशय मैं समझ नहीं पा रही हूं। बहरहाल मैंने आपके ब्लॉग ‘कुछ तुम कहो कुछ मैं कहु’ पर आपका सुन्दर वैचारिक लेख पढ़ा है और उस पर अपने विचार भी टिप्पणी के रूप में में व्यक्त किए हैं।
    फिर भी अपनत्वपूर्वक अपने विचारों से अवगत कराया जिसके लिए हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  118. शरद जी ,

    कुछ व्यस्तता की वजह से देर से आना हुआ ...पर आपकी रचना पूरी नहीं पढ़ पा रही हूँ ..

    प्रेम ,
    एक शब्द भी ...

    अब इसके आगे क्या है नहीं मालूम ...आप मेल कर सकती हैं ..
    sangeetaswarup@gmail.com

    वैसे प्रेम को अपने शब्दों के अनुसार परिभाषित किया होगा जो निश्चय ही सटीक होगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  119. वाह ... बहुत ही अनुपम शब्‍द रचना ... इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  120. संगीता स्वरुप जी,
    आभारी हूं कि आपने मेरी कविता के प्रति अपनी रुचि प्रकट की... यह मेरे लिए उत्साहजनक है...
    कभी-कभी तकनीकी कारणों से सामग्री एक बार में पूरी लोड नहीं हो पाती है...फिर गड़बड़ी स्वतः ठीक हो जाती है...

    इसी तरह स्नेह बनाए रखें....
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  121. सदा जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  122. "isi bhaavbhumi par aake kavi dinkar ne kahaa hogaa -satya hi rahtaa nahin ye dhyaan ,tum ,kavita ,kusum ,yaa kaamini ho .
    roshni ko bhi roshan kartaa hai prem jab mukhrit hotaa hai .
    veerubhai.

    उत्तर देंहटाएं
  123. 'Besabab n huaa kare aamad-e-baadal
    har boond ko teri khushbuon ka sila mile'.....

    ...........bahut hi umda....prem ki shabdon me abhivykti..itni khubsurti k saath...bahut badiya hai...

    उत्तर देंहटाएं
  124. जी हाँ ..गडबड़ी ठीक हो गयी :):) और सही कहा है की प्रेम शब्द के बिना भी मुखर हो जाता है ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  125. वीरूभाई जी,
    आपके सुन्दर विचारों के लिए आभार...
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  126. रमेश जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  127. संगीता स्वरुप जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    हार्दिक धन्यवाद....
    इसी तरह स्नेह बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  128. मौन भी अभिव्यक्ती का माध्यम है और प्रेम तो मौन अभिव्यक्ति है. अर्थपूर्ण रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  129. प्रेम बिन बोले बहुत कुछ कह जाता है आँखों से मुस्कानसे । सुंदर बहुत ही सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  130. ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होए....बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  131. गुर्रमकोंडा नीरजा जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  132. दिव्या श्रीवास्तव जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  133. आशा जोगलेकर जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  134. अमित श्रीवास्तव जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  135. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीर के साथ बहुत ही ख़ूबसूरत बात कही आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  136. छोटी-छोटी रचनाएँ और प्रस्तुति का बेहतरीन अँदाज...

    उत्तर देंहटाएं
  137. और एक गुस्से से !
    प्रेम की भाषा ही अलग है ..
    समझने के लिए दिल चाहिए ..
    बहुत सुंदर रचना , शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  138. शरद जी, आपकी कविता क्‍या, आपको तो अरसे से समग्ररूप से पसंद करता हूं साहित्‍य में...न जाने कितनी कटिंग्‍स आज भी सहेजी हैं । बहुत दिलकश लिखती हैं आप..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  139. बहुत सुन्दर और शानदार रचना प्रस्तुत किया है आपने! उम्दा पोस्ट!

    उत्तर देंहटाएं
  140. जानते हैं खामौशी भी एक जुबां होती है
    आपकी हर अदा खुद में एक बयां होती है

    उत्तर देंहटाएं
  141. लाल और बवाल जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  142. के एन कायस्थ जी,
    मेरी कविता पर अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  143. रजनीश तिवारी जी,
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  144. मनोज अबोध जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    हार्दिक धन्यवाद....
    इसी तरह स्नेह बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  145. उर्मी जी, (Babli)
    जानकर सुखद लगा कि आपको मेरी कविता पसन्द आई.
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  146. मनु जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  147. मोहिन्दर कुमार जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  148. डॉ.साहिबा आपने मेरे ब्लॉग से अभी तक क्यूँ मुहँ मोड़ा हुआ है.
    कोई नाराजगी हों तो बताईयेगा.आपके बैगर मेरी हर पोस्ट अधूरी सी लगती है.

    उत्तर देंहटाएं
  149. Prem mukhrit hota hai to shabd khamosh ho jaate hain...man ke taar chhir jaate aur ham khamoshi ke sur merin taal milate hain...aankhein bolti hain...sirf aankhein...

    Bahut badhiya shaili hai aapki...dekhan mein chhotan lage...bhaav bare gambheer...
    Badhayee.

    उत्तर देंहटाएं
  150. कुछ रचनाएं ऐसी होती है कि कितनी बार पढिए वो हमेशा नई लगती हैं। ये रचना कुछ वैसी ही है। बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  151. राकेश कुमार जी,
    आपके उलाहने का स्वागत है...यात्राओं के कारण कई दिन बाद ब्लॉग पर लौटी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  152. विजय रंजन जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  153. विकास गर्ग जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  154. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    हार्दिक धन्यवाद....
    इसी तरह स्नेह बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  155. Dr Divya ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.
    You're always welcome.

    उत्तर देंहटाएं
  156. आदरणीय शरद जी,
    प्रेम इतनी आत्मीय अभिव्यक्ति आप·े माध्यम से मुझे समझने ·े लिए मिली , इस·े लिए शु·्रिया.......।

    उत्तर देंहटाएं
  157. कनक जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  158. Theek kaha aapne

    pyaar mahsoos karne ki cheej hai

    kahne sune ki nahin.....

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  159. आपकी रचनाओं में सृजन की नई उमंग नजर आती है जिसे कुछ शब्दों ,कुछ वाक्यों में कह पाना मुश्किल है
    साहित्य के क्षेत्र में आपका नाम माहा देवी वर्मा की तरह रोशन हो यही आशा के साथ ....

    --

    उत्तर देंहटाएं
  160. लक्ष्मीनारायण लहरे जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  161. jab se blog sanskriti me pade hain banjaar ho gaye hain...kabhi is blog pe to kabhi us pe din beetta hai...sabne apne apne blog saja rakhe hain..shadon se behtarin bhavchitra bana rakhe hai..aapka naam kuch blogs pe lagatar paya..phir taswir dekhkar bhi sir chakaraya..kahin aapka sagar se koi sambandh to nahi hai prasna uth aaya.. utsuktawash aapke blog pe aaya..saamne aapka profile paya..sagar se aapke jujab ne utsukta jaga di..maine profile padhkar rachnaon pe najar laga di..behtarin rachnayein padhte padhte sochta ja raha tha...barshon pahle sagar mein hindu urdu majlis ka drishya najar aa raha tha..aapki kisi kitab ki charch thi..tabse jehan me jo naam tha use aaj blog pe dekhkar dil harshaya..aapne kamal kar dala..itne barson mein hi itna likh dala..aapki kalam chalti rahe..aapki mashal jalti rahe..inhi shabdon ke sath me pranam swikar kijiyega..aur kabhi vyasta na hon to mere blog pe bhi chand lamhe dijiyega

    उत्तर देंहटाएं
  162. डॉ आशुतोष मिश्रा आशु जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है ....इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  163. आपकी छोटी छोटी कविताये दिल में बस जाती है , कभी हंसती हिया , कभी रुलाती है .. क्या कहूँ.. आप तो बस इतना बेहतरीन लिखती है कि कुछ कहने केलिए शब्द नहीं होते है ..

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं
  164. विजय कुमार जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  165. डॉ सुशीला गुप्ता जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपका सदा स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  166. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

    1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    2- BINDAAS_BAATEN: रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

    3- http://neelkamal5545.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  167. बहुत अच्छा ।
    ।अच्छी प्रस्तुती।

    उत्तर देंहटाएं
  168. मेरी कविता मेरी आँखों में पढो।मई को
    पढिये अच्छा लगेगा।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं