शुक्रवार, अप्रैल 01, 2011

सिर्फ एक ‘हैलो !’.....


167 टिप्‍पणियां:

  1. सिर्फ एक हेलो ..... सच मन में बस जाती है..... पोर-पोर में समा जाती है....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सिर्फ एक हैलो बन जाती है दस्तक !वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय डॉ. शरद सिंह जी
    नमस्कार !
    सिर्फ एक हेलो
    बहुत सुन्दर सन्देश.....शानदार रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूरी रचना शानदार... लेकिन ये पंक्तियाँ डायिरेक्ट अपने दिल में घुस गईं....

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोमल अभिव्यक्ति भावों की -
    मन के आगे किसी का जोर नहीं चलता -
    सुंदर रचना -

    उत्तर देंहटाएं
  6. डॉ.शरद जी,
    क्या बात है....
    वाह!
    वाह!बन जाती है दस्तक सिर्फ एक हेलो !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम की
    पहली दस्तक
    बन कर

    हाँ किसी मंजिल की शुरुआत एक कदम से होती है ..और जीवन के सफ़र की शुरुआत भी तो हैलो से होती है लेकिन कभी कभी ...कम शब्दों में बहुत गहरी बात

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह, मुझे तो यहाँ पर "हेलो" शब्द ही कविता लगने लगा.किसी एक शब्द को पूरी कविता का दर्जा बड़ी खूबी से दिला दिया आपने.
    इस शब्द ने तो रूमानियत की बरसात कर दी है.
    आपकी सोच और क़लम को सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये हैलो वाकई कानों में मिठास घोल देता है .
    मज़ा आ गया पढ़ कर.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. हृदय की अद्भुत सौगात है आपकी कविता, शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  11. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. समीर लाल जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. रजनीश तिवारी जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  14. संजय भास्कर जी,
    मेरी कविता को पसन्द करने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  15. संजय भास्कर जी,
    मेरी कविता के भाव को आत्मसात करने के लिए आभारी हूं आपकी...

    उत्तर देंहटाएं
  16. अनुपमा जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  17. डॉ. हरदीप संधु जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  18. केवल राम जी,
    आप जैसे चिन्तनशील साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....
    हार्दिक धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. कुंवर कुसुमेश जी,
    आभारी हूं...
    आप जैसे वरिष्ठ कवि के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  20. यशवन्त माथुर जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  21. चैतन्य शर्मा जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुश्वंश जी,
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  23. कहने वाले और सुनने वाले दोनों की कला का सुन्दर विवेचन है यह कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बही गहराई से सोंचती हो ...शुभकामनायें हैलो के लिए :-)

    उत्तर देंहटाएं
  25. आदरणीय शरद जी,

    यथायोग्य अभिवादन् ।

    जी... आपने बहुत बेहतरीन कहा सिर्फ एक 'हैलो !.... में।

    सच् है किसी मनचाहे हैलो की आवाज भले ही कानों में उतरती हो, लेकिन एक झटके में ही सदृश्य सब कुछ सामने उतर आता है, जब शब्दों के तार दिल से जुड़ते हैं। आपकी लिखी पंक्तियां भी यही यकीन दिलाती हैं...।

    आपकी पंक्तियों के बहाने कामना है कि हर किसी के जीवन में यह पहली दस्तक भी हो और दरीचे भी खुलें?

    शुक्रिया।

    रविकुमार सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  26. और वही एक हेल्लो वाला पल सारी जिन्दगी से भी जयादा मधुर लगने लगता है....
    धन्यवाद शरद जी.

    उत्तर देंहटाएं
  27. विजय माथुर जी,
    आपने मेरी कविता को पसन्द किया आभारी हूं।
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सतीश सक्सेना जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  29. रविकुमार सिंह बाबुल जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  30. आनन्द द्विवेदी जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत ही मधुर सा एहसास है यह.....कभी कानों में गुँजी ये "हेल्लो" की आवाज...आज भी बस एक इंतजार बन पुकारती रहती है अपने प्रियतम को....बहुत ही सुंदर एहसासों से रची आपकी कम शब्दों की सटीक रचना मेरे तो दिल को छु गयी.......

    उत्तर देंहटाएं
  32. Er. सत्यम शिवम जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  33. रश्मि प्रभा जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  34. इस हेल्लो में हमने भी भावभीनी प्रेम की नगरी में स्नान कर लिया आपकी इस क्षणिका के माध्यम से . आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  35. आशीष जी,
    मेरी कविता पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  36. प्रवीण पाण्डेय जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  37. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (2.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  38. Er. सत्यम शिवम जी,
    मेरी कविता को चर्चा मंच में शामिल कर उसे सुधी पाठकों तक पहुंचने का मंच प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार एवं धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  39. अख्तर खान अकेला जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आभार...
    आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  40. वाह ! अद्भुत !

    आप कविता और ब्लॉग माध्यम का नायाब, जादुई और कलापूर्ण मिश्रण कर इस मंच को अनूठी सुन्दरता प्रदान कर रही है.

    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  41. “हलो!”
    इस ब्लॉग पर आने के बाद जो साज सज्जा देखने को मिलता है वह हमेशा आकर्षक होता है।
    संवाद होना चाहिए। चाहे वह कितना भी संक्षिप्त क्यों न हो!

    उत्तर देंहटाएं
  42. मनोज कुमार जी,
    मेरी कविता तथा मेरी प्रस्तुति पर आप जैसे कलाविद की अमूल्य टिप्पणी पा कर मन गदगद हो गया...
    हार्दिक धन्यवाद...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  43. हैलो.
    आपने तो इस शब्द को नए मायने दे दिए.
    अब जब भी हैलो सुनूंगा तो बरबस आपकी रचना याद हो आयेगी.
    यह आपकी कलम की सार्थकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  44. मनोज कुमार जी,
    आभारी हूं....
    आप जैसे मनीषी की आत्मीय टिप्पणी सदा मेरा उत्साहवर्द्धन करती है।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  45. विशाल जी,
    मुझे प्रसन्नता है कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  46. likhaa aapne hain ,kaid kiyaa hai kshn bhar ke mlan ko ,bhogaa ham sabne bhi hai .
    veerubhai.
    Mii a product of saugor univarsity (1963-67 ).

    उत्तर देंहटाएं
  47. वीरेन्द्र शर्मा जी (veerubhai),
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  48. डॉ.दिव्या श्रीवास्तव जी,
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत अच्छा लगा सूक्ष्म दृष्टि से लिखी पंक्तिया देख कर बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  50. waah... itni chhoti si lino me aapne to payr ki puri parivasha hi baykat kar di hai...main aapki fan no.1 ban chuki hu....aapke rachnao ko padh ke bahut protshahan milta hai..badhai

    उत्तर देंहटाएं
  51. आशा जी़,
    आप जैसी विदुषी के विचार मेरे लिए बहुत महत्व रखते हैं...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  52. अभिन्न जी,
    आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  53. विनोद कुमार पांडेय जी,
    मुझे प्रसन्नता है कि आपको मेरी कविता पसन्द आई...
    आभारी हूं....
    संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  54. वाह .... बहुत खूब ...कभी कभी बिना हैलो किये भी दस्तक दे जाती है सुनाई :):)

    उत्तर देंहटाएं
  55. आरती झा जी,
    आभारी हूं....
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  56. मुकेश कुमार सिन्हा जी,
    आभारी हूं....आपके आत्मीय विचारों के लिए...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  57. निवेदिता जी,
    आभारी हूं....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  58. संगीता स्वरुप जी,
    आप जैसी विदुषी कवयित्री के विचार मेरे लिए बहुत महत्व रखते हैं...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  59. वाह्………चंद लफ़्ज़ो मे बडी मीठी बात कह दी्।

    उत्तर देंहटाएं
  60. वन्दना जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    आप जैसी प्रबुद्ध कवयित्री के विचार मेरे लिए बहुत महत्व रखते हैं...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  61. सुशील बाकलीवाल जी,
    आभारी हूं....
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  62. आशा जोगलेकर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  63. पी.सी.गोदियाल परचेत जी,
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  64. रवीन्द्र रवि जी,
    मेरे इस ब्लॉग के अनुसरणकर्ता के रूप में आपका हार्दिक स्वागत है।
    आभारी हूं....
    संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  65. ज्योति सिंह जी,
    आभारी हूं....
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  66. मृदुला प्रधान जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  67. चिंतन का शानदार मंथन|
    नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  68. कनक जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आभार...
    आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  69. Patali-The-Village,
    आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  70. निरंजन जी,
    आपका स्वागत है...
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  71. कविता रावत जी,
    आभारी हूं....आपके आत्मीय विचारों के लिए...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  72. विनोद जी,
    आभारी हूं....
    संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  73. काजल कुमार जी,
    आपको हार्दिक धन्यवाद.
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  74. अनामिका जी,
    आभारी हूं....आपके आत्मीय विचारों के लिए...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  75. विवेक जैन जी,
    आभारी हूं....
    संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  76. सिर्फ एक हेलो
    बहुत सुन्दर सन्देश.....शानदार रचना

    उत्तर देंहटाएं
  77. अमरेन्द्र ‘अमर’ जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  78. प्रेम की
    पहली दस्तक
    बन कर

    बहुत खूब कहा है ...इन पंक्तियों में ...।

    उत्तर देंहटाएं
  79. वाह क्या कहना !

    'हैलो' शब्द का प्रयोग चमत्कारी सिद्ध हुआ ..

    उत्तर देंहटाएं
  80. सदा जी,
    आभारी हूं....आपके आत्मीय विचारों के लिए...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  81. सुरेन्द्र सिंह झंझट जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  82. नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की हार्दिक बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  83. कुंवर कुसुमेश जी,
    आपको भी नव-संवत्सर एवं विश्व-कप विजय
    दोनों की हार्दिक बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  84. nice कृपया comments देकर और follow करके सभी का होसला बदाए..

    उत्तर देंहटाएं
  85. जब सुनने वाले को भी इसका इंतजार हो हेल्लो :)

    उत्तर देंहटाएं
  86. दीप जी,
    मेरी इस कविता को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  87. एम.वर्मा जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  88. मीनाक्षी पंत जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  89. डॉ.शरद जी,
    क्या बात है.
    कोमल अभिव्यक्ति भावों की -
    मन के आगे किसी का जोर नहीं चलता -
    सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  90. सिर्फ एक हेलो सुनने के लिए लोग अक्सर तरस जाते हैं |
    यांत्रिक जिंदगी में यही तो एक आसरा है |

    उत्तर देंहटाएं
  91. सुनील गज्जाणी जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  92. गुर्रमकोंडा नीरजा जी,
    आभारी हूं....आपके आत्मीय विचारों के लिए...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  93. चित्ताकर्षक लगी आपकी रचनाएँ ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  94. अमृता तन्मय जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  95. सुधीर जी,
    आभारी हूं....
    संवाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  96. hello ke liye number ka hona anivarya hai...mobile ke yug main hello ka mahatva bakhubi bayan kiya hai...kabhi vaanbhatt.blogspot.com se bhi gujariye...

    उत्तर देंहटाएं
  97. वाणभट्ट जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  98. माफ़ी चाहिती हूँ शरद जी बहुत देर से आपके ब्लॉग पर पहुँचने के लिए. बहुत सुंदर कविता कम शब्दों में ही इतनी सुंदर अभिव्यक्ति. अब इसकी अगली कड़ी की प्रतीक्षा रहेगी. कृपया जल्द ही प्रस्तुत करें.

    उत्तर देंहटाएं
  99. एक चोरी के मामले की सूचना :- दीप्ति नवाल जैसी उम्दा अदाकारा और रचनाकार की अनेको कविताएं कुछ बेहया और बेशर्म लोगों ने खुले आम चोरी की हैं। इनमे एक महाकवि चोर शिरोमणी हैं शेखर सुमन । दीप्ति नवाल की यह कविता यहां उनके ब्लाग पर देखिये और इसी कविता को महाकवि चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने अपनी बताते हुये वटवृक्ष ब्लाग पर हुबहू छपवाया है और बेशर्मी की हद देखिये कि वहीं पर चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने टिप्पणी करके पाठकों और वटवृक्ष ब्लाग मालिकों का आभार माना है. इसी कविता के साथ कवि के रूप में उनका परिचय भी छपा है. इस तरह दूसरों की रचनाओं को उठाकर अपने नाम से छपवाना क्या मानसिक दिवालिये पन और दूसरों को बेवकूफ़ समझने के अलावा क्या है? सजग पाठक जानता है कि किसकी क्या औकात है और रचना कहां से मारी गई है? क्या इस महा चोर कवि की लानत मलामत ब्लाग जगत करेगा? या यूं ही वाहवाही करके और चोरीयां करवाने के लिये उत्साहित करेगा?

    उत्तर देंहटाएं
  100. bahut door aanaa pada Tipiyaane
    bahut log pasaMd karate hai aapakaa blaag
    badhaai
    mujhge kaviaa behat pasand aaI

    उत्तर देंहटाएं
  101. राधे राधे जी क्या लिखे हो समझ नई आया
    खैर

    उत्तर देंहटाएं
  102. आचार्य परशुराम राय जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  103. रचना दीक्षित जी,
    आभारी हूं....आपके आत्मीय विचारों के लिए...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  104. राधे राधे जी (Radhe Radhe Satak Bihari),
    यह सचमुच दुखद और शर्मनाक प्रसंग है। ऐसे कृत्यों की निन्दा की ही जानी चाहिए।
    आपकी जागरूकता प्रशंसनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  105. गिरीश मुकुल जी,
    आभारी हूं....
    मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....
    हार्दिक धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  106. योगेन्द्र मौदगिल जी,
    आप जैसे कवि-साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....
    हार्दिक धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  107. कवियों की रचनाओं का अनमोल संग्रह का संपादन मैं पुनः कर रही हूँ , सबकी तरफ से एक निश्चित धनराशि का योगदान
    है ... क्या शामिल होना चाहेंगे ?

    1) इस पुस्तक में 25-30 कवियों/कवयित्रियों की प्रतिनिधि कविताओं को संकलित की जायेंगी।
    2) इस पुस्तक का संपादन रश्मि प्रभा करेंगी।
    3) एक कवि को लगभग 6 पृष्ठ दिया जायेगा
    4) सहयोग राशि के बदले में पुस्तक की 25 प्रतियाँ दी जायेंगी।
    5) सभी पुस्तकें हार्ड-बाइंड (सजिल्द) होंगी और उनमें विशेष तरह कागज इस्तेमाल किया जायेगा।
    6) यदि कोई कवि 6 से अधिक पृष्ठ की माँग करता है या उसकी कविताएँ 6 से अधिक पृष्ठ घेरती हैं तो उसे प्रति पृष्ठ रु 500 के हिसाब
    से अतिरिक्त सहयोग देना होगा। उदाहरण के लिए यदि किसी कवि को 10 पृष्ठ चाहिए तो 4 अतिरिक्त पृष्ठों के लिए रु 500 X 4= रु 2000
    अतिरिक्त देना होगा
    7) यदि कोई कवि 25 से अधिक प्रतियाँ चाहता है तो उसे अभी ही कुल प्रतियों की संख्या बतानी होगी। अतिरिक्त प्रतियाँ उसे
    अधिकतम मूल्य (जो कि रु 300 होगा) पर 50 प्रतिशत छूट (यानी रु 150 प्रति पुस्तक) पर दी जायेंगी।
    8) यदि किसी कवि ने अतिरिक्त कॉपियों का ऑर्डर पहले से बुक नहीं किया है तो बाद में अतिरिक्त कॉपियों की आपूर्ति की गारंटी हिन्द-युग्म
    या रश्मि प्रभा की नहीं होगी। यदि प्रतियाँ उपलब्ध होंगी तो 33 प्रतिशत छूट के बाद यानी रु 200 में दी जायेंगी।
    9) कविता-संग्रह की कविताओं पर संबंधित कवियों का कॉपीराइट होगा।
    10) सभी कवियों और संपादक को 20 प्रतिशत की रॉयल्टी दी जायेगी (बराबर-बराबर)

    उत्तर देंहटाएं
  108. शहरोज़ जी,
    आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है...
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  109. बहुत ही सुंदर....एक दस्तक जो अक्सर पहचान बता जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  110. अरशद अली जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आभार... आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  111. वीना जी,
    आपका आना सुखद लगा .आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है. हार्दिक धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  112. बहुत ही सुन्दर और सरल.....
    कम शब्दों में प्रेम की ये गहरायी..........
    बहुत उम्दा..........

    उत्तर देंहटाएं
  113. ਡਾ. ਸਾਹਿਬਾ,
    ਆਪਕੇ ਬਲਾਗ ਪਰ ਆਪਕੀ ਪੋਸਟ ਪੜ੍ਹਨੇ ਆਈ ਥੀ...ਮਗਰ ਆਪਨੇ ਅਭੀ ਅੱਪਡੇਟ ਨਹੀਂ ਕਿਆ....ਖੈਰ ਅਗਲੀ ਬਾਰ ਸਹੀ।ਆਪਕਾ ਲਿਖਾ ਪੜ੍ਹਕਰ ਬਹੁਤ ਅੱਛਾ ਲੱਗਤਾ ਹੈ।
    ਆਜ ਮੈਂ ਆਪਕੋ ਮੇਰੇ ਪੰਜਾਬੀ ਬਲਾਗ ਕਾ ਪਤਾ ਬਤਾ ਰਹੀ ਹੂੰ...ਅਗਰ ਸਮਾਂ ਮਿਲੇ ਤੋ ਕਭੀ ਫੇਰੀ ਡਾਲ ਜਾਨਾ।
    ਲਿੰਕ ਹੈ....http://punjabivehda.wordpress.com
    ਹਰਦੀਪ

    उत्तर देंहटाएं
  114. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    उत्तर देंहटाएं
  115. बहुत ही सुंदर


    "सुगना फाऊंडेशन जोधपुर" "हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम" "ब्लॉग की ख़बरें" और"आज का आगरा" ब्लॉग की तरफ से सभी मित्रो और पाठको को " "भगवान महावीर जयन्ति"" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    सवाई सिंह राजपुरोहित

    उत्तर देंहटाएं
  116. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके., हो सके तो फालोवर बनकर हमारा हौसला भी बढ़ाएं.
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    उत्तर देंहटाएं
  117. मानव मेहता जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  118. शोभना चौरे जी,
    आप जैसी प्रबुद्ध कवयित्री के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    हार्दिक धन्यवाद ...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  119. Dr. Hardeep Kaur Sandhu ji,

    ਮੇਰੀ ਕਵਿਤਾ ਕੋ ਪਸੰਦ ਕਰਨੇ ਕੇ ਲੀਏ ਹਾਰਦਿਕ ਆਭਾਰ.

    ਆਪਕਾ ਉਲਾਹਨਾ ਸਿਜ ਆਂਖੋਂ ਪੈ ...ਬਾਕੀ ਮੈਂ ਫੇਰਾ ਦਲ ਆਈ ਹੁਣ.

    ਕ੍ਰਿਪ੍ਯਾ ਅਨ੍ਯਥਾ ਨਾ ਲੇੰ .... ਏਕ ਗੁਜ਼ਾਰਿਸ਼ ਹੈ ਕੀ ਆਪ ਆਪਣੇ ਬਲੋਗ punjabivehda ਮੈ ਭੀ e-mail ਕੇ ਬਦਲੇ ਯਦਿ ਟਿੱਪਣੀ ਦੇਣੇ ਕੀ ਸਮਾਨ੍ਯ ਵ੍ਯਵਸ੍ਥਾ ਰਖੇੰ ਤੋ ਤੁਰੰਤ ਟਿੱਪਣੀ ਦੇਣੇ ਮੈ ਸੁਵਿਧ੍ਸ ਹੋਗੀ.

    उत्तर देंहटाएं
  120. सारा सच,
    बहुत-बहुत धन्यवाद.
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  121. सवाई सिंह जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  122. हरीश सिंह जी,
    हार्दिक धन्यवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  123. JAY SHANKER PANDEY JI,
    I'm thankful to you.
    You most and hearty welcome on my blog.
    your comments are awaited.

    उत्तर देंहटाएं
  124. आपकी अभिव्यक्ति मन के संवेदनशील तारों को झंकृत कर गयी एवं एक सुखद एहसास की अनुभूति से मन पुलकित हो गया। आपके उदगार
    वास्तव में प्रशंसनीय हैं।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  125. सुन्दर प्रयोग. सिर्फ चार लाईनों की मेहनत से सजी पोस्ट.अनोखा असर.नई कविता में कह सकते हैं पोथी लिख-लिख जग मुआ.. शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  126. प्रेम सरोवर जी,
    आपका आना सुखद लगा .आपको मेरी कविता पसन्द आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है.
    हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  127. slumdog,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  128. जय शंकर पाण्डेय जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    आपका स्वागत है!
    अपने विचारों से भी अवगत कराते रहें...

    उत्तर देंहटाएं
  129. महेन्द्र जी,
    आपका स्वागत है।
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका आभार...
    अपने विचारों से भी अवगत कराते रहें...

    उत्तर देंहटाएं
  130. कितना सुंदर लिखा है एक हेल्लो
    गागर में भावों का सागर है
    सादर
    रचना

    उत्तर देंहटाएं
  131. रचना श्रीवास्तव जी,
    आप जैसी प्रबुद्ध साहित्यकार के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    हार्दिक धन्यवाद ...
    इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  132. गौरव शर्मा "भारतीय"जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    आपका स्वागत है!
    अपने विचारों से भी अवगत कराते रहें...

    उत्तर देंहटाएं
  133. Richa P Madhwani ji,
    welcome in my Blog.
    I am waiting for your precious comment on my poem.

    उत्तर देंहटाएं
  134. बहुत अच्छा हृदय को आनंदित करता है
    हैलो।

    उत्तर देंहटाएं