18 January, 2019

मुहब्बत में शरारत का मज़ा ... - डॉ. शरद सिंह

Mohabbat Me Shararat Ka... Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh
मुहब्बत में  शरारत का  मज़ा   कुछ और होता है
कहा इक ने   तो  दूजे ने   सुना  कुछ और होता है
यही है तो  अलग अंदाज़ा अपने इश्क़ का, बेशक़
कि दुनिया और कुछ समझे, हुआ कुछ और होता है
- डॉ. शरद सिंह

शॉल, कोट, स्वेटर और जाड़े की रात ... - डॉ. शरद सिंह

Shawl, Coat, Sweater ... Ghazal By Dr (Miss) Sharad Singh

 शॉल, कोट, स्वेटर और जाड़े की रात
दूध चाय, शक्कर और जाड़े की रात
याद बहुत आता है ट्रेन के सफ़र में
घर का वो बिस्तर और जाड़े की रात
- डॉ शरद सिंह

उसे दी थी सदा ...- डॉ. शरद सिंह

Use Di Thi Sadaa ... Ghazal by Dr (Miss) Sharad Singh

उसे दी थी सदा पर वो कभी मुड़कर नहीं आया
अंधेरा छा गया हो, साथ   फिर  देता नहीं साया
हमारा ही जुनूं था,  हम   पुकारे  ही  गए उसको
वो बादल था कहीं बरसा,यहांपर फिर नहीं छाया
- डॉ शरद सिंह

11 January, 2019

मैं कौन हूं...- डॉ. शरद सिंह

 
Mai Kaun Hun ... (Nazm) by Dr (Miss) Sharad Singh

मैं कौन हूं...
--------------
मैं कौन हूं ये बताना कभी नहीं मुमकिन
मगर मैं हूं तो इसी क़ायनात का ज़र्रा
नहीं हूं चांद, नहीं आफ़ताब,
कुछ भी नहीं
यही बहुत है कि
दुनिया का एक हूं हिस्सा!
- डॉ. शरद सिंह


नफ़रतें तो किसी काम आती नहीं - डॉ. शरद सिंह

Ghazal of Dr (Miss) Sharad Singh
नफ़रतें तो किसी काम आती नहीं
दुश्मनी, दुश्मनी को मिटाती नहीं - डॉ. शरद सिंह

02 January, 2019

नए साल में हर नई बात हो ... डॉ शरद सिंह

New Year Wishesh from Dr (Miss) Sharad Singh
नए  साल  में  हर  नई बात हो
   खुशियों की हरदम बरसात हो
   तमन्ना हो पूरी  सभी की सदा
चमकता हुआ दिन भी हो,रात हो
- डॉ शरद सिंह

28 December, 2018

एक डिग्री प्लस ... डॉ शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh
एक डिग्री प्लस
-------------------
धूप का स्वेटर बुन कर
पहना दिया है
पूस के दिन को
और जाग उठी हैं उम्मीदें
मन के भीतर बैठी 'धनिया' की
कि  कुछ गर्म गुजर जाएगी रात
शायद एक डिग्री प्लस।
- डॉ शरद सिंह

#SharadSingh #Poetry
#World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh