12 September, 2020

कोशिश करते तो सही ( कविता ) - डॉ. शरद सिंह



कोशिश करते तो सही 

- डॉ. शरद सिंह

    

तुम रखते मेरी हथेली पर 

एक श्वेत पुष्प

और वह बदल जाता 

मुट्ठी भर भात में

तुम पहनाते मेरी कलाई में 

सिर्फ़ एक चूड़ी

और वह ढल जाती

पानी की गागर में

एक क़दम तुम बढ़ते एक क़दम मैं बढ़ती

दिन और रात की तरह हम मिलते 

भावनाओं के क्षितिज पर

तुम रखते मेरे कंधे पर अपनी उंगलियां 

और सुरक्षित हो जाती मेरी देह

तुम बोलते मेरे कानों में कोई एक शब्द

और बज उठता अनेक ध्वनियों वाला तार-वाद्य

सच मानो, 

मिट जाती आदिम दूरियां

भूख और भोजन की

देह और आवरण की

चाहत और स्वप्न की

बस,

तुम कोशिश करते तो सही।

----------


22 August, 2020

गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं

व्रकतुंड महाकाय, सूर्यकोटी समप्रभाः।
निर्वघ्नं कुरु मे देव, सर्वकार्येरुषु सवर्दा ।।
🚩
प्रिय मित्रो, श्रीगणेश चतुर्थी की आप सभी को सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं 
🚩
Wish you and your family a very happy Ganesh Chaturthi.
🚩
#ganeshchaturthi #ganeshchaturthi2020 #lordganesha #lordganesh #happyganeshchaturthi

20 August, 2020

दोहे | सखी, दोस्त, मित्र पर | डॉ (सुश्री) शरद सिंह

कुछ दोहे : सखी, दोस्त, मित्र पर..
 डॉ (सुश्री) शरद सिंह

सखियां करती थीं सदा, दुख-सुख साझा रोज।
अब वो सखियां ग़ुम हुईं, मन करता है खोज।।

व्यस्त ज़िंदगी ले गई, सखियों से भी दूर।
इंस्टा पर या फेसबुक, मिलना हुआ ज़रूर।।

गुड्डे-गुड़िया ब्याहना, अब तक हमको याद।
हंसती हम सखियां सभी, होता जब संवाद।।

गूगल पर या ज़ूम पर, होती तो है बात।
लगे अधूरा किन्तु ज्यों, दूल्हा बिना बरात।।

कहते सब हैं - दोस्ती, जोड़े रखती तार।
दशकों गुज़रें या सदी, आती नहीं दरार।।

"शरद"  दोस्त हो या सखी, कभी न छूटे साथ।
भले दूर से ही सही, मिलें दिलों के हाथ।।
         ------------------------

15 August, 2020

स्वतंत्रता की इस बेला में - डॉ (सुश्री) शरद सिंह


स्वतंत्रता की इस बेला में 
- डॉ (सुश्री) शरद सिंह

सदा रहे   आंखों में   अपनी   स्वतंत्रता  का सपना।
उस   सपने   के  मूर्त्तरूप   में   रहे  तिरंगा   अपना।

हो  न  कोई  भी   दुखियारा,  न  कोई  मुश्क़िल  में
स्वतंत्रता की इस बेला में शुभ, शुभ, शुभ ही जपना।

राग,  द्वेष,  विध्वंस  रहे  न,  सिर्फ़  रहे  अपनापन
इम्तिहान  दे   लेंगे   चाहे    पड़े    हमें  भी   तपना।

बनो आत्मनिर्भर अब  ऐसे, चाहे  जितना  श्रम हो
फैलाना  न  हाथ,  न  दूजे  आगे   कभी  कलपना।

लिखदो इक इतिहास नया अब, 'शरद' सफलता का तुम
अपनी   आज़ादी   को   अपने   पैमाने  से  नपना।
........🌷......🌷.......🌷......🌷......

03 August, 2020

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं - डॉ शरद सिंह

Happy Rakshabandhan - Dr (Miss) Sharad Singh 
❣️
रक्षाबंधन पर यही करूं दुआ मैं आज।
कोरोना के जाल से हो ये मुक्त समाज।
- डॉ शरद सिंह
❣️
इस कोरोनाकाल में #ईश्वर आपको सपरिवार #स्वस्थ रखे, #सुरक्षित रखे और #प्रसन्न रखे... #रक्षाबंधन की #हार्दिक #शुभकामनाएं 🙏❣️🙏
#happyrakshabandhan
#happyrakhi

02 August, 2020

ज़िन्दगी में दोस्ती से जान आती है - डॉ शरद सिंह

ज़िन्दगी  में  दोस्ती से  जान आती है
और इंसा की  सही पहचान आती है
एक सच्चा दोस्त दुख में साथ देता है
एक सच्ची  दोस्ती  से  शान आती है
- डॉ शरद सिंह 
#HappyFriendshipDay #friends
#InternationalFriendshipDay
#दोस्त #दोस्ती #मित्र #मित्रता #मित्रतादिवस