गुरुवार, मार्च 14, 2013

मैं कहीं रहूं ....


27 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर चित्र-लेख
    बढ़िया पंक्तियाँ आदरेया-

    चाहे मथुरा जा बसे, जाय द्वारिका द्वीप |
    होली के हुडदंग में, आये कृष्ण समीप |
    आये कृष्ण समीप, मार पिचकारी गीला |
    छुप छुप मारे टीप, रास आती है लीला |
    किन्तु कालिया-नाग, आज मिलता चौराहे |
    करता अनुचित मांग, खेलना होली चाहे ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए..

      हटाएं
  2. बहुत उम्दा सुंदर प्रस्तुति,,,शरद जी ,,,

    बीबी बैठी मायके , होरी नही सुहाय
    साजन मोरे है नही,रंग न मोको भाय..
    .
    उपरोक्त शीर्षक पर आप सभी लोगो की रचनाए आमंत्रित है,,,,,
    जानकारी हेतु ये लिंक देखे : होरी नही सुहाय,

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने मेरी पंक्तियों को पसन्द किया आभारी हूं....

      हटाएं
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए हार्दिक आभार, रविकर जी!

      हटाएं
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. लिंक-लिक्खाड़ में शामिल करते के लिए हार्दिक धन्यवाद...आभार!

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद....

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

      हटाएं
  8. जी बहुत खूब ...... हर सवाल का इक जवाब

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने मेरी पंक्तियों को पसन्द किया आभारी हूं....

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं....

      हटाएं
  10. वाह....मेरी हर वजह का जवाब तू ..........

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी पंक्तियों को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

      हटाएं
  11. दिल से रची रचना ,सुन्दर ही होती है .

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेम की सर्वोच्च अवस्था ...आनंदित करती, गुदगुदाती रचना ..सादर प्रणाम के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही खुबसूरत सदा की भांति

    उत्तर देंहटाएं
  14. आस्था के स्वर -आश्वस्त करती पंक्तियाँ!

    उत्तर देंहटाएं