शनिवार, जून 23, 2012

बेटी .....


49 टिप्‍पणियां:

  1. यह विचारणीय है...सोचने को मजबूर कर गई|

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

      हटाएं
  2. गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी कविता पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

      हटाएं
  4. कम शब्द..भारी मार...अति सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....बहुत-बहुत आभार......

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद ...

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

      हटाएं
  7. मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन से भोत ख़ुशी भई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद मुकेश पाण्डेय चन्दन जी...
      हम सबई को आपस में मेलजोल रखो चाइए....

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

      हटाएं
  9. कम शब्द और बहूत गहरी बात....
    विचारणीय पोस्ट...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

      हटाएं
  10. बहुत सच लिखा आपने.
    बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

      हटाएं
  12. समीचीन प्रश्न ....."मेरा कल कहां है?"

    उत्तर देंहटाएं
  13. विचारणीय, चित्रमय लाजबाब सुंदर सम्प्रेषण,,,,

    RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: आश्वासन,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....

      हटाएं
  14. बहुत सुन्दर,
    सार्थक और सामयिक प्रस्तुति , आभार.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

      हटाएं
  15. उत्तर
    1. जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....

      हटाएं
  16. डॉ शरद जी ये बड़ा प्रश्न काश कोई समझ जाए ..न झूंठलाये ...जिससे हम उसी को नष्ट किये जा रहे ...
    भ्रमर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत-बहुत आभार...
      आपकी पीड़ा प्रत्येक संवेदनशील व्यक्ति की पीड़ा है...आशा हैकि एक दिन यह पीड़ा दूर होगी.

      हटाएं
  17. शब्द और चित्र एक दूसरे के प्रेरक है..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....बहुत-बहुत आभार......

      हटाएं
  18. अत्यंत सशक्त अभिव्यक्ति, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

      हटाएं
  19. उत्तर
    1. अजय कुमार झा,
      आभारी हूं आपकी सहृदयता की....
      साप्ताहिक महाबुलेटिन ,101 लिंक एक्सप्रेस देखने की उत्सुकता रहेगी.

      हटाएं
  20. उत्तर
    1. आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं.... अनुगृहीत हूं आपकी टिप्पणी के लिए...

      हटाएं
  21. हमारी टिप्पणी स्पाम में गयी लगता है...
    प्लीस निकाल लाएं :-(

    उत्तर देंहटाएं
  22. उत्तर
    1. जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....बहुत-बहुत आभार......

      हटाएं
  23. कल 27/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ''आज कुछ बातें कर लें''

    उत्तर देंहटाएं