मंगलवार, जून 12, 2012

राधा जैसी इक दीवानी .....


21 टिप्‍पणियां:

  1. फिर रास रचे हर बूंदों में और हो जाए मीरा दीवानी ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहूत -बहूत सुंदर...
    ऐसा हो तो चहू ओर
    प्रेम हि प्रेम होगा..

    उत्तर देंहटाएं
  3. मात्र चार पन्क्तियों में प्रेम का पूरा समन्दर .....
    पानी की ये कहानी मन्त्रमुग्ध करने वाली है
    बधाई मैम

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर प्रार्थना, मुरलीधारी से..

    उत्तर देंहटाएं
  5. काश हर प्रेम कहानी राधा कृष्ण सी होती....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब !!अति सुन्दर दृश्यचित्र खींचा है आपने !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    पैदल ही आ जाइए, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मिलना बहुत कठिन अब,राधा और कन्हैया,
    हम तो सच्चे प्रेम को,तरस गए हैं भइया !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. २० शब्दों में आपने कृष्ण और राधा की प्रेम कथा को पूर्णता दे ही दी .
    राधा और कृष्ण की अमर प्रेम कथा वह पानी पर लिखी गई है और आप
    जैसी विदुषी द्वारा आपको समर्पित दो लाइन
    राधा कृष्ण प्रेम का जग से अद्भुत अनोखा नाता है ,
    तब ही तो राधा को कृष्ण से पहले जपा जाता है ..
    धन्य है आपका लीलाधारी के प्रति अनन्य अनुराग ......

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह ... राधा जैसी दीवानी की कहानी तोमन मन में लिखी हुयी है ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. chhpti-chhoti in panktiyon me aapne radha v krisshn ke prem ko badi dakxhta ke saath apne ukera hai.
    bahut bahut hi achhi lagi aapki prastuti
    aabhaar
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह.. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  14. राधा और कृष्ण के माध्यम से प्रेम का एक अनुपम भाव लिए छोटी सी पक्तियों ने बहुत कुछ कह दिया । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह ...बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...!!
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप की अभिव्यक्ति कमाल की है.

    उत्तर देंहटाएं