मंगलवार, मार्च 20, 2018

विश्व गौरैया दिवस पर मेरी यह कविता ... डॉ. शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh on World Sparrow Day
नन्हीं गौरैया ने...
----------------
पंखों को तौला है
खुद से ही बोला है
नन्हीं गौरैया ने-
घर के दरवाज़े,
खिड़की में जाली है
कहने भर को हैं अब
पंछी घरेलू पर
ख़ालिस बदहाली है
बाहर मोबाईल के
भरमाते टॉवर हैं
बिजली के तारों में
लावे-सा पॉवर है
भरुंगी उड़ान मगर
आंगन में बनी रहूंगी
मैं तो भईया,
डटी हुई हूं अब तक
देख मैं मुनईया !
    - डॉ. शरद सिंह


#विश्व_गौरैया_दिवस #WorldSparrowDay #SharadSingh #Poetry #MyPoetry #World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें