गुरुवार, जनवरी 04, 2018

ढूंढता है मन ... डॉ शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh
ढूंढता है मन ...
-------------------
जाड़े की रात
धुंधलके में डूबी
सूनी सड़कों पर
किसी की 
यादों की
पहन कर जर्किन
घूमता है मन
खुद ही खुद से
नाराज़
उसे ढूंढता है मन
खो दिया है जिसे 
पा कर
एक एहसास की तरह...

- डॉ शरद सिंह

#SharadSingh #Poetry #MyPoetry #World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh
#शरदसिंह #एहसास #सूनी #सड़कें #ढूंढता #मन

#SharadSingh #Poetry #MyPoetry #World_Of_Emotions_By_Sharad_Singh
#शरदसिंह #एहसास #सूनी #सड़कें #ढूंढता #मन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें