मंगलवार, नवंबर 21, 2017

जाड़े का दिन .... डॉ शरद सिंह

Winter ... Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

जाड़े का दिन
-------------

जाड़े की धूप
और
झुरमुट-सा दिन
कुछ उदास
कुछ ठंडा
कुछ भीगा
आम के बागीचे में
कोहरे-सा
गेहूं के खेत में
धुंधलके-सा
भीत टंगे, धूल अटे
दर्पण-सा
लगता है कभी-कभी
मुट्ठी में बंद
कर्जे के
कुछ रुपयों जैसा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें