शुक्रवार, जनवरी 23, 2015

वो रुपहले ख़्वाब-सा...

Shayari by Dr (Miss) Sharad Singh

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें