रविवार, मई 18, 2014

मुझे चाहिए ...

A Poem Of Dr. Sharad Singh
I must ...

What should I want at this age?
Nothing special
One or two bread
Soaked in water to Eat
One or two bread
Can see a clear fit
An Eyeglass
Two Saris, two blouses
And a Ramanami rosary
With these should
Lots of love of dear ones!

That's all, nothing...
- Dr. Sharad Singh

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सही लिखा है आपने. इन बूढ़े दरख्तों की ख्वाहिशें कम हैं और आशीष ज़्यादा फिर भी हम इन्हें भूल जाते हैं.. सत्य और सार्थक लेखन के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सटीक और सार्थक और हृदयस्पर्शी लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या कहूं ? शब्द नहीं मिल रहे हैं, आखिर ये उम्र सबको मिलनी है....मार्मिक और सार्थक लेखन...उम्दा और भावपूर्ण ...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@
    आप की जब थी जरुरत आपने धोखा दिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसी बातें उठनी चाहिए और किसी प्रकार लोगों के दिलो में बैठनी चाहिए. सौंदर्य की अनगिनत खूबसूरत प्रस्तुतियों के बाद संवेदना एवं जिम्मेदारी का प्रयास प्रशंसनीय है.

    उत्तर देंहटाएं