शुक्रवार, मार्च 14, 2014

एक छोटी सी प्रार्थना ...

A poem of Dr Sharad Singh


A Small Prayer
O God !
If give the old age
Give love of my own
Otherwise, never give
These hopes, the expectations, the wait and long life
Not give without asking
All this without affinity 

- Dr Sharad Singh

4 टिप्‍पणियां:

  1. बुढ़ापे में प्यार के लिए भी इश्वर से प्रार्थना करनी पड़ेगी ,,या उनसे जिनको सारी उम्र प्यार दिया ???
    ज़ज्बा आपका सराहनीय है .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार अपनों का, प्यार बिना क्या विश्व किसी का।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदमी पूरी उम्र आशायें और आकांक्षायें सींचता है...बुढ़ापा बचपन की तरह है जब हमें दूसरों के सहारों की आवश्यकता होती है...

    उत्तर देंहटाएं