सोमवार, जुलाई 15, 2013

ज़रा बताओ तो ...


8 टिप्‍पणियां:

  1. डॉ साहिबा आपका लेखन और चित्रों का चुनाव सदैव मन को सोचने पर बाध्य करता है किन्तु आज के शब्दों का पैनापन अद्भुत बहुत बहुत बधाई इतने सार्थक सन्देश परक पोस्ट के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. निःशब्द करते चित्र और आपके २८ लाजवाब शब्द बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... सब्र टूट जाएगा ... लाजवाब मुक्तक ...

    उत्तर देंहटाएं