शुक्रवार, मई 03, 2013

पूछ तो लिया होता ....


9 टिप्‍पणियां:

  1. bahut pyari gajal dr sharad ji pahli baar aapke blog ki yatra ki sukhad va samvedanapurn anubhuti huii

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सटीक, दुश्मन इस काम में ज्यादा मददगार होते.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... दुश्मनों को जानकारी रहती है पल पल की ...
    लाजवाब बंध ...

    उत्तर देंहटाएं