शनिवार, अप्रैल 20, 2013

उसे आई नहीं क्या याद घर की बेटियां ?


9 टिप्‍पणियां:

  1. जिसके मन में यह विचार आएगा वह ऐसा घृणित काम कैसे करेगा ....
    त्वरित न्याय और मृत्युदण्ड ही कारगर उपाय ...

    मर्मस्पर्शी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर शरद जी .....
    अंतर्मन तक छू लेने वाली पंक्तियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. चरित्र और संवेदन हीनता अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंच चुकी है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं