मंगलवार, मार्च 19, 2013

मेरे आंसुओं का हिसाब तू ....


8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब शरद जी .......
    साभार ............

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब सब कुछ तू ही है तो हिसाब कैसा ...
    लाजवाब बंध ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति-
    शुभकामनायें आदरेया-

    उत्तर देंहटाएं
  4. तह तक नहीं पहुच पा रहा हूँ ..पढने में अच्छा लगा ..सादर

    उत्तर देंहटाएं