मंगलवार, जनवरी 15, 2013

मेरा बसेरा....


9 टिप्‍पणियां:

  1. बेकार है
    ईंट-पत्थर का 'बसेरा' ...
    आजकल सड़क से ही
    दिख पाता है ... होता सवेरा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. घुमंतू जीवन की दास्तान बयान करती और चित्र ने उसे जीवंत कर दिया , बहुत ही खुबसूरत

    उत्तर देंहटाएं

  3. है जहाँ पर मेरा डेरा,
    है वही मेरा बसेरा।

    संजय कुमार शर्मा 'राज़'

    उत्तर देंहटाएं