बुधवार, दिसंबर 19, 2012

मेरे वजूद को ......

इस उम्मींद के साथ कि दिल्ली में मानवता को शर्मसार करने वाला जो घटित हुआ वह फिर नहीं होगा.....