गुरुवार, अगस्त 09, 2012

भीगें हम-तुम ....


11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,,

    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ.
    RECENT POST...: जिन्दगी,,,,..

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar prastuti..shabd viyas ke saath saath aap prastuti par bhi kafi dhyan rakhti hain..bahut bahut badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके लेखा पर कुछ कहना सदैव बहुत कठिन

    यूँ न बरसकर तुम भिगाओ बारिस की इन बूंदों को .
    मोती आसमान से झरे हैं या लबों के बीच हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. खूबसूरत अभिव्यक्ति..www.sriramroy.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  5. बारिश उमंगों को पंख दे देती है...

    उत्तर देंहटाएं