गुरुवार, अगस्त 16, 2012

तू ही एक है .....


8 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात कही शरद जी....
    अद्भुत समर्पण..
    बहुत सुन्दर...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ... बहुत खूब कहा है आपने ...
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमने सुना है प्यार में रोकडा चलता है
    बताइए भला प्यार उधार में मिलता है ?

    उत्तर देंहटाएं