शुक्रवार, अप्रैल 06, 2012

इन दिनों....


27 टिप्‍पणियां:

  1. नज़र में ढ़ल के उभरते हैं दिल के अफ़साने,
    यह और बात है, दुनियां नज़र न पहचाने।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब, गजल भी और प्रस्‍तुति भी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाले दिल सुनाना भी नहीं अच्छा .

    उत्तर देंहटाएं
  4. शायद! दिल के किसी कोने में कोई खुशी बसी
    हो इन दिनों.....
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. समय के इस सौन्दर्य को शब्दों में समेट लें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. aapki rachnaaaon ka andaaj hee nirala hai..bahut dino baad aapki rachna padhne ko mili..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन प्रेम कविताएँ लिखी हैं आपने , बहुत बढि़या।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत गंभीर सोच है ....देखिये क्या निष्कर्ष निकलता है ....!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपके ब्लॉग पर पहली बार आना हुआ..बहुत सुन्दर और काव्यात्मक पृष्ट सज्जा है आपके ब्लॉग कि..अच्छा लगा..

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब ... ल्कुच हो गया .. और पता भी न चला ... यकीनन प्रेम ही होगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. इन दिनों दिल मेरा मुझसे है कहा रहा, तू ख़्वाब सजा, तू जी ले जरा ....
    बहुत सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर पंक्तियाँ लिखी हैं आपने ... बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  14. हाँ डॉ शरद जी इन दिनों सब कुछ नया नया लगता है रंग रूप भाव सब बदलता है दर्पण देख देख हंसता है हँसता है रुलाता है बहुत राग विराग भी दे जाता है ...
    जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं