शुक्रवार, जनवरी 21, 2011

घर के बाहर घर की यादें

- डॉ. शरद सिंह

मेरी यह ग़ज़ल अल्पना वर्मा, डॉ. मोनिका शर्मा, पूर्णिमा वर्मन, डॉ. हरदीप संधु, डॉ. भवजोत कौर, सुधा ओम ढींगरा, इला प्रसाद, शिखा वार्ष्णेय, सुषम बेदी, ऊषाराजे सक्सेना, ज़क़िया ज़ुबेरी, तेजेन्द्र शर्मा, कृष्ण बिहारी आदि उन सभी की भावनाओं को समर्पित है जो भारत से बाहर रहते हुए भी भारत को हर पल जीते हैं।



84 टिप्‍पणियां:

  1. सच है विदेश में रहने वालों को ऐसे ही अपने वतन की याद आती होगी ...खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. संगीता स्वरुप जी, हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Wah sharad ji,
    Ghazal ki jitani bhi taarif Karen kam hai.
    Mera beta Jo sandiago men Pichle 1.1/2 saal se rah raha hai ,aur abhi 15 dinon se Yahan hamaare saath hai,ghazal padh kar usaki aankhen bhar aayi.
    Aapki ghazal anubhaw karane ki hai .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब.. परदेस में रहने वाले के मन के भाव आपने यहाँ उकेर दिए.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छा लिखा ,लेकिन अब तो अपने देश भी विदेश लगता है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।

    बहुत मर्मस्पर्शी...अपने वतन से दूर रहने वालों की भावनाओं का बहुत सुन्दर चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बचपन के साथी सब छूटे, छूट गये सहपाठी भी
    बंद क़िताबों में छूटी जो, सतरें बहुत रुलाती हैं।
    ...बहुत अच्छा.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी, आपके पुत्र को स्नेहाशीष! आपके विचारों के लिए हार्दिक आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. अमित-निवेदिता जी,हार्दिक आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मार्क राय जी,आपके विचारों के लिए हार्दिक आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  11. हार्दिक धन्यवाद कुंवर कुसुमेश जी!

    उत्तर देंहटाएं
  12. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. बचपन के साथी सब छूटे, छूट गये सहपाठी भी
    बंद क़िताबों में छूटी जो, सतरें बहुत रुलाती हैं।
    शब्द नहीं हैं शरदजी ...क्या खूब रेखांकन किया है मनोभावों का.... बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।

    शरद जी सुंदर भावों से सजी आपकी ग़ज़ल महसूस करने वाली है. बधाई.

    रचना

    उत्तर देंहटाएं
  15. बीते दिनों की याद दिला दी ......सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  16. बचपन के साथी सब छूटे, छूट गये सहपाठी भी
    बंद क़िताबों में छूटी जो, सतरें बहुत रुलाती हैं।

    वाह अति सुंदर ..!!
    सुंदर मनोभाव -
    बधाई एवं शुभकामनायें .

    उत्तर देंहटाएं
  17. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।
    वाह, अति सुंदर.....

    उत्तर देंहटाएं
  18. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।

    kash! yeh khayaal na jaane kitni baar zehn mein aata hai... bahut sunder kavita! dhanyawaad.

    उत्तर देंहटाएं
  19. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।
    bhawbhini.

    उत्तर देंहटाएं
  20. अंजना जी,हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें। मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  21. अनुपमा जी, मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए हार्दिक धन्यवाद!आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  22. ✽ संगीता स्वरुप जी
    ✽ डॉ॰ मोनिका शर्मा जी
    ✽ रचना दीक्षित जी
    ✽ अंजना जी
    ✽ अनुपमा जी
    ✽ सूर्यकान्त गुप्ता जी
    ✽ जेन्नी शबनम जी
    ✽ सुनील कुमार जी
    ✽ मृदुला प्रधान जी
    ✽ अना जी
    .......आप सभी को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  23. परदेस में बसे लोगों के अंतर्मन को सही संदर्भों में अभिव्यक्त करती आपकी प्रस्तुति बेहद ही मन को आंदोलित कर गयी।नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  24. यह ग़ज़ल इतना प्रवाह पूर्ण हैकि बार्बार गाने को मन करता है! भाव इतने अच्छे हैं कि आंखें भर आती हैं।
    बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्या खूब रेखांकन किया है मनोभावों का

    उत्तर देंहटाएं
  26. गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

    Happy Republic Day.........Jai HIND

    उत्तर देंहटाएं
  27. ये बहुत बड़ा सच है की हम जब किसी से दूर चले जाते हैं तो उसकी याद हमे ज्यादा सताती है !

    बहुत खुबसूरत रचना !

    गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्या बात है! बहुत सुंदर कविता, हर लाइन पढ़ कर ख़ुशी मिली.

    उत्तर देंहटाएं
  29. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।

    वाह ... बहुत ही सुन्दर
    पोस्ट पढ़कर बरबस ही एक गाना याद आ गया -
    'हम तो हैं परदेश में, देश में निकला होगा चाँद '

    कविता की हर पंक्ति बहुत अच्छी लगी
    बधाई
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  30. नीचे दिए लिंक पर भी एक नज़र डालें ..

    http://chitthacharcha.co.in/?p=1481

    उत्तर देंहटाएं
  31. @~प्रेम सरोवर जी
    @~मनोज कुमार जी
    @~अमरेन्द्र ‘अमर’ जी
    @~संजय भास्कर जी
    @~मीनाक्षी पंत जी
    @~मीनू खरे जी
    @~क्रिएटिव मंच-Creative Manch
    @~नीलम गर्ग जी

    .......आप सभी को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  32. संगीता स्वरुप जी,
    http://chitthacharcha.co.in/?p=1481 पर पहुंच कर चकित रह गई। चिट्ठाचर्चा में शामिल करके मनोज जी ने मुझे जो अपनत्व, मान दिया है और उत्साहवर्द्धन किया है, उस के लिए मैं उनकी, चिट्ठाचर्चा की और आप सभी की बेहद आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत लाजवाब ... बेवतनों के जज्बातों को हूबहू लिख दिया है आपने ...
    दिल में उतर जाता है हर शेर ..

    उत्तर देंहटाएं
  34. दिगम्बर नासवा जी, आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  35. अहा! सुन्दर, मनमोहक प्रस्तुति!
    ब्लाग पृष्ठ भी बेहद कलात्मक !
    यहाँ आकर मन को आन्तरिक ख़ुशी मिली.
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  36. अपने देश की मिटटी की याद परदेश में रहकर कैसी महसूस होती होंगी आपकी रचना सार्थक कर देती है ..चिट्ठी आई है जैसे नवीनतम अहसास
    काफी समय बाद ब्लॉग में आया था ...अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  37. हम परदेशों में बैठे हैं ,प्यार संजोये अपनों का
    शरद देश की इक-इक गलियां हमको रोज बुलाती हैं
    आदरणीया शरद जी ,
    ह्रदय को छू गयी आपकी सुन्दर ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  38. हिंदी ब्लागिंग : स्वरूप, व्याप्ति और संभावनाएं '' -दो दिवशीय राष्ट्रीय संगोष्ठी
    प्रिय हिंदी ब्लॉगर बंधुओं ,
    आप को सूचित करते हुवे हर्ष हो रहा है क़ि आगामी शैक्षणिक वर्ष २०११-२०१२ के जनवरी माह में २०-२१ जनवरी (शुक्रवार -शनिवार ) को ''हिंदी ब्लागिंग : स्वरूप, व्याप्ति और संभावनाएं '' इस विषय पर दो दिवशीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की जा रही है. विश्विद्यालय अनुदान आयोग द्वारा इस संगोष्ठी को संपोषित किया जा सके इस सन्दर्भ में औपचारिकतायें पूरी की जा रही हैं. के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय के हिंदी विभाग द्वारा आयोजन की जिम्मेदारी ली गयी है. महाविद्यालय के प्रबन्धन समिति ने संभावित संगोष्ठी के पूरे खर्च को उठाने की जिम्मेदारी ली है. यदि किसी कारणवश कतिपय संस्थानों से आर्थिक मदद नहीं मिल पाई तो भी यह आयोजन महाविद्यालय अपने खर्च पर करेगा.

    संगोष्ठी की तारीख भी निश्चित हो गई है (२०-२१ जनवरी २०१२ ) संगोष्ठी में अभी पूरे साल भर का समय है ,लेकिन आप लोगों को अभी से सूचित करने के पीछे मेरा उद्देश्य यह है क़ि मैं संगोष्ठी के लिए आप लोगों से कुछ आलेख मंगा सकूं.
    दरअसल संगोष्ठी के दिन उदघाटन समारोह में हिंदी ब्लागगिंग पर एक पुस्तक के लोकार्पण क़ी योजना भी है. आप लोगों द्वारा भेजे गए आलेखों को ही पुस्तकाकार रूप में प्रकाशित किया जायेगा . आप सभी से अनुरोध है क़ि आप अपने आलेख जल्द से जल्द भेजने क़ी कृपा करें .
    आप सभी के सहयोग क़ी आवश्यकता है . अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें


    डॉ. मनीष कुमार मिश्रा
    के.एम्. अग्रवाल महाविद्यालय
    गांधारी विलेज , पडघा रोड
    कल्याण -पश्चिम
    pin.421301
    महाराष्ट्र
    mo-09324790726
    manishmuntazir@gmail.com
    http://www.onlinehindijournal.blogspot.com/ http://kmagrawalcollege.org/

    उत्तर देंहटाएं
  39. ∎ रश्मि प्रभा जी
    ∎ मनोज कुमार जी
    ∎ अरविन्द शुक्ल जी
    ∎ सुरेन्द्र सिंह‘झंझट’जी
    ∎ मनीष कुमार मिश्रा जी

    .......आप सभी को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  40. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  41. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।

    वाह ...बहुत ही सुन्‍दर बात कही है आपने इन पंक्तियों में इस बेहतरीन रचना के लिये बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  42. मनोभावों का क्या खूब रेखांकन किया है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  43. मेरे मन की बात कह रही है आपकी कलम..

    उत्तर देंहटाएं
  44. गजल में प्रवासी भारतीयों की मानसिकता बहुत ही सजीवता के साथ उत्कीर्ण की गयी है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहुत सुंदर चित्र खींचा है शरद जी आपने प्रवासी मन का, मुझे तो आज ही यह ब्लाग मिला और पढ़कर खुशी हुई कि आप साइबर दुनिया में आ गयीं। आप नवगीतों के वरिष्ठ रचनाकारों में से हैं, एक ब्लाग नवगीतों को जरूर बनाएँ फिर हम उसको नवगीत की पाठशाला से जोड़ देंगे। यह लिंक भी देखियेगा। http://www.navgeetkipathshala.blogspot.com/ मुझे याद रखने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  46. पूर्णिमा वर्मन जी,
    मेरी रचना को पसन्द किया आभारी हूं। हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा. सम्वाद बनाए रखें।

    आप एक बहन, एक मित्र की भांति सदा मेरी स्मृति में रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  47. ❖ सदा जी
    ❖ अमृता तन्मय जी़
    ❖ समीर लाल जी
    ❖ परशुराम राय जी

    .......आप सभी को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  48. आपने मन की बात कह दी ,सच में अक्सर ही ऐसा लगने लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  49. धन्यवाद एवं सुन्दर हिंदी-सृजनात्मकता के लिए भी आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  50. kaisa hoga suraj chanda kaisa khilta hoga.....pardesh me aakar ham anjaan rahte hain,subah kab hoti hai,shaam kab,pataa nahin chalta !

    उत्तर देंहटाएं
  51. बेहद मर्मस्पर्शी एवं सटीक भावों की प्रस्तुती है यह कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  52. प्रतिभा सक्सेना जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  53. अरविंद पाण्डेय जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें। हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  54. संतोष त्रिवेदी जी,
    आपने सही कहा...मन के भीतर विचार चलते हैं लेकिन जीवन व्यस्त रहता है।

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें। हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  55. विजय माथुर जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  56. बचपन के साथी सब छूटे, छूट गये सहपाठी भी
    बंद क़िताबों में छूटी जो, सतरें बहुत रुलाती हैं।
    ...बहुत अच्छा.

    उत्तर देंहटाएं
  57. उदगार जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  58. काश ! हमारे भी पर होते, जब चाहे हम उड़ पाते
    रोज़ हमारी ये इच्छायें हमको बहुत सताती हैं।
    sabke dil ki baat kah dali aapne ,maja aa gaya padhkar .ati sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  59. सार्थक रचना
    सुन्दर प्रस्तुति!
    परदेस में रहने वाले के मन के भावों की प्रस्तुती है यह कविता...
    आपने मेरे मन की बात कही है इन पंक्तियों में !!
    बहुत बहुत धन्यवाद.....मुझे याद रखने के लिये ।
    यह लिंक भी देखियेगा.....
    my daughter's blog-http://limitlesky.blogspot.com
    my punjabi blog- http://punjabivehda.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं
  60. ज्योति सिंह जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  61. डॉ. हरदीप संधु जी,
    आप एक बहन, एक मित्र की भांति सदा मेरी स्मृति में रहती है।
    मेरी रचना को पसन्द किया आभारी हूं। हार्दिक धन्यवाद!
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!
    आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा... सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  62. ਸੰਦੀਪ ਸੀਤਲ ਚੌਹਾਨ ਜੀ,
    ਹੌਸਲਾ ਅਫਜਾਈ ਲਈ ਧੰਨਵਾਦ....
    ਆਪਣੇ ਬਲੋਗ ਪਜ ਦੇਖ ਕੇ ਚੰਗਾ ਲਾਗਿਯਾ.
    your always welcome.

    उत्तर देंहटाएं
  63. होली की अपार शुभ कामनाएं...बहुत ही सुन्दर ब्लॉग है आपका....मनभावन रंगों से सजा...

    उत्तर देंहटाएं
  64. संतोष कुमार झा,
    मेरे ब्लॉग को पसन्द किया आभारी हूं। हार्दिक धन्यवाद!
    आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा... सम्वाद बनाए रखें....
    मेरे सभी ब्लॉग्स पर आपका सदा स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  65. बहुत ही खूबसूरत अंदाज़ की शायरी है...मुबारकबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  66. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

    रंग के त्यौहार में
    सभी रंगों की हो भरमार
    ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
    यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

    आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो।

    उत्तर देंहटाएं
  67. शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' जी,
    मेरी रचना को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  68. वाह...... ग़ज़ल को पढ़कर कानों में जगजीत की आवाज़ खनकने लगी, "हम तो हैं परदेश में.... देश में निकला होगा चाँद."
    आदरणीय शरदजी,
    यदि आदेश हो तो आंच में इस ग़ज़ल पर बात की जाए.... ?

    उत्तर देंहटाएं
  69. करण समस्तीपुरी जी,
    मेरी रचना को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद!
    आपने लिखा है कि-‘यदि आदेश हो तो आंच में इस ग़ज़ल पर बात की जाए.... ?’
    कृपया ‘आंच’ के संबंध में जानकारी देने का कष्ट करें।

    उत्तर देंहटाएं
  70. agar beete din achchhe hon to unki yaad bahut taklif deti hai, visheshkar pardesh mein. Bahut sundar aur man ko chhu jane wali rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  71. mera dil kholkar rakh diya aapne...bahut achi lagi ye gazal..bahut2 badhai..

    उत्तर देंहटाएं